दैनिक भास्कर हिंदी: अवैध कारोबार पर लगाम की कवायद- महाराष्ट्र में देशी शराब होगी रंगीन!

April 17th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बर्फ के बाद अब शराब की पहचान भी रंगों के जरिए हो सकती है। अवैध शराब पर लगाम लगाने के लिए द डिस्टिलर्स एसोसिएशन ऑफ महाराष्ट्र ने देशी शराब को रंगीन करने का प्रस्ताव दिया है। संगठन से जुड़े लोगों ने राज्य के उत्पाद शुल्क मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले से मुलाकात की है। साथ ही अब सिर्फ सीलबंद बोतल में देशी शराब बेचने की इजाजत देने का भी फैसला किया गया है।

अवैध शराब के कारोबार पर लगाम लगाने निर्माताओं की मांग 
द डिस्टिलर्स एसोसिएशन ऑफ महाराष्ट्र के प्रतिनिधियों से मुलाकात के बाद बावनकुले ने विभाग में पारदर्शिता लाने के लिए सभी लाइसेंस ऑनलाइन देने के निर्देश दिए। बैठक में देशी शराब का रंग बदलने को लेकर भी चर्चा हुई। फिलहाल देशी शराब सफेद रंग में उपलब्ध कराई जाती है। एसोसिएशन के सदस्यों ने विदेशी शराब की तर्ज पर देशी शराब को भी रंगीन बनाने की वकालत की। उनका तर्क था कि देशी शराब को रंगीन बनाए जाने के बाद अवैध शराब की पहचान आसानी से हो सकेगी। सरकार इस बाबत जल्द ही फैसला ले सकती है। 

देशी शराब होगी सीलबंद 
इसके अलावा बावनकुले ने निर्देश दिए हैं कि अब देशी शराब भी सीलबंद बोतल में ही बेची जाएगी। सार्वजनिक स्थानों पर शराब का सेवन रोकने के लिए यह फैसला किया गया है। फिलहाल सीएल-3 देशी शराब दुकानों में खुले तौर पर उपलब्ध थी। इसके अलावा सीएल-3 और एफएल-2 की दुकाने सुबह आठ बजे से रात 10 बजे तक ही खुले रखने के भी निर्देश दिए गए। इसके अलावा अवैध शराब बनाए जाने के मामलों को पकड़ने के लिए सरपंच और ग्रामरक्षक दल के सदस्यों की सेवा ली जाएगी।