comScore

पूजा-पाठ के नाम पर धोखाधड़ी करने वाला एक आरोपी गिरफ्तार, दो अब भी फरार

पूजा-पाठ के नाम पर धोखाधड़ी करने वाला एक आरोपी गिरफ्तार, दो अब भी फरार



डिजिटल डेस्क जबलपुर। पूजा-पाठ कराने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले एक आरोपी को जबलपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी जगदीश जोशी पिता बंशीलाल उम्र 60 वर्ष निवासी राठौर धर्माशाला वाली गली इस्लामपुरा मोहल्ला, कोतवाली जिला मुरैना को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जबकि उसके दो अन्य साथी  विजय पिता रामदयाल जगा (बाबा) उम्र 60 वर्ष निवासी प्रजापति मोहल्ला हातरी कैलारस थाना कैलारस जिला मुरैना, केशव पिता खच्चूराम जगा उम्र 45 वर्ष निवासी प्रजापति मोहल्ला हातरी कैलारस थाना कैलारस जिला मुरैना अब भी फरार हैं। संबंधित आरोपी बाबा बनकर लोगों को ठगी का शिकार बनाते थे।
यह है पूरा मामला-
गोरखपुर थाना अंतर्गत दिनॉक 23-9-19 को सुनील पचौरी उम्र 51 वर्ष निवासी अशोक बिहार कालोनी रामपुर ने रिपोर्ट दर्ज करायी थी, कि वह शिक्षा विभाग में शिक्षक के पद पर पदस्थ है।  04.09.19 को सुबह लगभग 09-30 बजे उसके घर पर तीन बाबा आये और आवाज दिये,  उसने बाहर आकर देखा तो उन्हे नहीं पहचाना, उन्होंने उसका सरनेम पचोरी कहकर कहा कि बेटा पहचाने नहीं मैं मेहदीपुर बालाजी वाला गुरु हूँ, तब उसे ध्यान आया कि उनसे उसकी मुलाकात वर्ष 2009 में  बी.एम. गुल्हानी के यहाँ पूजन कार्यक्रम में हुई थी, उसने उन्हें अन्दर आने के लिये कहा तो वे लोग अन्दर आ गये, चाय पीने के दौरान तीनों बाबा लोग उसकी छोटी बेटी तेजस्वनी के बारे में कहने लगे कि आपकी बेटी का दिमाग कम है उसका पढऩे में मन नहीं लगता है। आपको इसके लिये पूजन करवाना पड़ेगा, बेटी ठीक हो जायेगी, और बोले की इस पूजन में 13 दिन लगेगें , प्रतिदिन पूजन का खर्च 800 रुपये आयेगा, तो उसकी सासू माँ श्रीमती चन्दा शर्मा ने 10 हजार 500 रुपये निकाल कर दे दिये । इसके बाद वे बाबा लोग उसके घर से चले गये। इसके बाद उसके मोबाईल पर एक मोबाईल नम्बर से बार-बार बात किये और दिनाँक 18.09.19 को उसके घर पर तीनों बाबा आये और बोले कि तुम पर ब्रम्हहत्या का दोष है, स्वर्ण पूजन कराना ह।  इसका अलग से पूजन करना पड़ेगा, कहकर पूजन सामग्री एकत्रित किये एवं उसके घर पर आकर दो दिन पूजन किये , पूजन के दौरान कहने लगे कि धन शुद्धि के लिये स्वर्ण पूजा की जाना है जो भी आपके घर में सोने के जेवरात हैं लेकर आए। दिनाँक 21.09.19 को ही घर में रखे  सोने की 3 चैन ( वजनी करीब पौने 5 तोला),  . 8 अंगूठी ( एक पुखराज जडि़त सोने की, एक हीरे नग से जडि़त सोने की और 06 सोने की हैं , जिनका वजन लगभग 07 तोला ), 1 पंचाली, 1 जोड़ी कनछड़ी  वजनी डेढ़ तोला ,  06 नग कंगन  वजनी साढे तीन तोला, 1 जोड़ी कान के रिंग वजनी 05 ग्राम , 1 जोड़ी कान के टाप्स वजनी 05 ग्राम, 2 हार  वजनी साढे तीन तोला, 1 बेंदी वजनी 08 ग्राम  के लाकर दिये जिसे रुमाल में बांधकर पूजन में रखवा लिये और पूजन करने लगे और बोले कि आपके पितरों का पूजन करना है  एवं उसे पत्नी सहित पश्चिम दिशा की ओर मुँह कराकर बैठा दिए। एक बाबा ने हमारे पीछे खड़े होकर पूजन कराया, इसके बाद कहने लगे कि गोल्ड जहाँ पर रखा है वहीं रखा रहेगा हम कल आकर फिर से हवन करेगें उसके बाद आप अपने जेवरात उठा सकेगें। तीनों बाबा पूजन के उसी दिन दिनाँक 21.09.19 को शाम 07.15 बजे जाते समय बोले कि कल  दिनाँक 22.09.19 को शाम 04.00 बजे हम लोग आयेगें, ऐसा कहकर कर चले गये और फिर नहीं आये । उसने दिनाँक 22.09.19 को शाम लगभग 07.00 बजे पूजन के स्थान पर रखी जेवरातों की पोटली खोलकर देखा तो उसके जेवरात वहाँ पर नहीं थे, उसमें 04 नग  नकली चूडियाँ रखी मिली, तीनों बाबा पूजन के बहाने उसके सोने के जेवरातों को धोखाधड़ी कर ले गये हैं। रिपोर्ट पर धारा 420 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण विवेचना में लिया गया।
मुरैना से किए गिरफ्तार-
गठित टीम के द्वारा घटना स्थल के पास पास आरोपियें  के सम्बंध मे पतासाजी की गयी एवं संदेहियों के फुटेज प्राप्त किये गये, मिले फुटेज के आधार पर संदेहियें का चिन्हित किया गया एवं एक टीम जिला मुरैना रवाना की गयी, टीम के द्वारा पतासाजी करते हुये 1 संदेही जगदीश जोशी को पकड़ा गया, जिसने पूछताछ पर अपने साथी विजय जगा एवं  केशव जगा के साथ मिलकर झाड़ फूंक-पूजा पाठ के नाम पर जेवरों की ठगी करना स्वीकार करते हुये पूरे जेवर विजय एवं केशव के पास होना बताया, विजय एवं केशव के घरों पर दबिश दी गयी जो फरार मिले। जगदीश जोशी को विधिवत प्रकरण में गिरफ्तार किया और   फरार विजय जगा एवं केशव जगा की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं।
 इनकी रही उल्लेखनीय भूमिका- आरोपी की गिरफ्तारी में थाना प्रभारी गोरखपुर  उमेश तिवारी , उप निरीक्षक मदन सिंह मरावी, क्राईम ब्रांच के नीरज केवट, नितिन मिश्रा, अमित दुबे, शैलेन्द्र कौरव, आदित्य, की सराहनीय भूमिका रही है।

कमेंट करें
Rubox