दैनिक भास्कर हिंदी: स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग की बैठक में क्या बोले कलेक्टर गढ़पाले ?

August 28th, 2017

डिजिटल डेस्क,कटनी। जिले में राजस्व अधिकारी जिला अस्पताल की सख्ती से मॉनिटरिंग कर रहे हैं। रविवार को स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग की संयुक्त समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में कलेक्टर विशेष गढ़पाले के तीखे तेवर देखने को मिले।

दरअसल स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग की संयुक्त समीक्षा मीटिंग में गढपाले को मीटिंग में कुछ डॉक्टर्स अनुपस्थित मिले। कलेक्टर ने CMHO से उन पर कार्रवाई कर एक्शन टेकन रिपोर्ट सौंपने की बात कही। कलेक्टर ने कहा कि संवेदनशीलता के साथ विभागीय अमला अपने दायित्वों का निर्वहन करें। CMHO यह सुनिश्चित करें कि बायोमैट्रिक मशीन और फील्ड के अमले की लोकसेवक एप की रिपोर्टिंग के आधार पर ही वेतन का आहरण हो। जिसने काम नहीं किया उसे अवैतनिक करें। कलेक्टर ने कहा कि दोनों ही विभागों के जिस मैदानी अमले ने काम में कोताही बरती हो, उसे बचाने का कोशिश न की जाए। अगर ऐसा होता है तो वरिष्ठों पर कार्रवाई करने में भी मैं कोई कोताही नहीं बरतूंगा।

प्रसव की खराब परफार्मेंस पर नाराजगी
संस्थागत प्रसव की खराब परफॉर्मेन्स पर कछारगांव के सेक्टर के BMO को कलेक्टर ने जमकर फटकारा। कलेक्टर ने कहा कि 18 सितंबर को CMHO और कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास में आज तक किए गए दौरों में दिए गए निर्देशों पर क्या कार्रवाई हुई। उसका खाका लेकर आएं। महज शोकाज नोटिस जारी कर दिया, यह कार्रवाई नहीं है। मुत्यु की रिपोर्ट की एनालेसिस रिपोर्ट सिविल सर्जन मुझे हमेशा जल्दी भेजा करें। प्रसूती सहायता के प्रकरणों का भौतिक सत्यापन कर लें। किसी भी स्तर पर प्रकरण लंबित ना रहें, यह संबंधित अधिकारी सुनिश्चित करें। इस दौरान कलेक्टर ने रिपोर्टेड प्रसव के खिलाफ जीरो डोज, संस्थावार एएनसी और टीकाकरण, प्रसव व एएनसी, एनआरसी में बेड एक्युपेन्सी, फॉलोअप, आशा चयन प्रक्रिया, कुष्ट नियंत्रक कार्यक्रम, राष्ट्रीय दृष्टिबाधिता नियंत्रण कार्यक्रम और दस्तक अभियान की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने मलेरिया अधिकारी से जिले में मलेरिया के प्रकरणों की समीक्षा भी की।