comScore

एयरक्राफ्ट की डिलेवरी होते ही जबलपुर जुड़ेगा रायपुर, इन्दौर, अहमदाबाद, पुणे से

एयरक्राफ्ट की डिलेवरी होते ही जबलपुर जुड़ेगा रायपुर, इन्दौर, अहमदाबाद, पुणे से

डिजिटल डेस्क जबलपुर । 2023 तक अपने बेड़े में 20 एयरक्राफ्ट शामिल करने का सपना संजोए नई एयरलाइन फ्लायबिग के सीएमडी संजय मंडाविया गुरुवार को जबलपुर में थे। इस मौके पर उन्होंने दैनिक भास्कर से चर्चा करते हुए कहा कि उनकी कंपनी के पास एक एटीआर-72 आ चुका है, जो 3 जनवरी से इन्दौर-अहमदाबाद सेक्टर पर उड़ेगा। जैसे ही विमान कंपनी दूसरा एटीआर-72 सौंपेगी, जबलपुर को रायपुर, इन्दौर, अहमदाबाद और पुणे से हवाई मार्ग के जरिए जोडऩे का काम प्रारंभ हो जाएगा। उन्होंने राज्यसभा सांसद विवेक कृष्ण तन्खा को इस एयरलाइन का प्रणेता बताते हुए कहा कि उनका जबलपुर से इतना गहरा लगाव देखकर बेहद खुशी होती है। इसी कारण वो जबलपुर का विशेष ध्यान रख रहे हैं।
बिलासपुर भी वायु नक्शे में आएगा 
 श्री मंडाविया ने कहा कि उन्हें नार्थ-ईस्ट और सेन्ट्रल इंडिया के बहुत से सेक्टर पर उड़ान संचालित करने की अनुमति मिली है। फ्लायबिग बिलासपुर को भी अपने वायु नक्शे में शामिल करेगी। उन्होंने कहा कि पुणे, मुम्बई और दिल्ली में स्लॉट मिलना बहुत कठिन होता है, पर जैसे-जैसे स्लॉट मिलते जाएँगे, उड़ानों का दायरा बढ़ता जाएगा।
बड़े एयरक्राफ्ट अभी प्रासंगिक नहीं 
 कोरोना काल में एवीएशन इंडस्ट्री के बुरे हाल और अब उबरने की प्रक्रिया पर चर्चा करते हुए श्री मंडाविया ने कहा कि अब भारत में 100 मिलियन फ्लायर उड़ रहे हैं, जबकि लॉकडाउन से पहले ये संख्या 160 मिलियन थी। पिछले 3 महीनों से यात्री लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन अभी बोइंग-777 जैसे बड़े विमान प्रासंगिक नहीं हैं। अधिकतम 140 सीटर विमान उड़ाना ही व्यावहारिक होगा। उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी एटीआर-72, क्यू-400 सहित एयरबस-319 जैसे विमान ही अपने बेड़े के लिए लीज पर ले रही है। इनकी कुल संख्या 20 है, जो सन् 2023 तक एक-एक करके आएँगे। 
 

कमेंट करें
Gvniu