कीचड़ निकालने पर मेरी टाईम बोर्ड ने खर्च कर दिए 22 करोड़, RTI से खुलासा

Meritime board spent 22 million on mud removal - Information from RTI
कीचड़ निकालने पर मेरी टाईम बोर्ड ने खर्च कर दिए 22 करोड़, RTI से खुलासा
कीचड़ निकालने पर मेरी टाईम बोर्ड ने खर्च कर दिए 22 करोड़, RTI से खुलासा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड ने पिछले पांच महीनों में वर्सोवा, वसई और मांडवा में कीचड़ निकालने के लिए 22 करोड़ रुपए खर्च कर दिए। यह रकम कीचड़ निकालने के नाम पर निजी कंपनियों को दिए गए हैं, जबकि उसके अपने पास कीचड़ निकालने की मशीन (ड्रेजर) है। दाल में इसलिए भी काला लग रहा है, क्योंकि कीचड़ निकालने के बाद कहां फेंका गया मेरी टाइम बोर्ड इसका खुलासा नहीं कर रहा है।

RTI कार्यकर्ता अनिल गलगली ने महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड से पिछले 3 साल में निकाले गए कीचड़ की जानकारी मांगी थी। महाराष्ट्र मेरी टाइम बोर्ड के सागरी अभियंता ने जो जानकारी दी उसके मुताबिक महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड के ड्रेजर द्वारा साल  2016- 17 में गोराई जेट्टी से अप्रैल 2016 से मई 2017 के दौरान 27,300 घन मीटर कीचड़ निकाला गया। बोरीवली जेट्टी से जनवरी 2017 से मार्च 2017 के दौरान 23,750 घन मीटर और देवबाग (कल्याण) में अक्टूबर  2016 से मई 2017 के दौरान 36,581 घन मीटर कीचड़ निकाला गया। साल 2017-2018 के अप्रैल 2017 से मई  2017 के दौरान महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड के ड्रेजर द्वारा बोरीवली जेट्टी से 17,250 घन मीटर कीचड़ निकाला गया। इसके बाद महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड ने निजी कंपनी की मदद ली और पांच महीने में कीचड़ निकालने के लिए 22 करोड़ 14 लाख 43 हजार 470 रुपए खर्च किए। 

महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड ने मेसर्स समुद्रा कंपनी को नवंबर 2017 से दिसंबर 2017 के दौरान 45,988 घन मीटर कीचड़ निकालने के लिए 1 करोड़ 66 लाख 93 हजार 644 रुपए अदा किए हैं। महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड ने मेसर्स समुद्रा ड्रेजिंग प्रा.लि  नाम की कंपनी को दिसंबर 2017 से फरवरी 2018 के दौरान वर्सोवा स्थित 1,28,586 घन मीटर कीचड़ निकालने के लिए 3 करोड़  93 लाख 47 हजार 316 रुपए अदा किए। महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड ने मेसर्स रॉक एंड रिफ ड्रेजिंग प्रा.लि इस कंपनी को जनवरी 2018 से मार्च 2018 इस दौरान मांडवा स्थित 1,72,557 घन मीटर कीचड़ निकालने के लिए 6 करोड़ 72 लाख 97 हजार 230 रुपए अदा किए । महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड ने मेसर्स रॉक एंड रिफ ड्रेजिंग प.लि कंपनी को अप्रैल 2018 से मई 2018 के दौरान मांडवा से 2,51,552 घन मीटर कीचड़ निकालने के लिए 9 करोड़ 81 लाख 05 हजार 280 रुपए अदा किए। 

अनिल गलगली के मुताबिक महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड के पास खुद का ड्रेजर होते हुए भी कीचड़ निकालने का काम निजी कंपनी को सौंपा इससे संदेह होता है। महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड को यह खुलासा करना चाहिए कि निकाला गया कीचड़ कहां फेंका गया है। गलगली ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को खत लिखकर मांग की है कि भविष्य में कीचड़ निकालने का काम निजी कंपनियों को देने के बजाय मेरी टाइम बोर्ड को खुद करना चाहिए। 

Created On :   28 Sep 2018 3:56 PM GMT

और पढ़ेंकम पढ़ें
Next Story