comScore

घर लौटने की खुशी- खिल उठे चेहरे जब विशेष ट्रेन में मिली सीट, 225 मजदूर हुए रवाना

घर लौटने की खुशी- खिल उठे चेहरे जब विशेष ट्रेन में मिली सीट, 225 मजदूर हुए रवाना

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कोरोना संकट के चलते महानगर में फंसे प्रवासी मजदूरों के अलावा आम उत्तरभारतीय किसी भी तरह अपने गांव पहुंचाना चाहता है। ऐसे में जिसे श्रमिक विशेष ट्रेन में जगह मिल रही उसकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं। यह खुशी उनकी आखों में दिखाई देती है। मंगलवार को भी मध्यरेलवे के एलटीटी व सीएसटी से कई ट्रेनें रवाना की गईं। मध्य रेल के प्रवक्ता ने बताया कि उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, उड़ीसा, तामिलनाडु, आंध्रप्रदेश, राजस्थान, झारखंड, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, आदि राज्यों के लिए निरंतर श्रमिक विशेष गाड़ियां चलाई जा रही हैं। 

मध्य रेल के मुंबई मंडल से छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस मुंबई, लोकमान्य तिलक टर्मिनस, पनवेल, ठाणे, कल्याण, भिवंडी, नागपुर मंडल से नागपुर, वर्धा, पुणे मंडल से पुणे, दौड, कोल्हापुर, मिरज, सातारा, उरली, सोलापुर मंडल से सोलापुर अहमदनगर, सांईनगर शिर्डी, भुसावल मंडल से भुसावल, अमरावती, अकोला, नासिक रोड आदि स्टेशनों से अभी तक 225 से अधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेनें देश के विभिन्न राज्यों के लिए रवाना हो चुकी है़ंं। जिनमें अकेले मुंबई विभाग से 130 से अधिक श्रमिक विशेष गाड़ियां रवाना हुई हैं। जिनमें छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस से वाराणसी, जौनपुर, लखनऊ, गोरखपुर, गौंडा, बस्ती और हरिद्वार, लोकमान्य तिलक टर्मिनस से वाराणसी, जौनपुर, गोरखपुर गोंडा,बस्ती ठाणे से बरौनी (बिहार) तथा पनवेल से तिटलागढ़ तथा लखनऊ आदि गंतव्य स्थलों के लिए रवाना हुई है।

मध्य रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि इन गाड़ियों में जिन्हें सवार होने का मौका मिलता है, उनकी खुशी भी देखते ही बनती है। इन यात्रियों के चहरे पर एक अलग सी मुस्कान दिखाई देती है। मंगलवार को विशेष ट्रेन से मुंबई से जौनपुर जा रहे रनवीर सिंह और पार्वती देवी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व रेलमंत्री पीयूष गोयल का आभार जताते हुए कहती हैं कि इस वक्त गांव जाने की खुशी बहुत है। उन्होंने घर से रेलवे स्टेशन तक लाने और खाने-पानी की व्यवस्था के लिए राज्य सरकार का धन्यवाद किया। इसके साथ ही पुलिस प्रशासन की भी सराहना की। इसी ट्रेन में सवार सानिया व रियाज खान की भी खुशी का ठिकाना नहीं था। मंगलवार को रवाना हुई इन ट्रेनों में लगभग 1400- 1500 यात्री सवार थे।

प्रवासी मजदूरों को गांवे भेजने मिली 50 ट्रेनों को मंजूरीः खान

लॉकडाउन की वजह से फंसे प्रवासी मजदूरों को जल्द से जल्द उनके घर पहुंचाने के लिए हर ओर से प्रयास हो रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री नसीम खान ने कहा है कि प्रवासी मजदूरों के लिए मुंबई से 50 ट्रेन उत्तरप्रदेश बिहार- झारखंड सहित अन्य राज्य के लिए चलाने को मंजूरी मिली है। पूर्व मंत्री खान ने बताया कि पिछले एक सप्ताह से वे प्रवासी मजदूरों को गांव भेजने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए प्रयासरत थे। खान ने इस संबंध में उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या और महाराष्ट्र के वरिष्ठ मंत्रियों से लगातार बातचीत की। उन्होंने बताया कि इस बातचीत का सकारात्मक नतीजा आया है, मुंबई महाराष्ट्र से 50 ट्रेन उत्तर प्रदेश बिहार झारखंड व अन्य राज्य के लिये चलाने को मंजूरी मिली है। नसीम खान ने प्रवासी मजदूरों को लेकर केंद्र की मोदी सरकार, उत्तरप्रदेश की योगी सरकार और बिहार सरकार की उदासीनता पर नाराजगी जताते हुए कहा कि इन सरकारों के असहयोग के कारण यूपी बिहार के मजदूरों को असहनीय परेशानी झेलनी पड़ रही है। खान ने मजदूरों से अपील करते हुए कहा है कि मजदूर भाई धैर्य बनाए रखें, महाराष्ट्र राज्य सरकार सभी मजदूरों को सुरक्षित गांव पहुंचाएगी। उन्होंने कहा कि अब मजदूरों को गांव भेजने की प्रक्रिया में तेजी आएगी क्योंकि सरकार के नए दिशानिर्देश के मुताबिक अब मजदूरों को भेजने के लिए दूसरे राज्यों से परमिशन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

 
 

कमेंट करें
TRN5L