सडक़ सुरक्षा यातायात जागरूकता कार्यक्रम संपन्न: पन्ना में प्रत्येक वर्ष हो रही है औसतन 600 वाहन दुर्घटनायें : पुलिस अधीक्षक

July 30th, 2022

डिजिटल डेस्क,पन्ना। यातायात पुलिस द्वारा स्थानीय अजयगढ़ चौराहे में यातायात के प्रति जागरूकता के लिए चलाये जा रहे अभियान के तहत एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। सडक़ सुरक्षा यातायात जागरूकता कार्यक्रम में  मंत्री बृजेंन्द्र प्रताप सिंह,पुलिस अधीक्षक धर्मराज मीणा,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती आरती सिंह,जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक पत्रकार,स्काउट एनएसीएसी के छात्र,शिक्षकगण सहित यातायात विभाग के अधिकारी कर्मचारी मौजूद थे। आयोजित कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक धर्मराज मीणा ने बताया कि पन्ना जिले में हर वर्ष औसतन 600 से अघिक वाहन दुर्घटनाये होती है। 120 व्यक्तियों की औसतन मृत्यृ हो जाती है और 500 से अधिक लोग वाहन दुर्घटनाओं में घायल हो जाते है। सबसे दो पहिया वाहन चालकों की दुर्घटना होती है। जिनमें ज्यादतर चालक तेज रफ्तार से तथा लापरवाही पूर्वक वाहन चालते है। सुरक्षा के सबसे जरूरी हेलमेट का प्रयोग भी नही करते है।

वाहन चलाते समय फोन से बात करना,शराब पीकर गाड़ी चलाना जैसे कारण दुर्घटना की सबसे बड़ी वजह है। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि सडक़ सुरक्षा के नियमों का पालन करने से ही दुर्घटनाये कम होगी। पुलिस अधीक्षक ने इस दोैरान यातायात पुलिस यातायात के नियमों के पालन कराने को लेकर नई टैक्नोलाजी का प्रयोग कर रही है। पीओएस मशीन से चालान,ध्वनि मापन की मशीन,स्पीड रडार से वाहन की गति का पता लगाकर कार्यवाही की जा रही है। आयोजित कार्यक्रम में मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने स्वयं सेवी संगठनों,एनसीसी कैडेस,स्काउट एवं गाइट के विद्यार्थियों को यातायात जागरूकता अभियान में शामिल होने की प्रसन्नता करते हुए कहा कि यातायात के नियमों का पालन करने से हम दुर्घटनायें रोक सकते है। 

एनसीसी एवं स्काउट गाइट के छात्रों को बांटी गई टी शर्ट 

आयोजित सडक़ सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम के दौरान भारतीय स्टेट बैंक से प्रदत्त टी-शर्ट एवं मोमेंटो का वितरण मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह द्वारा,स्काउट गाइट तथा एनसीसी के छात्र-छात्राओं को किया गया। कार्यक्रम समापन उपरांत यातायात विभाग द्वारा जागरूकता रैली निकाली गई।जिसमे पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, पुलिस विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी एनसीसी कैडेट्स, स्काउट गाइड, एसबीआई और बैंक ऑफ़ इंडिया के कर्मचारी, लायंस क्लब के सदस्य,स्थानीय नागरिक शामिल रहे।