comScore

शहर की हर गतिविधियों पर सीसीटीवी की नजर, नागपुर को मिला सेफ एंड स्मार्ट सिटी पुरस्कार

शहर की हर गतिविधियों पर सीसीटीवी की नजर, नागपुर को मिला सेफ एंड स्मार्ट सिटी पुरस्कार

 डिजिटल डेस्क, नागपुर । स्मार्ट एंड सस्टेनेबल सिटी डेवलपमेंट काॅर्पोरेशन लिमिटेड के नागपुर सेफ एंड स्मार्ट सिटी उपक्रम को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया गया है। दिल्ली में स्मार्ट सिटी एम्पाॅवरिंग इंडिया कार्यक्रम में केंद्रीय गृह निर्माण राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी के हाथ स्मार्ट सिटी चीफ नॉलेज ऑफिसर शुभांगी गाढ़वे को पुरस्कार से नवाजा गया। स्मार्ट सिटी योजना अंतर्गत शहर के 671 चौराहों पर 3600 सीसीटीवी लगाए गए हैं। शहर की हर गतिविधियों की निगरानी सीसीटीवी से हो रही है। शहर में कोई भी आपराधिक घटना होने पर सीसीटीवी के फुटेज खंगालकर गुनाहगारों को खोजने में पुलिस को मदद मिल रही है।

महापौर-आयुक्त ने किया स्वागत
नवंबर 2019 में पुरस्कार के लिए प्रस्ताव पेश किया गया था। स्मार्ट सिटी के तत्कालीन मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. रामनाथ सोनवने ने निर्णयकोंं के सामने दिसंबर 2019 में प्रकल्प का प्रेजेंटेशन दिया था। सीसीटीवी के अतिरिक्त शहर में 1 लाख 36 हजार एलईडी स्ट्रीट लाइट लगाई गई हैं। आपली बस के 227 बसों में जीपीएस सिस्टम लगाए गए हैं। महापौर संदीप जोशी और मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे ने स्मार्ट सिटी टीम का स्वागत किया।

महाराष्ट्र: 10वीं परीक्षा में दीवार फांद कर चिट पकड़ाते रहे लोग, देखें वीडियो

40 हजार से ज्यादा की लिस्ट लगी, पर किसान ही नहीं पहुंचे
महात्मा ज्योतिबा फुले कर्जमुक्ति योजना के तहत सरकार ने जिले के 50232 किसानों काे कर्जमाफी दी और इनमें से 40 हजार 90 किसानों की सूची भी बैंकों, तहसील कार्यालय व ग्राम पंचायतों में लगा दी है। विशेष बात यह है कि इनमें से केवल 15107 ही ऐसे किसान हैं, जिन्होंने अपना वेरिफिकेशन कराया है। 15107 किसानों के बैंक खाते में कर्ज माफी की राशि पहुंच गई, जबकि करीब 25 हजार किसानों को सरकार को इंतजार है।  राज्य सरकार ने किसानों को 2 लाख तक की कर्जमाफी दी है। इसके लिए एक पोर्टल तैयार किया है। किसानों को किसी के पास जाने की जरूरत नहीं है।

पोर्टल ने खुद ही जांच पड़ताल कर पात्र किसानों की सूची जाहिर की है। प्रशासन की तरफ से पात्र किसानों की सूची बैंक, तहसील कार्यालय व संबंधित ग्राम पंचायतों में लगाई गई है। किसानों को केवल बैंक या आपले सरकार केंद्र में आधार कार्ड व पासबुक की फोटो कापी ले जाकर वेरीफाई करना है। वेरिफिकेशन होने के 24 घंटे बाद ही कर्जमाफी की राशि किसान के खाते में जमा हो जाएगी। अब तक 15107 किसानों का वेरिफिकेशन हुआ है। करीब 25 हजार किसानों का वेरिफिकेशन अब तक नहीं हुआ है। जिला अग्रणी बैंक के प्रबंधक विजयसिंह बैस ने कहा कि वेरिफिकेशन पूरा होने के 24 घंटे बाद सीधे खाते में कर्जमाफी की राशि जमा हो जाएगी। किसानों को आधार व पासबुक ले जाकर वेरिफिकेशन करने का आह्वान उन्होंने किया। 
 

कमेंट करें
rwgGf