comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

30 लाख की नकदी से भरा एटीएम का कैश बॉक्स उखाड़ ले गए बदमाश 

September 28th, 2019 14:33 IST
30 लाख की नकदी से भरा एटीएम का कैश बॉक्स उखाड़ ले गए बदमाश 

डिजिटल डेस्क सतना। जिले के अमरपाटन में बीती रात अज्ञात बदमाश एसबीआई के एक एटीएम बूथ का सेफ बोल्ट (कैश बॉक्स) उखाड़ ले गए। इस कैश बॉक्स में तकरीबन 30  लाख रुपए की नकदी थी। अज्ञात आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा-380 के तहत अपराध कायम किया गया है। पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने आशंका जताई कि वारदात में किसी अंतरराज्यीय गैंग का हाथ हो सकता है। बदमाशों की तलाशी के लिए साइबर के अलावा पुलिस की 2 अलग-अलग पार्टियां बनाई गई हैं। इस एटीएम के मेंटीनेंस का जिम्मा एफएसएस (फाइनेंशियल साफ्टवेयर एंड सिस्टम्स) के पास है। एफएसएस के डिवीजनल चैनल मैनेजर आशीष शर्मा को बूथ में एरर का एसएमएस रात तकरीबन 1 बज कर 46 मिनट पर मिला था। जाहिर है, वारदात को इसी वक्त अंजाम दिया गया। खबर पर डीआईजी अविनाश शर्मा ने भी शुक्रवार को घटना स्थल का निरीक्षण किया।  
स्कार्पियो से टोचन कर बूथ से खींच ली मशीन 
माना जा रहा है कि बीती रात तकरीबन डेढ़ बजे अज्ञात बदमाशों ने अमरपाटन में सतना रोड स्थित एसबीआई के एटीएम बूथ की सेफ बोल्ट (कैश बॉक्स) को मजबूत रस्से से बगैर नंबर की सफेद रंग की स्कार्पियो से बांधा और तेजी के साथ गाड़ी आगे बढ़ा दी। लगभग ढाई क्ंवटल वजन की मशीन को बदमाश स्कार्पियो की मदद से लगभग 400 मीटर तक खींच ले गए। मशीन इतनी ताकत से खींची गई थी कि बूथ का गेट भी टूट कर बाहर आ गया। 30 लाख की नकदी से भरा कैश बॉक्स लेकर बदमाश किधर गए, इस बात का पता नहीं चल पाया है। घटना स्थल का निरीक्षण करने के बाद एसपी ने भी माना कि एटीएम बूथ रिजर्व बैंक आफ इंडिया के तय पैमाने पर स्थापित नहीं था। नियमों के तहत किसी भी एटीएम बूथ को 6 फिट की कांक्रीट से स्थापित किया जाना चाहिए था। मगर, ये बूथ महज 12-12 इंच के आधा दर्जन नट से कसी थी। एटीएम बूथ में गार्ड की भी ड्यूटी नहीं थी।   
 सीसीटीवी कैमरों पर ब्लैक कलर का स्प्रे 
वारदात में शामिल गिरोह किस कदर पेशेवर था इसका अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि कैश बॉक्स को स्कार्पियो से टोचन कर निकालने से पहले बदमाशों ने बूथ पर लगे दोनों सीसीटीवी कैमरों पर ब्लैक कलर के स्प्रे कर दिए थे। इसी वजह से दोनों कैमरे बेकाम हो गए थे। जानकारों ने बताया कि एटीएम के सेफ बोल्ट में ही सीसीटीवी कैमरों का डीवीआर होता है। जिसमें रिकार्डिग होती है। सेफ बोल्ट बदमाशों के हाथ लगने के बाद अब रिकार्डिंग भी बदमाशों के ही पास है। इन्हीं जानकारों ने ये भी बताया कि किसी भी एटीएम के सेफ बोल्ट को मौके पर ही गैस कटर से काटना आसान नहीं होता है, क्योंकि सेफ बोल्ट को बनाने में प्रयुक्त इस्पात  सेल (स्टील अथारिटी आफ इंडिया) के तय मापदंडों पर आधरित होता है।  
 एक दिन पहले डाली गई थी 23 लाख की रकम 
 बैंक सूत्रों ने बताया कि घटना के एक दिन पहले ही अमरपाटन में सतना रोड स्थित एसबीआई के एटीएम बूथ में 23 लाख रुपए की रकम की फीडिंग की गई थी। जबकि पहले से ही इसमें 6 लाख 55 हजार रुपए की राशि का बैलेंस था। माना रहा है कि अज्ञात बदमाशों ने  लगभग 29 लाख 55 हजार 400 रुपए की रकम पार कर दी है। पुलिस इस तथ्य का भी पता लगा रही है कि कहीं बड़ी रकम की फीडिंग में शामिल किसी कर्मचारी के तार इस गिरोह से तो जुड़े हुए नहीं हैं? आशंका इस तथ्य की भी ज्यादा है कि वारदात में शामिल गिरोह का संबंध हरियाणा से भी हो सकता है? 
संदिग्ध स्थितियों में देखी गई थी स्कार्पियो 
पुलिस की पूछताछ में ये तथ्य सामने आया है कि बीती रात डेढ़ बजे से दो बजे के बीच जिस स्कार्पियों से एटीएम मशीन को बांध कर उखाड़ा गया। वही स्कार्पियो सतना रोड स्थित घटनास्थल पर रात पौने 12 बजे से सक्रिय हो गई थी। पुलिस ने स्कार्पियों की तस्दीक के लिए इलाके के सीसीटीवी फुटेज भी तलब किए हैं। माना जा रहा है कि वारदात में प्रयुक्त स्कार्पियो बगैर नंबर की थी। एसपी श्री इकबाल के निर्देश पर अमरपाटन के थाना प्रभारी राजेन्द्र मिश्रा ने घटना स्थल से संबंधित 10 दिन के सीसीटीवी फुटेज के साथ बैंक मैनेजर को तलब किया है। आशंका है कि पेशेवर गिरोह ने इस वारदात को अंजाम देने के लिए कम से कम 10 दिन तक रैकी की थी। 
 

कमेंट करें
MyBhl
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।