comScore

 खेत से गुजर रहे दो मित्रों पर तेंदुए ने किया हमला -जिला अस्पताल में भर्ती, गांव में दहशत का माहौल

 खेत से गुजर रहे दो मित्रों पर तेंदुए ने किया हमला -जिला अस्पताल में भर्ती, गांव में दहशत का माहौल

डिजिटल डेस्क सतना। उचेहरा और अमरपाटन रेंज के बीच बसे एक गांव में तेंदुआ के आ जाने से ग्रामीणों के बीच दहशत का माहौल उस समय व्याप्त हो गया, जब तेंदुआ आक्रामक होकर दो ग्रामीणों को जख्मी कर दिया। खबर लगते ही तीन रेंज का वन अमला सुरक्षा के मद्देनजर एसडीओ के नेतृत्व में तैनात हो गया। देर शाम तेंदुआ को जंगल की तरफ कूच करता देख वन अमले और ग्रामीणों ने राहत की सांस ली। मैहर एसडीओ श्रीकांत शर्मा के मुताबिक रविवार की दोपहर लगभग 12 बजे सूचना मिली कि अमरपाटन रेंज में गरादा-बकौली नदी के पास बद्री प्रसाद प्रजापति के खेत में तेंदुआ आ गया है और उसने जरमोहरा निवासी रामलखन केवट और खरवाही निवासी नीरज कुशवाहा को जख्मी कर दिया है। जन और वन्यप्राणी सुरक्षा के मद्देनजर अमरपाटन रेंजर आरडी सोनकर को टीम लेकर मौके के लिए रवाना होने एवं घायलों को अस्पताल पहुंचाने के लिए निर्देशित किया। जांच के दौरान मामला उचेहरा रेंज की पोंड़ी गरादा बीट का होने से उचेहरा रेंजर आरएन साकेत को भी टीम के साथ मौके पर बुला लिया गया।
ग्रामीणों ने घेर रखा था खेत
जब तक वन अमला आगे की कार्रवाई कर पाता कि इसी बीच किसी ग्रामीण ने अफवाह फैला दी कि गांव के अंदर बड़ा बाघ घुस आया है। बाघ के आने की खबर लगते ही सैकड़ों ग्रामीणों ने खेत को चारों तरफ से घेर लिया, जिसे नियंत्रित करने के लिए मैहर रेंज से अतिरिक्त बल मंगाना पड़ा। इसी बीच खेत के किनारे पगमार्क दिखने पर उचेहरा रेंज का वन रक्षक शंकर प्रसाद यादव पगमार्क उठाने लगा कि तभी अचानक तेंदुआ ने झपट्टा मार दिया। इस अप्रत्याशित हमले में वनरक्षक को पंजा लगने से घायल हो गया और उसे भी अमरपाटन के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में ले जाकर इलाज कराया। एसडीओ के मुताबिक तीनों घायलों को मामूली चोट आई है। शाम लगभग साढ़े 6 बजे माहौल शांत होने पर तेंदुआ जंगल की तरफ भाग निकला। बताया जाता है कि जहां पर तेंदुआ आया था, वहां पर मकर संक्रांति के दिन मेला लगा था।
 

कमेंट करें
AG38I