comScore

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत नि:शुल्क कोचिंग बनी वरदान

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत नि:शुल्क कोचिंग बनी वरदान

डिजिटल डेस्क सतना। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजनातंर्गत पुलिस भर्ती के लिए नि:शुल्क कोचिंग देने के लिए चलाया जा रहा सशक्त वाहिनी अभियान युवतियों, बालिकाओं के कॅरियर निर्माण में वरदान साबित हो रहा है। यह प्रशिक्षण प्राप्त करने पर ही देशभक्ति और जनसेवा की भावना के साथ जिले की तीन युवतियां पुलिस एवं अद्र्धसैनिक बल में भर्ती होकर अपना कॅरियर बना चुकी हैं। इन युवतियों का कहना है कि विभिन्न कोचिंग सेंटरों के जरिए लिखित परीक्षा पास करने का प्रशिक्षण तो हासिल किया जा सकता है, लेकिन शारीरिक प्रवीण्यता का प्रशिक्षण अन्य कोई संस्था नहीं दे सकती। 
किसने-किसने मारी बाजी
हासिल जानकारी के मुताबिक नागौद तहसील अंतर्गत हिलौंधा निवासी रीना लोधी का रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) में आरक्षक पद पर चयन हुआ है जबकि इसी तहसील के सेमरवारा गांव की रहने वाली नेहा सिंह परिहार और रामपुर बघेलान विकासखण्ड अंतर्गत पडख़ुरी निवासी सुधा कुशवाहा को एसएससी जीडी पद पर चयन किया गया है। महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी सौरभ सिंह के अनुसार अक्टूबर 2017 से यह प्रशिक्षण प्रारंभ किया गया था। 5 बैचो में अब तक संपन्न हुए प्रशिक्षण के माध्यम से 250 युवतियों को कुशल प्रशिक्षकों ने प्रशिक्षण दिया। इनमें से अभी तक 3 युवतियों का पुलिस एवं अद्र्धसैनिक बल में चयन भी हो गया है। 
महिला पुलिस भर्ती प्रशिक्षण का पंजीयन 14 तक
इस योजना के तहत चल रही नि:शुल्क कोचिंग में पढऩे के लिए बालिका/युवती की उम्र 18 से 28 वर्ष के बीच होना जरूरी है। इन्हें तीन माह का शारीरिक प्रवीण्यता तथा लिखित परीक्षा का प्रशिक्षण दिया जाता है। शारीरिक तथा शैक्षणिक योग्यता पूर्ण करने वाली युवतियों-महिलाओं को 3 माह का प्रशिक्षण एवं लिखित परीक्षा की तैयारी के लिए 14 अक्टूबर तक उनका पंजीयन सुबह साढ़े 10 बजे से शाम साढ़े 5 बजे तक जिला बाल संरक्षण अधिकारी कार्यालय मास्टर प्लान सिविल लाइन में किया जाएगा। श्री सिंह ने बताया कि पुलिस भर्ती का प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए जिले के दूर-दराज के क्षेत्रों से बड़ी संख्या में युवतियां, बालिकाएं आती हैं। प्रशिक्षण हासिल करने के बाद निर्धारित योग्यता रखने वाली युवतियां पुलिस/सेना की भर्ती प्रक्रिया में शामिल होकर सफलता हासिल कर सकती हैं।
 

कमेंट करें
VOXWs
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020 : कॉन्डम की मदद से ओलंपिक में जीता मेडल, ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी का बड़ा खुलासा

Tokyo Olympics 2020 : कॉन्डम की मदद से ओलंपिक में जीता मेडल, ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी का बड़ा खुलासा

डिजिटल डेस्क, टोक्यो। ऑस्ट्रेलिया की जेसी फॉक्स ने टोक्यो ओलंपिक्स 2020 में कांस्य पदक जीता है, लेकिन किसी को शायद ही अंदाजा होगा कि इन्होंने कैनो स्लेलम में इस्तेमाल होने वाले कायक बोट को ठीक करने के लिए कॉन्डम का इस्तेमाल किया था।

condom kayak

फॉक्स ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर एक वीडियो शेयर किया, जिसमें साफ दिख रहा है कि फॉक्स के क्रू का एक सदस्य उनकी कश्ती को ठीक करने की कोशिश कर रहा है। कुछ देर बाद वो इसे ठीक करने के लिए कॉन्डम का इस्तेमाल करती हैं।

condom kayak

फॉक्स ने यह वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा "मुझे उम्मीद है कि आप लोग शायद नहीं जानते होंगे कि एक कॉन्डम को कायक बोट को रिपेयर के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। ये कार्बन को काफी स्मूद फिनिश देता है।" फॉक्स का ये वीडियो काफी वायरल हो रहा है और इस कॉन्डम की मदद से वह ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतने में भी कामयाब रहीं हैं।

फॉक्स की ये जानकारी साझा करने के बाद हाईलाइट्स क्लब नाम  के इंस्टा अकाउंट से भी ऐसा ही एक वीडियो शेयर किया गया है। जिसमें बताया गया कि कॉन्डम के इस्तेमाल से किस तरह बोट को सुधारा जा सकता है। इस इंस्टा अकाउंट ने वीडियो में फॉक्स को टैग भी किया है।

condom kayak

सिडनी में रहने वाली 27 साल की फॉक्स टोक्यो ओलंपिक के कैनोन स्लेलम इवेंट में 106.73 टाइम के साथ तीसरे स्थान पर रहीं। फॉक्स से इस ओलंपिक्स में गोल्ड की उम्मीद लगाई जा रही थी। इसी वजह से ब्रॉज जीतने के बाद वो काफी निराश नजर आईं। हालांकि अभी उनका एक इवेंट बचा हुआ है। फॉक्स इस रेस में सबसे तेज थीं लेकिन टाइम पेनाल्टी के चलते उन्हें तीसरे स्थान पर सब्र करना पड़ा।

condom kayak

फॉक्स तीन बार कैनोन स्लेलम K1 जीत चुकी है। उन्होंने साल 2012 के लंदन ओलंपिक्स में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था। इसके बाद साल 2016 में रियो ओलंपिक्स में भी उन्होंने कांस्य पदक जीता था। फॉक्स के पिता भी ओलंपिक खेलों में हिस्सा ले चुके हैं। उन्होंने ग्रेट ब्रिटेन के लिए साल 1992 में बार्सिलोना ओलंपिक में हिस्सा लिया था और चौथा स्थान हासिल किया था। वह पांच बार विश्व चैंपियन रह चुके हैं।

condom kayak

फॉक्स की मां मरियम भी ओलंपिक में भाग ले चुकी हैं। उन्होंने फ्रांस के लिए साल 1992 के बार्सिलोना ओलंपिक्स और साल 1996 के अटलांटा ओलंपिक में हिस्सा लिया था। अटलांटा ओलंपिक में उनकी मां कांस्य पदक जीतने में कामयाब रही थी। फॉक्स की मां भी दो बार विश्व चैंपियन रह चुकी हैं। फॉक्स की तरह उनके माता-पिता भी कैनो स्लेलम एथलीट थे।

condom kayak


 

NEXT STORY

Friendship Day 2021 Special: हिंदी सिनेमा की 10 खास मूवीज, जो आपकी दोस्ती को और खास बना देंगी

Friendship Day 2021 Special: हिंदी सिनेमा की 10 खास मूवीज, जो आपकी दोस्ती को और खास बना देंगी

डिजिटल डेस्क, मुंबई। हमारी असल जिंदगी में दोस्तों का होना बहुत खास है और शायद जीवन में दोस्तों के बगैर जिंदगी का असली मज़ा नहीं रहेगा। हमारे जीवन में दोस्त एक खुबसूरत किरदार अदा करतें हैं वो हमारे सुख दुख के सच्चे साथी होते हैं। जो बात, सुख, दुख हम अपने परिवार वालों को ज़ाहिर नहीं कर पाते है वो हम अपने दोस्तों के साथ बांटते हैं और वो हमें कई बार बेहतर समझते हैं ।

ये बात तो हुई हमारी असल जिंदगी की अब बात करते हैं हिंदी सिनेमा की उन मूवीज की, जो दोस्ती पर बेस्ड हैं। और आज भी अच्छी और सच्ची दोस्ती की मिसाल बनी हुई हैं।


दोस्ती 

Dosti (1964) - Movies in Hindi


यह मूवी दो ऐसे दोस्तों की है जो हिंदी सिनेमा में अपनी दोस्ती के लिए  मिसाल बन गए। दरअसल यह कहानी रामू और मोहन की है जो मुम्बई में एक अच्छे दोस्त बने । इस फिल्म में रामू जो है वो अपने माता पिता के निधन के बाद मुम्बई आता है जहां वो अपना एक पैर सड़क हादसे मेंं गवां देता है। फिर उसकी मुलाकात मोहन नाम के एक अंधे लड़के से होती है। जिससे उसकी दोस्ती हो जाती है। और वे दोनों साथ में गाकर अपना पेट भरते हैं। इस फिल्म में मोहन बीमार होते हुए भी रामू की परीक्षा की फीस भर कर उसकी सहायता करता है।    

शोले 

Sholay Movie Dialogues (Filmy Quotes) - Meinstyn Solutions


ये फिल्म दो दोस्तों की कहानी है। जिसमें वो एक खतरनाक डाकू गब्बर सिंह मुकाबला करने जाते हैं। इस मिशन के दौरान दोनों दोस्तों की जान पर बन आती हैं। अपने वीरू की जान बचाने के  लिए दोस्त जय अपनी जान दे देता है पर दोस्त पर आंच नहीं आने देता। वैसे शोले के डायलोग बेहद मशहूर हैं। पर, दोस्ती के नाम पर भी फिल्म के मिसाल है।

याराना

 Yaarana (1981) Full Hindi Movie | Amitabh Bachchan, Amjad Khan, Neetu Singh, Tanuja, Kader Khan - YouTube

याराना फिल्म दो दोस्तों की कहानी है जिसमें (अमिताभ बच्चन) किशन और (अमजद खान) बिशन का किरदार अदा कर रहें है जिसमें बिशन किशन को एक अच्छा संगीतकार बनाने के लिए अपनी पूरी संपत्ति दांव पर लगा देता है। और बाद में  बिशन की याददाश्त चली जाती है। अपने दोस्त की याददाश्त वापस लाने के लिए किशन अपनी जान लगा देता है।  फिर दोनों परिवार खुशी से रहते हैं।   

हाथी मेरे साथी

Haathi Mere Saathi | Superhit HD Movie | Rajesh Khanna, Tanuja | 1971 - YouTube


यह कहानी चार हाथियों और राजू ( राजेश खन्ना ) की है। ये मूवी हाथी और इंसान की दोस्ती के बारे में है। जिसमें राजू अपने चार हाथी दोस्तों के लिए अपना परिवार तक छोड़ देता है ।
रंग दे बसंती


 Rang De Basanti Jukebox - YouTube


रंग दे बसंती मूवी कॉलेज फ्रेंड्स की कहानी है। जो पढ़ाई के दौरान काफी खिलंदड़ है। इसी बीच उनके एयरफोर्स वाले दोस्त की हादसे में मौत हो जाती है। उस दोस्त की मौत के बाद कॉलेज फ्रेंड्स संजीदा होते हैं। और फिर कहानी नया मोड़ लेती है।  फिल्म दोस्ती की तो मिसाल बनी ही है युवाओं को जागरूक भी करती है। 

बदमाश कंपनी


Badmaash Company (2010) | Badmaash Company Hindi Movie | Movie Reviews, Showtimes | nowrunning


ये फिल्म चार दोस्तों की कहानी है। जो जल्द से जल्द अमीर बनना चाहते हैं। इसके लिए पहले वो गलत राह चुनते हैं। पर इसका नतीजा ये होता है कि दोस्ती में दरार आ जाती है। पर उन्हें दोबारा अहसास होता है कि वो दोस्तों के बिना कुछ नहीं और फिर होती है दोस्तों की रीयूनियन और धमाल। 

जिंदगी ना मिलेगी दोबारा

10 Years Of Zindagi Na Milegi Dobara: Throwback To The Time When Farhan Akhtar Spoke About His Character, 'I Got To Just Let My Hair Down'

यह तीन दोस्तों की कहानी है जो इस मूवी में रोड ट्रिप पर जाते हैं। दोस्तों के साथ चिल आउट करने का मजा, पुराने गिले शिकवे भुलाने के तरीके फ्रेंडशिप को नया एंगल देते हैं। 

दिल चाहता है

Dil Chahta Hai | Netflix

 यह मूवी 3 दोस्तों की दोस्ती पर बेस्ड है। जिसमें आमिर खान, सैफ अली खान और अक्षय खन्ना तीनों पक्के दोस्त बने हैं। लेकिन समय के साथ तीनों की दोस्ती में दरार आ जाती है फिर ये मनमुटाव कैसे दूर होता है। इस पर बेस्ड है फिल्म की कहानी दिल चाहता है। 

3 इडियट्स

Aamir Khan-Rajkumar Hirani's 3 Idiots is the most watched movie worldwide amidst lockdown- Cinema express


3 दोस्तों की कहानी जिसमें आमिर खान, आर.माधवन, शरमन जोशी ने तीनों दोस्तों का किरदार निभाया है। इसमें आमिर खान अपने दोनों दोस्तों की मदद कर उनकी जिंदगी बदल देता है। दोस्ती की बात करने वाली ये फिल्म देश के एजुकेशनल स्ट्रक्चर पर भी तंज कसती है। 
   

छिछोरे


 Chhichhore' poster: Sushant Singh Rajput and Shraddha Kapoor's first look from the movie will leave you dumbstruck | Hindi Movie News - Times of India


फिल्म का नाम  जो भी हो फिल्म बहुत ही गंभीर सब्जेक्ट के आसपास घूमती है। रिजल्ट खराब होने की वजह से बच्चे का आत्महत्या की कोशिश करना। उस एक बच्चे की जान बचाने के  लिए पुराने दोस्तों की रीयूनियन। फिल्म इन्हीं की दोस्ती और प्यार के इर्द गिर्द घूमती है। 

NEXT STORY

Friendship Day Gift: आपके Budget में है ये तोहफे ! खुश हो जाएंगे सभी दोस्त 

Friendship Day Gift: आपके Budget में है ये तोहफे ! खुश हो जाएंगे सभी दोस्त 

डिजिटल डेस्क,मुंबई। हर किसी की जिंदगी में एक ऐसा इंसान होता है, जो उसकी अच्छी और बुरी दोनों परिस्थितियों में साथ खड़ा रहता है। इसलिए आप अपने दिल की उस दोस्त से करके अपना मन हल्का कर लेते है। इंसान तो इंसान दोस्ती तो जानवरों में भी होती हैं जो एक दूसरे के साथ रहकर, अपना प्यार जताकर अपनी दोस्ती निभाते है। दुनियाभर में बहुत सी मूवी, वेबसीरीज़, गानें, शायरी, कविता दोस्ती पर बनाई गई है और लोगों ने इन्हें हमेशा पसंद किया है। दोस्ती के इस रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए 1 अगस्त को Friendship Day मनाया जा रहा है। हर साल आप फ्रेंडशिप डे पर बैंड और गिफ्ट तो जरुर देते होंगे। लेकिन, इस फ्रेंडशिप डे हम आपको बताएंगे बजट में खरीदें जाने वाले उन तोहफों के बारे में, जो आपकी दोस्ती को बनाएंगे खास । 

Customized Caricature  : दोस्त और अपना कस्टमाइस्ड कैरिकेचर बनवा सकते है। 

Best Friends Forever Caricature

Customized cousin :  कस्टमाइस्ड कुशन में भी आप अपने दोस्त की तस्वीर बनवा कर गिफ्ट कर सकते हैं। 

Cousins make the best friends pillow-long distance cousins | Etsy

Customized wall clock: पसंदीदा तस्वीर के साथ कस्टमाइस्ड दीवार घड़ी का आइडिया काफी अच्छा है।

Friends serial Art Design Decor Handmade Vinyl Record Wall Clock - VINYL CLOCKS

Customized pen holder: फेवरेट पिक्स के साथ बनवाएं शानदार कस्टमाइस्ड पेन होल्डर और इस Friendship Day करें अपने दोस्त को गिफ्ट।  

Rotating Personalised Pen Stand - photo penstand gift - Rs.575 Buy online gifts for birthday, anniversary

Customized coffee mug : नॉर्मल काफी मग नहीं बल्कि,  कस्टमाइस्ड कॉफी मग बनवाकर करें अपने बेस्ट फ्रेंड को गिफ्ट। 

This Personalized Best Friends Mug Is The Sweetest Way To Sip Your Coffee

बता दें कि, बाजार में आपको अच्छी कस्टमाइस्ड गिफ्ट शॉप मिल जाएगी। लेकिन, अगर न मिलें तो आप ऑनलाइन ऑर्डर भी कर सकते है।

 

NEXT STORY

International Friendship Day: बॉलीवुड की 5 अभिनेत्रियां, जिनकी बेस्ट फ्रेंड हैं ग्लैमर की दुनिया से कोसों दूर

International Friendship Day: बॉलीवुड की 5 अभिनेत्रियां, जिनकी बेस्ट फ्रेंड हैं ग्लैमर की दुनिया से कोसों दूर

डिजिटल डेस्क,मुंबई। दुनियाभर में हर साल की तरह इस साल भी फ्रेंडशिप डे 1 अगस्त को सेलिब्रेट किया जाएगा। इस दिन सभी अपने दोस्तों के साथ एन्जॉय करते है। कई सेलिब्रिटी अपने बेस्ट फ्रेंड के साथ सोशल मीडिया पर पोस्ट भी शेयर करेंगे। हमे अक्सर लगता है कि सेलिब्रिटीज के दोस्त भी सेलिब्रिटी होंगे। लेकिन ऐसा नहीं है। आज हम आपको बॉलीवुड की उन 5 मशहूर अभिनेत्रियों की बेस्ट फ्रेंड से रुबरु करवाएंगे, जिनकी दोस्त ग्लैमर की दुनिया से कोसों दूर हैं। फिर भी इनकी दोस्ती आज तक बरकरार है। 

अनुष्का शर्मा और कनिका करवीनकोप 
कनिका और अनुष्का काफी अच्छे दोस्त हैं। लेकिन, कनिका कोई एक्ट्रेस नहीं बल्कि, स्टाइलिस्ट और Entrepreneurs है। कनिका उन गिने चुने लोगों में शामिल थीं, जिन्होंने इटली में अनुष्का और विराट की शादी अटेंड की थी।

OMG! Anushka Sharma's BFF Just Shared These Unseen Pictures From Her Vidai, Mehendi and Pheras

प्रियंका चोपड़ा और तमन्ना दत्त
प्रियंका चोपड़ा और तमन्ना दत्त की दोस्ती काफी पुरानी है। प्रियंका ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि,तमन्ना दत्ता और वो एक रूममेट्स के तौर पर मिले थे। अब इनकी दोस्ती को 20 साल से ज्यादा हो चुके हैं। 

Priyanka Chopra

परिणीति चोपड़ा और संजना बत्रा
अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा और संजना बत्रा दोनों काफी अच्छे दोस्त है। संजना बत्रा चमक-धमक से दूर एक स्टाइलिस्ट है। दोनों को कई बार साथ घूमते हुए स्पॉट किया गया है।  

Bollywood Celebrities And Their Non-Famous Friends

दीपिका पादुकोण और उर्वशी  केशवानी
एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण की सबसे अच्छी दोस्त उर्वशी केशवानी है। कुछ समय पहले दीपिका और रणवीर बैंगलोर एक शादी अटेंड करने गए थे, जहां उनका डांस वीडियो जमकर वायरल हुआ था। दरअसल, वो शादी उर्वशी केशवानी की ही थी।  

Deepika Padukone and Ranveer Singh hit the dance floor at Urvashi Keswani's Bengaluru wedding | Vogue India

सोनम कपूर और संयुक्ता नायर
हिंदी सिनेमा की मशहूर अभिनेत्री और फैशन दीवा सोनम कपूर आहूजा की दोस्त है संयुक्ता नायर। जो लीला पैलेस में इंटीरियर डिज़ाइन और ऑपरेशन की CEO है। सोनम और संयुक्ता काफी अच्छी दोस्त हैं और अक्सर दोनों को एक साथ छुटि्टयां बिताते और खास मौकों पर सेलिब्रेट करते हुआ देखा जाता है। 

Sonam Kapoor's bestie happens to be Samyukta Nair of The Leela, that's why



 

NEXT STORY

Friendship Day Special: राजनीति की दुनिया में इन नेताओं ने कायम की दोस्ती की अनोखी मिसाल

Friendship Day Special: राजनीति की दुनिया में इन नेताओं ने कायम की दोस्ती की अनोखी मिसाल

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। फिल्मी दुनिया से लेकर आम लोगों के बीच तक दोस्ती के किस्से बहुत मशहूर होते हैं। पर बात राजनीति की हो तो अलग अलग या एक ही दल के नेताओं के बीच दोस्ती की दास्तानें मशहूर होना मुश्किल ही नजर आता है। पर, नामुमकिन नहीं है। फ्रैंडशिप डे के मौके पर जानिए ऐसे ही कुछ राजनेताओं की दोस्ती के किस्से जो सियासी गलियारों आज भी सुने और सुनाए जाते हैं।

अटल-नरसिम्हा 

On My Radar: Two Buddhas smiled - The Sunday Guardian Live

अटल बिहारी वाजपेयी और नरसिम्हा राव दोनों की दोस्ती बहुत पक्की थी। दोनों ही नेताओं के दोस्ती के किस्से सियासत की गलियों में काफी सुने जाते हैं। दोनों ही अलग पार्टी से थे और दोनों नेताओं की विचारधारा भी अलग थी। फिर भी दोनों नेता एक दूसरे की मदद लेने से या एक दूसरे की तारीफ करने से नहीं झिझकते थे।   

नरसिम्हा राव का अधूरा काम पूरा किया

पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव का एक अधूरा काम था, जो अटल बिहारी वाजपेयी ने पूरा किया था। बात साल 1996 की है, कांग्रेस चुनावों में हार चुकी थी और भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन चुकी थी। नरसिम्हा राव इस बात से खुश थे कि प्रधानमंत्री वाजपेयी जी बने हैं। जब शपथ समारोह शुरु हुआ था तो नरसिम्हा राव वाजपेयी जी के पास आये और कहा कि “अब मेरे अधूरे काम को पूरा करने का समय है”। ये अधुरा काम था परमाणु परीक्षण का। जो प्रधानमंत्री रहते राव पूरा नहीं कर सके थे। जब दोस्त को अपनी कुर्सी संभालते देखा तो ये उम्मीद भी बंधी की अधुरा काम वही परा करेंगे। अटलजी भी परमाणु परीक्षण कराकर दोस्ती की कसौटी पर खरे उतरे। 2004 में नरसिम्हा राव के अंतिम संस्कार के दो दिन बाद, वाजपेयी अपने पुराने दोस्त को श्रद्धांजली देने पहुंचे। इस कार्यक्रम में उन्होंने अपने दोस्त को परमाणु कार्यक्रम का 'true father' कहा था। वाजपेयी ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री बनने के कुछ दिनों बाद मई 1996 में, ‘राव ने मुझे बताया था कि बम तैयार है। मैंने बस इसे आगे बढ़ाते हुए इसका विस्फोट किया।‘

पाकिस्तान को दो दोस्तों ने मिलकर हराया

यह बात है 27 फरवरी 1994 की जब पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग में ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (OIC) के जरिए प्रस्ताव रखा था। उसने अपनी चाल खेलते हुए कश्मीर में हो रहे कथित मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर भारत की निंदा की। नरसिम्हा राव सरकार पर संकट के बादल गहराये हुए थे। भारत के सामने परेशानी यह थी कि अगर यह प्रस्ताव पास हो जाता तो भारत को UNSC के कड़े आर्थिक प्रतिबंधों का सामना करना पड़ता।

नरसिम्हा राव उस समय कई तरफ से चुनौतियों का सामना कर रहे थे। तत्कालीन पीएम नरसिम्हा राव ने इस मसले को खुद अपने हाथों में लिया और जिनेवा में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए सावधानीपूर्वक एक टीम बनाई। कहते है कि संकट के समय हमें हमेशा अपने दोस्तों की याद आती है और नरसिम्हा को याद आयी अपने अटल की। उन्होंने तुरंत एक प्रतिनिधिमंडल बनाया, जिसमें उन्होंने वाजपेयी के अलावा तत्कालीन विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद, ई. अहमद, नैशनल कॉन्फ्रेंस प्रमुख फारूक अब्दुल्ला और हामिद अंसारी को शामिल किया। वाजपेयी जी उस समय विपक्ष के नेता थे और उन्हें इस टीम में शामिल करना मामुली बात नहीं थी।

इसके बाद नरसिम्हा राव और वाजपेयी ने उदार इस्लामिक देशों से संपर्क शुरू किया। राव और वाजपेयी ने ही OIC के प्रभावशाली 6 सदस्य देशों और अन्य पश्चिमी देशों के राजदूतों को नई दिल्ली बुलाने का प्रबंध किया। दूसरी तरफ, अटल बिहारी वाजपेयी ने जिनेवा में भारतीय मूल के व्यापारी हिंदूजा बंधुओं को तेहरान से बातचीत के लिए तैयार किया। वाजपेयी इसमें सफल हुए।

प्रस्ताव पर मतदान वाले दिन जिन देशों के पाकिस्तान के समर्थन में रहने की उम्मीद थी उन्होंने अपने हाथ पीछे खींच लिए। इंडोनेशिया और लीबिया ने OIC द्वारा पारित प्रस्ताव से खुद को अलग कर लिया। सीरिया ने भी यह कहकर पाकिस्तान के प्रस्ताव से दूरी बना ली कि वह इसके रिवाइज्ड ड्राफ्ट पर गौर करेगा। 9 मार्च 1994 को ईरान ने सलाह-मशवरे के बाद संशोधित प्रस्ताव पास करने की मांग की। चीन ने भी भारत का साथ दिया। अपने दो महत्पूर्ण समर्थकों चीन और ईरान को खोने के बाद पाकिस्तान ने शाम 5 बजे प्रस्ताव वापस ले लिया और भारत की जीत हुई। 

संजय गांधी-कमलनाथ

सीएम कमलनाथ ने अपने दोस्त 'संजय गांधी' को पुण्यतिथि पर ऐसे किया याद - kamalnath tribute to sanjay gandhi on his death anniversary - AajTak

कमलनाथ का राजनीतिक सफर जब भी लिखा जायेगा, तब उसमें एक नाम जरूर आयेगा और वो नाम संजय गांधी का है। संजय गांधी और कमलनाथ की दोस्ती का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक दौर में यह नारा काफी मशहूर था- इंदिरा के दो हाथ, संजय और कमलनाथ। कमलनाथ को इंदिरा अपना तीसरा बेटा मानती थीं। कमलनाथ दून स्कूल के दिनों से ही संजय के बेहद करीब थे।  
वो घटना जिसके बाद संजय के और करीब आये कमलनाथ

इमरजेंसी के बाद बनी जनता पार्टी की सरकार ने संजय गांधी को गिरफ्तार कर लिया था। संजय को दिल्ली के तिहाड़ जेल में रखा गया था, लेकिन इंदिरा को जेल में उनकी सुरक्षा की चिंता सताने लगी। कमलनाथ को जब इंदिरा के डर का पता चला तो उन्होंने एक नायाब तरीका निकाला। कोर्ट में जब मामले की सुनवाई चल रही थी तब कमलनाथ ने कागज का गोला बनाकर जज के ऊपर फेंक दिया। इस अपराध में उन्हें भी जेल भेज दिया गया। कमलनाथ और इंदिरा यही चाहते भी थे। इसके बाद से ही कमलनाथ, इंदिरा गांधी के सबसे विश्वासपात्रों में शामिल हो गए। 

जयललिता-शशिकला

Sasikala and Jayalalithaa: An enigmatic relationship - The Financial Express

तमिलनाडु की पूर्व सीएम जयललिता और शशिकला की दोस्ती का किस्सा काफी दिलचस्प है। तत्कालीन सीएम एमजी रामचंद्रन के करीबी आईएएस अधिकारी चंद्रलेखा जयललिता और शशिकला की दोस्ती का जरिया बनीं। उस वक्त शशिकला के पति नटराजन चंद्रलेखा के सहयोगी थे। उन्होंने ही चंद्रलेखा से कह कर दोनों की मुलाकात करवाई। दरअसल शशिकला सीएम की करीबी नेता जयललिता का वीडियो शूट करा चाहती थीं। वीडियो शूटिंग के सिलसिले में हुई पहली मुलाकात दोनों की पक्की दोस्ती में बदल गई। 

वर्ष 1988 में शशिकला परिवार को लेकर जयललिता के घर आ गयीं और उनके साथ रहने लगीं। धीरे-धीरे शशिकला विश्वासपात्र बनती गयीं। पार्टी से जुड़े फैसलों में भी शशिकला की भूमिका बढ़ती गयी। पार्टी से निष्कासन और नियुक्ति जैसे कार्य शशिकला के ही जिम्मे थे। जानकारों का कहना है कि जयललिता की संपत्ति की देख-रेख की जिम्मेदारी शशिकला और उनके पति नटराजन के हाथों में ही थी।

सचिन-ज्योतिरादित्य 

Sad to see 'erstwhile colleague' too being sidelined: Jyotiraditya Scindia backs Sachin Pilot - India News

 सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया दोनों ने ही अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत कांग्रेस से की थी। दोनो ही कांग्रेस में युवा नेता के तौर पर जाने जाते थे। सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया दोनों ही काफी अच्छे दोस्त हैं। सचिन पायलट ने हाल ही में सिंधिया से ये दोस्ती निभायी भी। अभी मध्यप्रदेश में हुए उपचुनाव में सचिन पायलट ने सिंधिया के गढ़ ग्वालियर-चंबल में दनादन 9 सभाएं कीं लेकिन उन्होंने एक भी सभा में सिंधिया के खिलाफ कुछ भी नहीं बोला। जब मीडिया ने उनसे सवाल किया, तो उन्होंने कहा कि वे अपनी पार्टी का काम करने आए हैं। वहीं सिंधिया ने कहा कि वे अपना काम कर रहे हैं और कांग्रेस अपना। सचिन पायलट सिंधिया के खिलाफ नहीं बोल रहे थे। इसके पीछे का कारण केवल एक ही था कि सचिन पायलट ने राजनीति से ऊपर दोस्ती को रखा। सिंधिया के बीजेपी में आने के बाद सचिन के भी कांग्रेस छोड़ने के कयास लगते रहे हैं।

नुसरत-मिमी 

TMC MPs Nusrat Jahan, Mimi Chakraborty take oath as LS members - The Economic Times

नुसरत जहां और मिमी चक्रवती दोनो बंगाल फिल्म इंडस्ट्री से हैं। दोनों ही युवा सांसद हैं और काफी मॉडर्न भी हैं। दोनों बंगाल फिल्म इंडस्ट्री की शान तो हैं ही राजनीति में दोनों एक साथ ही आईं। संयोग ये है कि दोनों ने एक साथ ही, एक ही पार्टी (टीएमसी) से लोकसभा चुनाव जीता। पहली जीत के बाद जब दोनों एक साथ संसद पहुंची तो सबकी नजरें उन्हीं पर टिकी हुई थीं। साड़ी और सूट की परंपरा वाली संसद में दोनों जींस टॉप में पहुंची थीं। तकरीबन एक जैसे लिबास और एक जैसे अंदाज वाली इन नेताओं की ट्रोलिंग भी हुई। इसके बाद नुसरत जहां अक्सर अपनी शादी, अपने मजहब को लेकर ट्रोल होती रहीं हैं। और मिमी अक्सर उनके बचाव के  लिए आगे आती रही हैं।