पीडि़त परिजनों का आरोप: यूनाईटेड इंश्योरेंस कंपनी के जिम्मेदार लगवा रहे चक्कर: मौत को हो चुके 10 महीने पर नही मिला बीमा क्लेम..!

February 26th, 2022

डिजिटल डेस्क जबलपुर। कोरोना के कारण सैकड़ो परिवार के ऊपर दुखो का पहाड़ टूटा और कई परिवार के सदस्य आज भी ऊभर नही पाए है। ऐसे में जहां से उन्हें सहारा मिलना था वहां भी भटकाया जा रहा है। प्रीमियम राशि लेने के बाद बीमा कंपनी के जिम्मेदार किसी तरह की मदद नही करते है और अस्पताल में कैशलेस की सुविधा भी प्रदान नही की और न ही करते है। पीडि़तो ने कहा कि इलाज के लिए परिजनों को अपने पास से रूपए जमा करना पड़ा और जब बीमा कंपनी में राशि प्राप्त करने के लिए बिल व चिकित्सक की रिपोर्ट सम्मेट की तो उसमें अनेक खामियां निकाली और यहां तक टीपीए कंपनी के अधिकारियों ने बोल दिया कि आपको इलाज की जरूर ही नही थी। मरीज की मौत के बाद भी गलतियां निकालकर नो क्लेम करने में सर्वेयर टीम व क्लेम डिपार्टमेंट के अधिकारियों के द्वारा किया जा रहा है।
इन नंबरों पर बीमा से संबंधित समस्या बताएँ
इस तरह की समस्या यदि आपके साथ भी है तो आप दैनिक भास्कर, जबलपुर के मोबाइल नंबर - 9425324184, 9425357204 पर बात करके प्रमाण सहित अपनी बात रख सकते हैं। संकट की इस घड़ी में भास्कर द्वारा आपकी आवाज को खबर के माध्यम से उचित मंच तक पहुँचाने का प्रयास किया जाएगा।
बीमा कंपनी की टीपीए नही दे रही कोई जवाब
अधारताल स्थित बैंक में कार्यरत आदित्य अर्गल ने शिकायत में बताया कि उनकी मां आरती अर्गल अप्रैल 2021 में कोरोना संक्रमण से ग्रसित हो गई थी। संक्रमण के कारण उन्हें गंभीर अवस्था में निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान मई माह में उनकी मौत हो गई थी। उनकी मां का यूनाईटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी से हेल्थ पॉलिसी थी। पॉलिसी क्रमांक 1909002820पी100549866 का प्रतिवर्ष प्रीमियम भी जमा की जा रही थी। अस्पताल में कैशलेस नही होने के कारण उन्हें अपने पास से सारा भुगतान करना पड़ा था। बाद में बीमा कंपनी में क्लेम सम्मेट किया गया तो उसमें अनेक प्रकार की खामियां निकाली गई। सारे दस्तावेजों को सत्यापित कराकर बीमा कंपनी में जमा किए गए तो अधिकारियों ने कहा था कि जल्द ही क्लेम दिया जाएगा पर यूनाईटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी की टीपीए के अधिकारियों के द्वारा भुगतान की राशि नही दी गई और जिम्मेदार अब किसी तरह का जवाब भी नही दे रहे है। पीडि़त का आरोप है कि अधिकारी जानबूझकर परेशान कर रहे है।
परीक्षण कराकर दिया जाएंगा भुगतान
पॉलिसी धारक के नामनी को अभी तक बीमा क्लेम क्यों नही दिया गया है इस संबंध में टीपीए कंपनी के अधिकारियों से बात कर परीक्षण कराया जाएंगा और नियमानुसार भुगतान किया जाएगा।
रियाज शेख, यूनाईटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी