बढ़ रही बिजली की खपत: कोयले की कमी से परली में ठप हुआ उत्पादन

March 1st, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कोयले की कमी के चलते महाराष्ट्र में एक बार फिर बिजली संकट गहरा  सकता है। राज्य में कोयले की कमी के चलते परली ताप बिजली संयंत्र की एक यूनिट में बिजली उत्पादन बंद हो गया है। हालांकि राज्य के ऊर्जा मंत्री नितिन राऊत ने उम्मीद जताई है कि सरकार बिजली संकट पैदा होने नहीं देगी। अब गर्मी का मौसम शुरू हो रहा है। ऐसे में आने वाले दिनों में बिजली की मांग बढ़ेगी। बिजली की मांग बढ़ने की स्थिति में उत्पादन यूनिट में उत्पादन बंद होने से समस्या पैदा हो सकती है।  राज्य के ऊर्जा विभाग के अनुसार बीड जिले में स्थित परली ताप बिजली संयंत्र में कोयले की कमी के चलते तीन बिजली उत्पादन इकाइयों में से एक को बंद कर दिया गया है। परली ताप बिजली संयंत्र महाराष्ट्र राज्य विद्युत उत्पादन कंपनी (महाजेनको) के कोयला आधारित बिजली संयंत्रों में से एक है। संयंत्र की तीन इकाइयों में से प्रतिदिन 250 मेगावाट बिजली पैदा होती है। एक इकाई 25 फरवरी को बंद कर दी गई थी और कोयले की आपूर्ति अभी भी सुचारू नहीं हो सकी है। तीनों इकाइयों को पूरी क्षमता से चलाने के लिए आमतौर पर 30,000 टन कोयले की आवश्यकता होती है। इस समय संयंत्र में लगभग 16,000 टन कोयला है।