comScore

छवि चमकाने सोशल मीडिया के सहारे नागपुर यूनिवर्सिटी, शीघ्र जारी होगी आईडी

छवि चमकाने सोशल मीडिया के सहारे नागपुर यूनिवर्सिटी, शीघ्र जारी होगी आईडी

डिजिटल डेस्क, नागपुर। यूनिवर्सिटी ने अपनी छवि चमकाने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेने का निर्णय लिया है। यूनिवर्सिटी अनुदान आयोग ने  यूनिवर्सिटी को फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया पर सक्रियता बढ़ाने के आदेश दिए हैं। यूनिवर्सिटी को नियमित रूप से इन अकाउंट्स पर सकारात्मक पोस्ट डालनी होगी। इसके अलावा  यूनिवर्सिटी में होने वाले सराहनीय उपक्रम और अन्य चीजें भी पोर्टल पर अपलोड करनी होंगी। 

अकाउंट चलाने शिक्षक होंगे नियुक्त

यूनिवर्सिटी कुलगुरु डाॅ. सिद्धार्थ विनायक काणे ने बताया कि, ये सोशल मीडिया अकाउंट्स चलाने के लिए यूनिवर्सिटी एक शिक्षक को सोशल मीडिया चैंपियन के रूप में नियुक्त करेगा। दरअसल, डिजिटल इंडिया के दौर में प्रशासनिक संस्थाएं भी सोशल मीडिया का प्रयोग करने लगी हैं। पब्लिक रिलेशन बनाने के िलए फेसबुक और ट्विटर जैसे प्लेटफॉर्म का खुलकर उपयोग हो रहा है। ऐसे में विवि भी इस पर सक्रिय होगा। डाॅ. काणे के अनुसार विद्यार्थियों से संवाद साधने का यह एक अच्छा मौका होगा।  यूनिवर्सिटी में कई बार ऐसे मौके आते हैं, जब किसी घटना पर यूनिवर्सिटी अपना मत  समाज के बीच नहीं रख पाता। सोशल मीडिया के उपयोग से यूनिवर्सिटी आसानी से समाज के बीच अपनी बात पहुंचा सकता है। यूनिवर्सिटी जल्द ही सोशल मीडिया आईडी जारी करेगा। 

अब भूल सुधारेगा यूनिवर्सिटी, दोबारा होगी परीक्षा

राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय ने आगामी 15 दिन के भीतर एमए इन वुमन स्टडीज का "वुमन पॉलिटिक्स एंड गवर्नेंस' विषय का पेपर दोबारा लेने का निर्णय लिया है। 16 अक्टूबर को निर्धारित इस परीक्षा का प्रश्नपत्र तैयार नहीं होने के कारण पेपर नहीं हो पाया था। ‘दैनिक भास्कर’ द्वारा इस विषय को प्रमुखता से उठाने के बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन इस दिशा में सक्रिय हुआ है। मामले में यूनिवर्सिटी कुलगुरु डाॅ. सिद्धार्थविनायक काणे ने कहा है कि, यह पूर्व विद्यार्थियों की परीक्षा थी, इसमें भी महज एक छात्रा थी। गलती से यूनिवर्सिटीके रिकॉर्ड में आया कि, विषय में एक भी परीक्षार्थी नहीं है। ऐसे में पेपर नहीं भेजा गया। वरना यूनिवर्सिटी के पास पेपर के सेट तैयार रहते हैं। बुधवार को भी वक्त पर यूनिवर्सिटी प्रशासन को सूचना मिलती तो तुरंत छात्रा के लिए पेपर भिजवाया जा सकता था, लेकिन यूनिवर्सिटी इस गलती को जरूर सुधारेगा। 15 दिन के भीतर छात्रा की परीक्षा ली जाएगी। 

कमेंट करें
CIXDJ