मार्ड: हड़ताल पर गए राज्य के चार हजार रेजिडेंट डॉक्टर, फीस माफी सहित कई मांगे 

October 1st, 2021

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र स्टेट एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स (मार्ड) ने अपनी मांगों को लेकर शुक्रवार से बेमियादी हड़ताल शुरू कर दी है। मुंबई समेत राजभर के चार हजार से ज्यादा रेसिडेंट डॉक्टर शैक्षणिक वर्ष की फीस माफ किए जाने, होस्टल की दशा सुधारने, भत्तों से टैक्स न काटने और कोविड इंसेंटिव देने जैसे मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गए हैं। मार्ड के अध्यक्ष डॉक्टर ज्ञानेश्वर ढोबले पाटील ने कहा कि जब तक राज्य सरकार हमारी मांगे नही मानता हम काम पर वापस नहीं लौटेंगे। रेजिडेंट डॉक्टरों का दावा है कि हड़ताल के दौरान अत्यावश्यक सेवाएं प्रभावित होने नहीं दी जाएंगी लेकिन दूसरे विभागों में रेजिडेंट डॉक्टर काम नहीं करेंगे। कोरोना वार्ड में भी निवासी डॉक्टर काम करते रहेंगे। मार्ड इस मामले में सरकार से लिखित आश्वासन भी चाहता है। मार्ड पदाधिकारियों ने चिकित्सा शिक्षा मंत्री अमित देशमुख के साथ बैठक की थी लेकिन वह बेनतीजा रही।

रेजिडेंट डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें सरकार की ओर से मौखिक आश्वासन तो दिया जा रहा है लेकिन वे इस पर भरोसा नहीं कर सकते। नाराज रेजिडेंट डॉक्टरों ने विभिन्न अस्पतालों के सामने तख्तियां लेकर विरोध प्रदर्शन भी किया। डॉक्टरों का कहना है कि पिछले डेढ़ सालों से वे लगातार कोरोना संक्रमण के चलते मरीजों की सेवा में जुटे हैं। इस दौरान उन्हें किसी तरह का प्रशिक्षण नहीं दिया गया। इसलिए उनका शिक्षाशुल्क माफ किया जाना चाहिए। 

खबरें और भी हैं...