दैनिक भास्कर हिंदी: होटल में सीएम से मिलने क्यों गए थे उद्धव ठाकरे? NCP प्रदेश अध्यक्ष ने उठाए सवाल

January 10th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। आज यदि शिवसेना प्रमुख बाला साहेब ठाकरे होते तो भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को शिवसेना के बारे में इस तरह की भाषा का इस्तेमाल करने की हिम्मत नहीं होती। जब दोनों दलों के बीच हर रोज इस तरह झगड़ा हो रहा है तो ऐसी स्थिति में शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे सीएम से मिलने क्यों गए थे?’ इस तरह का सवाल प्रदेश राकांपा अध्यक्ष जयंत पाटील ने किया है। पाटील गुरुवार को रायगढ़ में राकांपा के परिवर्तन यात्रा के शुभारम्भ के मौके पर जनसभा को संबोधित कर रहे थे। 

पाटील ने दावा किया कि दो दिनों पहले शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मिलने सोफिटेल होटल में रात के वक्त गए थे। उन्होंने सवाल किया कि जब भाजपा-शिवसेना में रोज वाकयुद्ध हो रहे हैं तो उद्धव को सीएम से गुपचुप मिलने की क्यों जरूरत आन पड़ी। उन्होंने कहा कि अब कोई लहर नहीं बची है। अब तो जनता इनकी हालत खराब करेगी। पाटील ने कहा कि उद्धव यदि बाला साहेब के रक्त हैं तो सरकार से बाहर निकलने की हिम्मत दिखाए। उन्होंने कहा कि रायगढ से सुनील तटकरे को लोकसभा चुनाव की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उन्हें लोकसभा में भेजने की तैयारी करो। 

इनकम टैक्स भरने वालों को आरक्षण क्यों: अजित पवार 
जनसभा को संबोधित करते हुए राकांपा के वरिष्ठ नेता अजित पवार ने सवर्ण आरक्षण पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि इनकम टैक्स भरने वालों को आरक्षण कि क्या जरूरत है। अजित ने कहा कि यदि आरक्षण देना ही था तो गरीबों को देते। छगन भुजबल ने कहा कि आरक्षण के नाम पर मराठा और ओबीसी को आपस में लड़ाया जा रहा है। विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने कहा कि अब शिवसेना को अपना प्रतिक चिन्ह बदल कर बाघ की बजाय बकरी कर लेना चाहिए।