दैनिक भास्कर हिंदी: Shastra Puja: दार्जीलिंग में सेना के मुख्यालय में रक्षा मंत्री ने की शस्त्र पूजा, कहा- भारत एक इंच जमीन भी किसी दूसरे के हाथों में जाने नहीं देगा

October 25th, 2020

हाईलाइट

  • रक्षा मंत्री ने दशहरे के अवसर पर 33 कोर के सुकना स्थित मुख्यालय में शस्त्र पूजा की

डिजिटल डेस्क, दार्जीलिंग। रक्षा मंत्री ने दशहरे के अवसर पर पश्चिम बंगाल के दार्जीलिंग जिले में भारतीय सेना की 33 कोर के सुकना स्थित मुख्यालय में शस्त्र पूजा की। सेना प्रमुख जनरल एम. एम नरवाने और सेना के कई वरिष्ठ अधिकारी भी इस दौरान मौजूद रहे। रक्षा मंत्री का सिक्किम में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के पास हाई एल्टीट्यूड वाले सीमावर्ती क्षेत्र शेरथांग में पूजा करने का कार्यक्रम था, लेकिन खराब मौसम के कारण वहां नहीं जा सके। शस्त्र पूजा के बाद रक्षा मंत्री ने कहा, भारत पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सीमा तनाव खत्म करना चाहता है। यह हमारा उद्देश्य है। लेकिन कई बार कुछ नापाक घटनाएं होती रहती हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि हमारे सैनिक किसी को हमारी जमीन का एक इंच हिस्सा भी नहीं लेने देंगे।

राजनाथ सिंह ने कहा, 'मैं विश्वास के साथ और ठोस जानकारी के आधार पर कह सकता हूं कि हाल ही में लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर जो कुछ भी हुआ है, उस दौरान भारतीय सैनिकों जो काम साहस दिखाया उसे इतिहासकार सुनहरे अक्षरों में लिखेंगे। बता दें कि 15 जून को पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के एक ग्रुप के साथ हिंसक झड़प में बीस भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। चीन के भी 40 से ज्यादा सैनिकों के मारे जाने की खबर आई थी। यह एक ऐसी घटना थी जिसने दोनों देशों के बीच सीमा तनाव को काफी बढ़ा दिया था। सीमा पर तनाव कम करने के लिए दोनों देशों के बीच 7 राउंड की बातचीत हो चुकी है। भारत ने लद्दाख में चीनी सेना का मुकाबला करने के लिए वहां करीब 60,000 सैनिकों को तैनात किया है।

सिक्किम में एक नई सड़क का उद्घाटन
पूजा करने के बाद, राजनाथ सिंह ने सुकना से एक वीडियो-कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सिक्किम में एक नई सड़क का उद्घाटन किया। राजनाथ सिंह ने कहा, 'आज नेशनल हाईवे-310 के आंशिक वैकल्पिक मार्ग को, सिक्किम की जनता को समर्पित करते हुए मुझे बड़ी खुशी हो रही है। 'गंगटोक' से 'नाथू-ला' को जोड़ने वाला NH-310, पूर्वी सिक्किम के सीमावर्ती क्षेत्रों के लोगों की जीवन रेखा है. 19.35 किलोमीटर लम्बे वैक्लपिक एन. एच. 310 का निर्माण करके, BRO ने पूर्वी सिक्किम के निवासियों एवं सेना की आकांक्षाओं को पूरा किया है।'

राजनाथ ने कहा, 'पुराने वैकल्पिक मार्ग NH-310 पर भारी मात्रा में भूस्खलन और सिंकिंग की संभावनाओं वाला क्षेत्र है। इससे बरसात के मौसम में, यहां के लोगों और सेना को आवागमन में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अब इस 19.35 किलोमीटर वैकल्पिक मार्ग NH-310 बन जाने से ये दिक्कतें दूर हो सकेंगी।'

 

 

खबरें और भी हैं...