comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जबलपुर से अचानक हाथरस कैसे पहुँच गई फोरेंसिक विशेषज्ञ पीडि़ता की नकली भाभी बन लोगों को भड़काने का आरोप

जबलपुर से अचानक हाथरस कैसे पहुँच गई फोरेंसिक विशेषज्ञ पीडि़ता की नकली भाभी बन लोगों को भड़काने का आरोप

मेडिकल कॉलेज की डॉक्टर का हाथरस केस से कनेक्शन
डिजिटल डेस्क जबलपुर ।
देश में हाथरस के जिस रेप केस को लेकर बवाल मचा हुआ है उसका कनेक्शन अब जबलपुर से भी जुड़ गया है। नेताजी सुभाष चन्द्र बोस मेडिकल कॉलेज के फार्मोकोलाजी विभाग की डिमांस्ट्रेटर चिकित्सक डॉ. राजकुमारी बंसल के ऊपर आरोप है कि वे घटना के बाद जबलपुर से हाथरस पहुँचीं और पीडि़ता की नकली भाभी बन गलत बयानबाजी कर लोगों को भड़काया। यही नहीं आरोप यह तक है कि डॉ. बंसल के नक्सली कनेक्शन हैं साथ ही उनके भीम सेना और अन्य ऐसे संगठनों से भी जुड़े होने की चर्चा है जो मौके पर पहुँचकर उग्र प्रदर्शन कर रहे थे। मेडिकल की डॉक्टर का अचानक कैज्युअल लीव लेकर शहर से 750 किलोमीटर दूर पहुँचकर पीडि़त परिवार से मिलना, वहाँ तीन दिन ठहरना कई सारे सवाल खड़े करता है। 
शनिवार दोपहर को जैसे ही यह मामला सामने आया कि उत्तर प्रदेश एसआईटी मेडिकल कॉलेज की डॉक्टर की तलाश कर रही है तो कॉलेज परिसर में हड़कम्प मच गया। इस चर्चा के बाद डॉ. बंसल खुद सामने आईं और उन्होंने अपना पक्ष रखा। मेडिकल के डीन डॉ. प्रदीप कसार का कहना है कि यदि यह कदाचरण का प्रकरण बनता है तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। इस मामले को लेकर कॉलेज में हड़कम्प मचा हुआ है कि कोरोना जैसी महामारी के दौर में सामान्य छुट्टी लेकर मेडिकल की डॉक्टर कैसे हाथरस पहुँची। सीबीआई ने जांच अपने हाथ में ले ली।
मैं फोरेंसिक विशेषज्ञ होने और मानवता के नाते पहुँची- राजकुमारी डॉ बंसल ने हाथरस घटना के बाद मौके  पर अचानक पहुँचने, उनकी भूमिका पर सवाल उठाये जाने पर कहा कि मैं फोरेंसिक की विशेषज्ञ हूँ। हाथरस पहुँचकर देखना चाहती थी कि रेप का केस ऑनर किलिंग में कैसे तब्दील हो रहा है। रपट जो फोरेंसिक की देखना चाहती थी वह नहीं देख सकी। पीडि़त परिवार की आर्थिक मदद की और एक माह की सैलरी भी दी है। मानवता के नाते घटना के बाद मेरा मन कचोट रहा था। इसलिए अचानक मैंने कैज्युअल लीव 3 अक्टूबर को ली और आगरा होते  हुये वहाँ तक पहुँची। परिवार के कहने पर 3 दिनों तक रुकी रही। इस दौरान अनेकों लोगों से चर्चा हुई और संपर्क हुआ। कोरोना महामारी के दौर  में ऐसी संदिग्ध  मानव सेवा को लेकर लगाये जा रहे आरोप पर उन्होंने कहा कि कॉलेज के सामने वे अपना पक्ष रख  देंगी। जो भी बात है उससे अवगत जरूर कराऊँगी। सच्चाई जो है उससे अवगत कराने में मुझे कोई ऐतराज नहीं है। 
सामाजिक संगठनों से जुड़ी हूँ  
नक्सलियों से सम्पर्क की बात पर डॉ. बंसल ने  कहा कि यह केवल आरोप है। कोई कुछ भी आरोप लगा सकता है। यह जरूर है कि मेरे अनेकों  सामाजिक संगठनों से वर्ष 2018 से संबंध हैं और मैं सोशल वर्क से भी जुड़ी हुई हूँ। किसी तरह से दंगा भड़काने की साजिश रचने, नकली भाभी बनने, नक्सल संबंध यह कोई जबरन आरोप लगा दे तो कोई क्या कर सकता है।
उत्तर प्रदेश एसआईटी का आया था फोन 
डॉ. बंसल के पास गत दिवस एसआईटी के अधिकारियों का फोन आया था, जिसमें उन्होंने पूछा कि वे किस विधा की डॉक्टर हैं। कहीं पीएचडी तो नहीं किया। तब डॉक्टर ने बताया कि मूल रूप से वे चिकित्सक हैं। पुलिस ने उन्हें फोन पर संपर्क में रहने की हिदायत दी है। वैसे हाथरस में मौजूद रहने के दौरान पुलिस की उन पर नजर थी ।
पति निश्चेतना विशेषज्ञ खुद डिमांस्ट्रेटर 
डॉ. बंसल के पति मेडिकल कॉलेज में ही निश्चेतना विशेषज्ञ हैं। उनका नाम इंदर देव है। एक बेटा और खुद फोरेंसिक से एमडी लेकिन नौकरी फार्मोकालेजी विभाग में वर्ष 2018 से डिमांस्ट्रेटर के पद पर कार्य कर रही हैं। उन्होंने जबलपुर में ग्रेजुएशन किया और एमडी इंदौर से की है। 
 

कमेंट करें
wE7Py
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।