comScore

आत्म समर्पण की तैयारी में है डेढ़ लाख का इनामी गैंग लीडर गौरी!

आत्म समर्पण की तैयारी में है डेढ़ लाख का इनामी गैंग लीडर गौरी!

डिजिटल डेस्क   सतना। पुलिस के चौतरफा दबाव के चलते तराई में सूचीबद्ध अंतरराज्यीय गैंग लीडर (डी-13) गौरी यादव उर्फ उदयभान अंतत: आत्मसमर्पण की तैयारी में है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक गौरी सतना या फिर पन्ना पुलिस के आगे जल्दी ही हथियार डाल सकता है। इन्हीं सूत्रों ने बताया कि इस मामले में उसे यूपी पुलिस पर भरोसा नहीं है। सच क्या है,ये तो वक्त बताएगा? 
 दिल्ली पुलिस के एएसआई की हत्या का है आरोप :-
 तकरीबन 7 साल से फरार गौरी यादव के खिलाफ सतना जिले के दस्यु प्रभावित बरौंधा, मझगवां और नयागांव थाने में जहां 10 संगीन अपराध दर्ज हैं,वहीं मई 2013 में दिल्ली पुलिस के एक एएसआई जयभगवान शर्मा की हत्या का अपराध उत्तर प्रदेश के बहिलपुरवा थाने में दर्ज है। पुलिस के जानकार सूत्रों ने बताया कि वर्ष   वर्ष 2009 पहली बार गौरी उत्तर प्रदेश पुलिस के हाथ लगा था। जमानत में बाहर आने के बाद उसकी गतिविधियां लंबे अर्से तक शून्य रहीं। वर्ष 2013 में उसने एक बार फिर से गिरोह बनाया। इसी वर्ष उसने अपने गांव बिलहरी जांच के लिए पहुंचे दिल्ली पुलिस के एएसआई जयभगवान शर्मा की हत्या कर उनकी सर्विस रिवाल्वर लूट ली थी। पुलिस के मुताबिक गौरी के ही गांव का  प्रेमचंद यादव दिल्ली में एक कारोबारी के यहां ड्राइवर था। प्रेमचंद व्यापारी के 8 लाख रुपए लेकर चंपत हो गया था। एएसआई इसी मामले की जांच के लिए गांव आए थे। गौरी ने ये वारदात तबके एक लाख के इनामी दस्यु गोप्पा के साथ मिलकर की थी। यूपी एसटीएफ के हत्थे चढ़ चुका गोप्पा अब इलाहाबाद की सेंट्रल जेल में है। तराई में अकेले बचे अंतरराज्यीय सूचीबद्ध गिरोह के सरगना गौरी पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने 1 लाख और एमपी पुलिस ने 50 हजार का इनाम घोषित कर रखा है।

कमेंट करें
4wGbn