comScore

विदर्भ में फिर बरसेंगे बादल! बारिश से किसानों की हालत हुई पस्त

विदर्भ में फिर बरसेंगे बादल! बारिश से किसानों की हालत हुई पस्त

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सोमवार को धूम खिल उठी। दोपहर एक बजे तक मौसम में थोड़ी गर्मी रही। इससे पहले रविवार सुबह से कभी धूप तो कभी छांव की स्थिति बनी रही। तेज हवा के साथ दोपहर को अचानक कुछ समय के लिए बारिश आई और फिर रुक गई। ऐसी स्थिति 2-3 बार बनी। इस कारण उमस बनी रही। शाम ढलते ही मौसम में फिर ठंडक घुल गई। बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र का असर सोमवार को भी रहेगा, लेकिन हल्का। इसका असर 13 और 14 अक्टूबर को जिले में पूरी तरह दिखाई देगा। मौसम विभाग ने कुछ स्थानों पर अच्छी बारिश का अनुमान जताया है। रविवार को हुई बारिश शाम तक 19.2 मिलीमीटर दर्ज की गई।

तापमान

रविवार को 0.7 डिग्री सेल्सियस की गिरावट होने से अधिकतम तापमान 32.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 0.6 डिग्री सेल्सियस कम है। इसी तरह 2.2 डिग्री सेल्सियस की बढ़त होने से न्यूनतम तापमान 25.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 4.2 डिग्री सेल्सियस अधिक है। 

अनुमान

मौसम विभाग के अनुसार, पश्चिम बंगाल में बनने वाले कम दबाव के क्षेत्र का असर 15 अक्टूबर तक गरज-चमक के साथ बारिश के रूप में देखने को मिल सकता है।  

बिजली गिसने से 3 महिला मजदूर मृत

शिवा-रिंगणाबोडी  गांव के बीच एलकापार शिवार में रविवार की शाम 6.30 बजे  के दौरान वज्रपात से तीन महिला मजदूरों की मौत हो गईं, जबकि दो घायल हैं।  रिंगणाबोडी के पुलिस पाटील संजय नागपुरे ने बताया कि श्रावण इंगले  के खेत में अचर्णा उमेश  तातोडे (36), शारदा  दिलीप  उईके (40), संगीता  गजानन मुंगभाते (35), पंचफुला  आसोले (60), सत्यभागा श्रावण इंगले (45) कपास चुन रहीं थीं। अचानक तूफानी  हवाओं के साथ भयंकर मेघगर्जना के बीच वज्रपात होने से पांचों  महिलाएं गंभीर रूप से घायल हो गईं। पांचों महिलाओं को तुरंत डिगडोह के लता मंगेशकर हाॅस्पिटल ले जाया गया। अर्चना  तातोडे, शारदा ऊईके तथा संगीता मुंगभाते को नहीं बचाया जा सका। पंचफुला आसोले तथा सत्यभागा इंगले घायल हैं। जानकारी मिलते ही कोंढाली के थानेदार श्याम गव्हाने, उपनिरीक्षक राम ढगे तथा हेड कांस्टेबल किशोर  लोही  घटनास्थल  पर पहुंचे और फिर वहां से वे लता मंगेशकर हाॅस्पिटल पहुंचे। पंचनामा कर मामले की जांच की जा रही है।

अरुणावती बांध के पांच गेट 25 सेमी. तक खोले

अमरावती, यवतमाल, चंद्रपुर. अमरावती, यवतमाल तथा चंद्रपुर में शनिवार देर रात तथा रविवार को कई स्थानों पर झमाझम बारिश हुई। जिसकी वजह से यवतमाल जिले के अरुणावती बांध के पांच गेट 25 सेमी. तक खोल दिए गए।

अमरावती शहर के साथ ही जिले के ग्रामीण अंचल में रविवार दोपहर जोरदार बारिश होने से जनजीवन प्रभावित हुआ। जिल की चिखलदरा, धारणी, अंजनगांव सुर्जी, दर्यापुर, भातकुली, चांदुर रेलवे तथा धामणगांव रेलवे तहसील में तेज हवाओं के साथ बारिश होती रही। खेतों में काटकर रखी सोयाबीन की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा। बारिश करीब एक घंटे तक हुई। नदी-नालों का जलस्तर बढ़ गया।

धामणगांव तहसील के ग्राम जलगांव मंगरूल में गाज गिरने से खेत में काम कर रहीं तीन महिलाएं बेहोश हो गईं।

यवतमाल शहर के साथ ही नेर, दारव्हा, आर्णी, दिग्रस, पुसद, उमरखेड़, महागांव तहसील में जोरदार बारिश होने से अरुणावती बांध के पांच दरवाजे शाम 5 बजे 25 सेंमी. तक खोल दिए गए। नदी तट पर बसे गांववालों को सतर्कता बरतने की चेतावनी दी गई है। फसलों का नुकसान होने की भी खबर है।

चंद्रपुर शहर में शाम 6 बजे के आसपास झमाझम बारिश हुई। शनिवार देर रात भी जिले के जिवती, राजुरा व कोरपना क्षेत्र में जोरदार वर्षा से फसलों का बड़े पैमाने पर नुकसान होने की जानकारी मिली है।


वाशिम जिले में किसानों को रुला गई बारिश

वाशिम जिले में जोरदार बारिश हुई। जिससे पुन: सर्वेक्षण कर नुकसान प्रभावित किसानों को भरपाई देने की मांग ज़ोर पकड़ने लगी। हताश हो चुके किसानों ने कटाई पर आई सोयाबीन की खड़ी फसल पर रोटावेटर चला दिया। शनिवार शाम लगभग आधा घंटा और रविवार को सुबह 7:30 से 9:30 बजे तक हुई ज़ोरदार बारिश ने किसानो की कमर टोड़ दी। 

कारंजा लाड तहसील में गिरी गाज- 2 की मौत, 3 घायल

उधर कारंजा लाड तहसील में बारिश के दौरान गाज गिरने से 2 किसानों की मौत हो गई। 3 घायल घायल हो गए। घायलों को कारंजा उपजिला अस्पताल में भर्ती किया गया। मौसम विभाग ने आगामी दो-तीन दिनों में और बारिश की संभावना जताई है। जिला प्रशासन ने सतर्क रहने की चेतावनी भी दी है। 


 

कमेंट करें
o85fJ
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।