दैनिक भास्कर हिंदी: हनीप्रीत की पुलिस रिमांड 3 दिन बढ़ी, 300 सवालों की लिस्ट तैयार

September 5th, 2018

डिजिटल डेस्क,पंचकुला। पंचकूला में डेरा समर्थकों के आतंक फैलाने के मामले में गिरफ्तार हनीप्रीत की रिमांड आज खत्म हो गई थी। पुलिस उसे आज कोर्ट में दोबारा पेश किया और 7 दिन के पुलिस रिमांड की डिमांड की। कोर्ट ने सुनवाई के बाद तीन दिन की रिमांड पुलिस को दे दी। बताया ये भी जा रहा है कि इन 6 दिनों के दौरान हनीप्रीत से लगभग 40 से अधिक सवाल पूछे गए लेकिन हनीप्रीत ने एक भी सवाल की सही जवाब नहीं दिया। पुलिस ने प्रियंका तनेजा उर्फ हनीप्रीत इंसा पर कार्रवाई में सहयोग न करने, गुमराह करने, झूठ बोलने और गलत जानकारी देने के आरोप लगाए हैं। पुलिस का कहना है पुलिस हनीप्रीत से वांछित जवाब हासिल नहीं कर पाई जो प्रोसिडिंग के लिए जरूरी है।

पुलिस ने तैयार की 300 सवालों की फेहरिस्त 

पुलिस की बनाई 40 सवालों की लिस्ट हनीप्रीत की चालाकी के सामने पस्त नजर आई, इसलिए पुलिस ने शातिर हनी से सच निकलवाने के लिए अब 300 सवालों की फेहरिस्त तैयार की है, जिन्हें डेरा से जुड़े लोगों से क्रॉस एग्जामिनेशन भी किया जाएगा। 

हनी के 'राज'दारों से खोलेंगे राज

पंचकूला पुलिस ने हनीप्रीत से राज खुलवाने के लिए उसके करीबियों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है, जिसमें सबसे पहले पुलिस ने हनीप्रीत के ड्राइवर राकेश कुमार अरोड़ा को पूछताछ के लिए बुलाया और उससे 13 घंटे पूछताछ की। इस दौरान हनीप्रीत के सच को बेपर्दा करने के लिए हनीप्रीत और ड्राइवर राकेश को आमने सामने बैठाया और उनके दिए जवाबों को क्रॉस एग्जामिन किया। हालांकि हनीप्रीत ने बड़े ही शातिराना अंदाज में सभी सवालों के गोलमोल दे दिए।

बीते 6 दिन की रिमांड में पुलिस कई सवालों के जवाब पाने में नाकाम रही है, लेकिन हनीप्रीत ने कुछ ऐसी राज भी उगले हैं जो पुलिस के लिए अच्छी लीड माने जा सकते हैं। इनमे सबसे बड़ा राज उसकी सीक्रेट डायरी है, जिसमें डेरा सच्चा सौदा से जुड़े लेन-देन, डेरे के अहम राज लिखे गए हैं। इस डायरी को हनीप्रीत ने 700 एकड़ में फैले डेरे में छुपा दी है जिसे पुलिस हासिल करना चाहती है।

पुलिस के सवालों पर हनीप्रीत का बहाना, बोली- सर, बहुत सिरदर्द हो रहा है

इन 6 दिनों में हनीप्रीत ने पुलिस के ज्यादातर सवालों पर झूठे जवाब दिए लेकिन इस दौरान हनीप्रीत ने कुछ ऐसी जानकारी दी जो पुलिस के लिए काफी अहम है। हनीप्रीत ने कबूल किया कि वो 38 दिन की फरारी के दौरान वॉट्सएप्प पर सक्रिय थी और उसके जरिए लोगों से संपर्क साधती थी, वहीं उसने ये भी बताया कि उसने फेसबुक पर गुरलीन इंसा के नाम से फेक आईडी भी बनाई हुई थी।
वही उसने इस दौरान कई और बात पर भी हामी भरी, उसने कुछ अहम बातें ये हैं... 

- हनीप्रीत ने कबूल किया कि वो 25 के बाद से ही फरार चल रहे डेरा प्रवक्ता डॉक्टर आदित्य इंसा और पवन इंसा के संपर्क मे थी।

- हनीप्रीत ने बताया कि उसका फोन और उसके नाम से रजिस्टर्ड सिम खो गई है, हालांकि राम रहीम के ड्राइवर इकबाल की पत्नी सुखदीप कौर ने बताया कि हनीप्रीत का फोन पंजाब के ही किसी गांव में है।

- इस दौरान उसे ये भी कबूला कि 38 दिन की फरारी में उसने कई सारे सिम कार्ड्स का इस्तेमाल किया और हर सिम को इस्तेमाल करते ही तोड़ कर फेंक देती थी।

हनीप्रीत ने रिमांड के दौरान पूछे गए हर सवाल का जवाब सधे हुए शब्दों में दिया और वो हर सवाल में खुद को बेगुनाह बताती रही, लेकिन कुछ सवाल ऐसे हैं जिनके जवाब से पुलिस संतुष्ट नहीं है और वो इसके पीछे का पूरा सच जानना चाहती हैं। इसके लिए पुलिस की लिस्ट में ये कुछ अहम सवाल भी हैं

- पुलिस हनीप्रीत से जानना चाहती है कि डेरे से निकाले गए 700 करोड़ रुपये कहां छिपाए गए हैं। क्योकिं इससे पहले 65 जप्त की गई कंप्यूटर हार्ड डिस्क में से एक के डाटा की रिकवरी से 700 करोड़ रुपए की संपत्ति का खुलासा हो चुका है।सूत्रों की मानें तो हनीप्रीत की डायरी में इस खजाने का राज भी है।

- डेरा सच्चा सौदा के नाम से चलने वाली बेनामी कंपनियों और संपतियों का राज भी हनीप्रीत ने दफन कर रखा है जिसकी तह तक जाने की कोशिश में पुलिस लगी हुई है, सूत्रों की मानें तो डेरा प्रमुख ने 80 के करीब फर्जी कंपनियां बनाई थीं जिनमें गैर कानूनी पैसा लगाया गया था, पैसे का ज्यादातर लेनदेन और डेरा का वित्तीय प्रबंधन हनीप्रीत ही देखती थी।

- पंचकूला हिंसा की रूपरेखा तैयार करने के लिए 17 अगस्त को जो बैठक सिरसा में आयोजित की गई थी उसमें हनीप्रीत का क्या रोल था, 25 अगस्त को पंचकूला हिंसा के लिए पांच करोड़ रुपए की धनराशि कहां से आई, चूंकि पंचकूला के डेरा इंचार्ज चमकौर सिंह ने पुलिस को बताया है कि हनीप्रीत ने उसे 1.25 करोड़ रुपए दिए थे।

- हनीप्रीत और गुरमीत राम रहीम के बीच क्या रिश्ता है, क्या हनीप्रीत सचमुच गुरमीत राम रहीम के सामने साध्वियों को परोसती थी, और क्या बलात्कार के मामले उजागर होने के बाद गुरमीत राम रहीम के लिए वह दूसरे राज्यों से महिलाओं का प्रबंध करती थी। और शारीरिक शोषण से जुड़े तमाम सवालों के जवाब पुलिस हनीप्रीत से उगवाना चाहती है। 

-फरारी के दौरान वह किस किस से संपर्क में रही, किसके कहने पर वो 38 दिन फरारी पर रही।

शातिर हनीप्रीत से सच उगलवाने में पुलिस को लोहे के चने चबाने पड़ रहे हैं। यही वजह है कि पुलिस अब सिर्फ हनीप्रीत से सवालों के जवाब न पूछते हुए उसके करीबियों को हनीप्रीत के सामने बैठाकर उसको घेरने की तैयारी में लगी हुई है, जिसकी पहली कड़ी में पुलिस ने हनीप्रीत के करीबी ड्राइवर राकेश से पूछताछ की तो अब डेरा सच्चा सौदा सिरसा की चेयरपर्सन विपासना को पूछताछ के लिए नोटिस भेजा गया है। अब चेयरपर्सन विपासना और गुरमीत राम रहीम सिंह की कथित बेटी हनीप्रीत को मंगलवार को पंचकूला पुलिस आमने-सामने बैठाकर पूछताछ करेगी। यदि विपासना ने हनीप्रीत के खिलाफ कोई राज उगल दिया तो हनीप्रीत की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। पंचकूला पुलिस ने हनीप्रीत से कोई सुराग न मिलने के चलते अब विपासना को नोटिस देकर पंचकूला बुला लिया है। विपासना ने पुलिस को कंफर्म किया है कि वह पंचकूला आएगी और पुलिस को जांच में पूरा सहयोग देगी।

विपासना को नहीं भायी 'हनी' की प्रीत

बताया ये भी जा रहा है कि विपासना हनीप्रीत को पसंद नहीं करती थी और वह हमेशा यही चाहती थी कि हनीप्रीत का डेरे में दखल न हो। कहा जाता है कि विपासना और हनीप्रीत के बीच छत्तीस का आंकड़ा है। एक तरफ जहा हनीप्रीत ने खुद को गुरमीत राम रहीम की असली वारिस होने का ऐलान कर डाला था। वहीं गुरमीत के जेल जाने के बाद से विपासना कहती आ रही थी कि हनीप्रीत का डेरा सच्चा सौदा से कोई लेना-देना नहीं है और न ही उसकी कोई हिस्सेदारी है। इसी खींचतान के बीच अब हनीप्रीत और विपासना को आमने सामने बैठाया जाएगा, जिसमें पुलिस डेरे से संबंधित और पंचकूला में हुए दंगों के बारे में कई सवाल पूछेगी।

पुलिस को चाहिए इन सवालों का जवाब

-सूत्रों के अनुसार दोनों को सामने बैठाकर पूछा जाएगा कि डेरे से जब काफिला चला तो दोनों के बीच में कोई बातचीत हुई थी?

-दोनों डेरे की प्रमुख लोगों में से एक है तो ऐसे में यह कैसे हो गया कि इतना भारी असलहा, पेट्रोल डेरे से काफिले में निकला और दोनों को जानकारी नहीं?

-दंगे के लिए पैसों की फंडिंग हनीप्रीत ने की या किसी और ने?

10 दिन का रिमांड मांगेगी पुलिस

सूत्रों के अनुसार पुलिस द्वारा हनीप्रीत को मंगलवार को फिर से कोर्ट में पेश करके 10 दिन का रिमांड मांगा जाएगा। पुलिस का प्रयास है कि दोबारा रिमांड लेने से पहले हनीप्रीत और विपासना का आमना-सामना हो जाए, क्योंकि हनीप्रीत के वकील कोशिश करेंगे कि पुलिस को दोबारा हनीप्रीत का रिमांड न मिल सके। इस बार भी हनीप्रीत की ओर से 3 से 4 वकील अदालत में पेश होंगे।