दैनिक भास्कर हिंदी: नए साल में जश्न के दौरान शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों के खिलाफ मामले हुए दर्ज

January 2nd, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। नए साल के जश्न के दौरान शराब पीकर गाड़ी चलाने वाले 455 लोगों के खिलाफ मुंबई पुलिस ने मामले दर्ज किए हैं। हादसों को रोकने के लिए मुंबई पुलिस ने 31 दिसंबर की रात 10 बजे से 1 जनवरी की सुबह छह बजे तक सघन जांच अभियान चलाया। इस दौरान कुल ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन से जुड़े कुल 10690 मामलों में कार्रवाई की है। पिछले साल के मुकाबले इस साल शराब पीकर गाड़ी चलाने के मामलों में कुछ कमी आई है। मुंबई पुलिस ने नए साल के जश्न के दौरान कुल 40 हजार पुलिसकर्मियों को तैनात किया था। इस दौरान विभिन्न ठिकानों पर नाकेबंदी कर 9 हजार 800 लोगों की जांच की गई। जिनमें से 455 लोग नशे में धुत मिले। इसके अलावा 1114 लोगों के खिलाफ तेज रफ्तार या लापरवाही से गाड़ी चलाने के आरोप में जुर्माना वसूला गया है। इसके अलावा 9121 लोगों के खिलाफ ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन जैसे बिना कागजात-लाइसेंस गाड़ी चलाना, बिना हेलमेट दुपहिया चलाना, क्षमता से ज्यादा सवारी, गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करना जैसे मामलों में कार्रवाई की गई है। शराब पीकर गाड़ी चलाते पकड़े गए लोगों से जुर्माना वसूलने के साथ उसने ड्राइविंग लाइसेंस भी जब्त कर लिए गए हैं। बता दें कि परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने सोमवार को ही ऐलान किया था कि शराब पीकर गाड़ी चलाते पकड़े जाने वालों के ड्राइविंग लाइसेंस छह महीने के लिए रद्द कर दिया जाएगा। पिछले साल महानगर में नए साल के जश्न के दौरान शराब पीकर गाड़ी चलाने वाले 615 लोगों के खिलाफ कार्रवाई हुई थी, जबकि इस बार यह संख्या घटकर 455 रह गई है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक यह लगातार चलाए जा रहे जागरूकता अभियान और सख्ती का नतीजा है।  

दस्तीदल की डूबी नाव एक पुलिसकर्मी घायल
नए साल के जश्न के दौरान पर्यटकों की सुरक्षा के लिए समंदर में तैनात एक नाव डूब गई। नाव पर सवार सभी छह पुलिसकर्मियों को सुरक्षित बचा लिया गया, लेकिन उनमें से एक जख्मी हो गया। हादसा गिरगांव चौपाटी के किनारे हुआ। हैरानी की बात ये है कि नाव पर सवार पुलिसकर्मियों के पास लाइफ जैकेट भी नहीं थे। नाव समुद्र में ऊंची उठ रही लहरों के चलते पलटी। किनारे मौजूद लाइफगार्ड प्रतीक वाघ और दूसरे लोगों की मदद से सभी पुलिसकर्मियों को बाहर निकाला गया। 

जश्न की रात में मदहोश 1,045 लोग पकड़े गए, ‘ड्रंक एंड ड्राइव’ की कार्रवाई

उधर उपराजधानी नागपुर में शराबी वाहन चालकों की धरपकड़ जोरों पर रही। सैकड़ों लोगों पर ड्रंक एंड ड्राइव के अलावा अन्य निमयों के तहत कार्रवाई हुई। बतौर जुर्माना भी उनसे लाखों रुपए वूसले गए हैं। कार्रवाई से वाहन चालकों में हड़कंप मचा रहा। कुछ स्थानों पर कार्रवाई को लेकर पुलिस की तू-तू-मैं-मैं भी हुई। इससे तनाव का माहौल भी रहा। कानून व्यवस्था बनी रहे। लोग शांति से नए वर्ष का जश्न मनाए, इसलिए शहर पुलिस और यातायात विभाग ने तगड़ा बंदोबस्त किया था। जिसके चलते शहर के अमूमन हर चौराहे पर पुलिस तैनात थी। इस दौरान यातायात विभाग ने ड्रंक एंड ड्राइव कार्रवाई के दौरान नशे में वाहन चलाने वाले 1,045 लोगों को पकड़ा, जबकि ट्रिपल सीट, सिग्नल तोड़ना, तेज गति से वाहन चलाना आदि नियमों के तहत 882 लोगों को दबोच लिया। कुल 1,927 लोगों पर पुलिस की गाज गिरी। कार्रवाई में जुर्माने के तौर पर उनसे 6 लाख 57 हजार रुपए वसूले गए। इससे एक दिन में इतनी बड़ी राशि पुलिस के खाते में पहुंची है। हालांकि थर्टी फस्ट के पूर्व ही पुलिस ने शहरवासियों को अगाह किया था कि, कानून तोड़ने वालों के खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी। बावजूद नए वर्ष के जश्न में कुछ लोग होश खो बैठे और पुलिस कार्रवाई का सामना करना पड़ा। कार्रवाई के दौरान कुछ स्थानों पर वाहन चालक, पुलिस से भी उलझे। तीखी बहस भी हुई, जिससे कुछ स्थानों पर तनाव का माहौल रहा। बावजूद पुलिस ने सख्ती से कार्रवाई को अंजाम दिया। यह कार्रवाई आगे भी जारी रहने की पुलिस विभाग ने चेतावनी भी लगे हाथ दे दी है, जिससे वाहन चालकों को कानून तोड़ना भविष्य में भी भारी पड़ेगा। सबसे ज्यादा कार्रवाई इंदोरा जोन में हुई। 210 लोगों को पकड़ा गया। उसके बाद दूसरे नंबर पर अजनी जोन रहा, जहां पर 201 लोगों पर कार्रवाई हुई। तीसरे नंबर पर एमआईड़ीसी जोन ने हासिल किया। इस जोन में भी 112 लोगों पर कार्रवाई की गई। चौथे नंबर पर लकड़गंज है, 101 लोगों को कार्रवाई का सामना करना पड़ा। 
 

खबरें और भी हैं...