comScore

मकर संक्रांति थीम पर दैनिक भास्कर किटी का आयोजन, रंजीता के नाम बेस्ट ड्रेस का खिताब

मकर संक्रांति थीम पर दैनिक भास्कर किटी का आयोजन, रंजीता के नाम बेस्ट ड्रेस का खिताब

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  दैनिक भास्कर किटी का आयोजन किटी होस्ट अंजू राय द्वारा होटल सरस्टार में किया गया। मकर संक्रांति के उपलक्ष्य में आयोजित किटी में सभी ने एक-दूसरे को हल्दी-कुमकुम लगाया और वाण दिया। इसके साथ ही तिल गुड़ देकर ‘गोड़-गोड़’ बोलने को कहा गया। किटी में मनोरंजक गेम्स का भी आयोजन किया गया, जिसमें काला चष्मा गेम खास रहा। किटी में बेस्ट ड्रेस का खिताब रंजीता शिवहरे के नाम रहा। किटी में महिलाओं ने उखाणे भी लिए। हॉल की सजावट संक्रांति को ध्यान में रखकर की गई, जिसमें दीवार पर छोटी-छोटी काइट बनाकर लगाई गईं। ऑरेंज सिटी लेडीज ग्रुप द्वारा आयोजित किटी में महिलाओं ने फुल टू धमाल किया। किटी में काला चष्मा गेम खेला गया, जिसमें सिर के पीछे लगाकर उसमें कार्ड फंसाना था। साथ ही खिचड़ी पतंग गेम  में सभी ने एंजॉय किया। फिर सभी ने अपने पति का नाम लेते हुए उखाणे भी लिए। किटी में बेस्ट ड्रेस का खिताब रंजीता शिवहरे को दिया गया। काला चष्मा गेम में कल्पना चाैकसे, खिचड़ी-पतंग गेम में सरोज राय, उखाणे में भूमिका राय और लता राय विनर रहीं। लेडीज महाराष्ट्रीयन नव्वारी साड़ी में नजर आईं।
 

मंच पर दिखी भारतीय संस्कृति की झलक

इसके अलावा मनमोहक लोकनृत्य की प्रस्तुतियों ने 27वें ऑरेंज सिटी क्रॉफ्ट मेले की शाम को खुशनुमा बना दिया। राजस्थान से आए जैसलमर और बाड़मेर जिलों के लोक गायक मांगनीयर ने अपने गायन से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। इसके पश्चात भगवान शिव से संबंधित वेद पुराण की कहानी पर आधारित आंध्र प्रदेश का अत्यंत प्रचलित लोक नृत्य वीरनाट्यम की प्रस्तुति दी गई। दक्षिण मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, नागपुर द्वारा मेले का आयोजन किया गया है। मेले के दूसरे दिन  दर्शकों की भीड़ नजर आई। परिसर में टेरा कोटा, पौट्री, फर्नीचर, कारपेट, हैंडलूम, ज्वेलरी, पेपर मैशिंग, मेटल क्रॉफ्ट, ग्लास क्रॉफ्ट, पंजाबी जूती, फुलकारी, चंदेरी साड़ी, पैठनी साड़ी, बनारसी साड़ी, जरी वर्क, मैट वेविंग, वुडन क्रॉफ्ट, बेल मेटल, जूट क्रॉफ्ट, खादी, कलमकारी प्रिंटिंग, लेदर पपेट  हस्तशिल्प की प्रदर्शनी भी लगाई गई है। मेले में बहुरूपियों को एवं नट करतब देखकर दर्शक काफी आनंिदत नजर आए। 
लोकनृत्य अंतर्गत ओडिशा के समुद्र तटवर्ती क्षेत्र गंजाम जनपद का प्रसिद्ध रणप्पा नृत्य पेश किया गया।  फिर  मध्य प्रदेश का संजा लोकनृत्य एवं अरुणाचल प्रदेश के रिकमपाड़ा पारंपरिक नृत्य को प्रस्तुत किया गया। जम्मू-कश्मीर का पहाड़ी नृत्य एवं असम के भोरतल ने अपनी लोकनृत्य से सभी को झूमने पर मजबूर किया।  कार्यक्रम की अंतिम प्रस्तुति महाराष्ट्र के सोंगी मुखौटे से हुई। यह नृत्य चैत्र  पूर्णिमा पर देवी के पूजन के साथ किया जाता है। संचालन कार्यक्रम अधिकारी दीपक कुलकर्णी ने किया। इस अवसर पर दमक्षेसां केंद्र निदेशक डॉ. दीपक खिरवडकर, उपनिदेशक मोहन पारखी, कार्यक्रम अधिकारी दीपक कुलकर्णी,  प्रेमस्वरूप तिवारी,  गोपाल बेतावर,  शशांक दंडे, गणेश थोरात, दीपक पाटिल, श्रीकांत देसाई उपस्थित थे। मेले का उद्घाटन  शुक्रवार को  किया गया। महाराष्ट्र हथकरघा निगम की आयुक्त एवं प्रबंध निर्देशक माधवी खोडे, संस्कार भारती की अध्यक्ष  कांचन गडकरी, सामाजिक कार्यकर्ता  ज्योति बावनकुले, पूर्व महापौर नंदा जिचकार, नागपुर विद्यापीठ की फाइन  आर्ट्स विभाग की विभाग प्रमुख डॉ. मुक्तादेवी मोहिते, केंद्र के पूर्व नियमक मंडल सदस्य  आशुतोष अडोणी  के हस्ते दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया।
 

 

कमेंट करें
QZFwR