बेरोजगारों को झांसा : औरंगाबाद-बुलढाणा-जालना सहित कई जिलों में दर्ज है इस ठग के खिलाफ एफआईआर

July 21st, 2022

-    नौकरी दिलाने के नाम पर बेरोजगार युवाओं से करता था ठगी
-    पैसे लेने के बाद सौंप देता था फर्जी नियुक्ति पत्र-पहचान पत्र  

 

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य के कई जिलों में बेरोजगार युवकों को सरकारी नौकरी का झांसा देकर उनसे करोड़ों रुपए की ठगी करने वाले एक 37 वर्षीय आरोपी को मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है। युवकों को शक न हो इसलिए आरोपी उन्हें फर्जी नियुक्ति पत्र और पहचान पत्र भी दे देता था। पकड़े गए आरोपी के खिलाफ मुंबई ही नहीं औरंगाबाद, जालना, बुलढाणा समेत कई जिलों में 15 से ज्यादा धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं। गिरफ्तार आरोपी का नाम संदीप राऊत है। वह मूल रूप से सातारा जिले के वाई का रहने वाला है। आरोपी को 31 वर्षीय व्यक्ति की शिकायत के आधार पर मुंबई के ग्रांट रोड इलाके में स्थित एक गेस्टहाउस से पकड़ा गया। आरोपी ने शिकायतकर्ता और उनके रिश्तेदार को महावितरण कंपनी में नौकरी का वादा कर पैसे लिए और दोनों को नियुक्ति पत्र और पहचान पत्र दे दिया। लेकिन दोनों काम पर पहुंचे तो अधिकारियों ने बताया कि नियुक्ति पत्र फर्जी है। इसके बाद दहिसर पुलिस स्टेशन में मामले की शिकायत दर्ज कराई गई। अपराध शाखा ने समानांतर छानबीन करते हुए आरोपी को दबोच लिया। एसीपी काशीनाथ चव्हाण ने बताया कि तलाशी के दौरान आरोपी के पास से अलग-अलग नामों के 12 पहचान पत्र, 5 नियुक्ति पत्र, 3 मेडिकल फिटनेस प्रमाणपत्र, एस ए पाटील नाम से बने रबर स्टैंप, नकदी समेत कई चीजें बरामद हुई हैं। 

ठगी के बाद बदल देता था इलाका

आरोपी राज्यभर में घूम-घूम कर ठगी की वारदातों में अंजाम देता था। वह पहले किसी इलाके में किराए का घर लेकर रहने जाता और फिर वहां रहने वालों को बता देता कि वह अच्छे संबंधों के दम पर एमएसईबी, उत्पाद शुल्क, ओएनजीसी जैसी कई सरकारी और अर्ध सरकारी कंपनियों में नौकरी लगवा सकता है। भरोसा जीतकर आरोपी लोगों को नियुक्तिपत्र देता और लाखों रुपए लेकर फरार हो जाता। आरोपी के खिलाफ मुंबई के 4, औरंगाबाद-सोलापुर के 3-3, बुलढाणा, जालना, भंडारा, सातारा, कोल्हापुर, रत्नागिरी के पुलिस स्टेशनों में ठगी के 1-1 मामले दर्ज हैं। डीसीपी संग्रामसिंह निशानदार ने कहा कि हमें शक है कि आरोपी ने और बड़ी संख्या में लोगों से ठगी की है इसलिए अगर उनके साथ इस तरह की ठगी हुई है तो शिकायत के लिए लोग पुलिस से संपर्क करें।