जमीनों का सटीक नापजोख: 1 घंटे में हो जाएगी एक एकड़ की नपाई, जबलपुर में हो चुका डेमो, अधारताल में बनाया स्टेशन

October 4th, 2021

डिजिटल डेस्क जबलपुर । जमीनों की नाप-जाेख में अभी तक ये िशकायतें मिलती थीं कि कुछ हिस्सा दूसरे की जमीन का भी नपाई में शामिल हो गया है। इसी तरह नपाई के काम में कई बार पूरा दिन बीत जाता था। इन समस्याओं से अब जल्द ही छुटकारा मिलने वाला है। जमीनों के सीमांकन के लिए एक नई मशीन आ रही है जिसमें सेटेलाइट से सिग्नल मिलेंगे और यह मशीन काम करेगी। इसके लिए अधारताल में सर्वे ऑफ इंडिया के दफ्तर में स्टेशन भी बनाया गया है। इस मशीन से लगभग 1 घंटे में एक एकड़ जमीन की नपाई हो जाएगी। मशीन कैसे काम करेगी इसका डेमो जबलपुर में दिया गया। सीमांकन के लिए कंटीन्यू ऑपरेटिंग रेफरेंस स्टेशन (कॉर्स) लगाए जाएँगे जो मोबाइल टॉवर की तरह होते हैं। ये सीधे सेटेलाइट से सिग्नल लेंगे और इसके बाद रोवर व कंट्रोलर में भेजे जाएँगे, जिससे जमीन का सीमांकन हो सकेगा। इसमें किसी भी मौसम में जमीन का सीमांकन हो सकेगा और खड़ी फसल में भी जमीन की नपाई में कोई परेशानी नहीं आएगी। वहीं इस मशीन से नपाई करने पर एक्यूरेसी भी रहेगी। 
सिर्फ एक मशीन ही मिलेगी
पूरे सिस्टम के लिए कंट्रोल सेंटर भोपाल में बनाया जाएगा, वहीं हर जिले को एक मशीन मिलेगी। इसी तरह जबलपुर को भी एक मशीन दी जाएगी। एक तरह से देखा जाए तो जिले में टीएसएम की 11 मशीनें हैं, जिनसे सीमांकन होता है। नई मशीन से अब हर तहसील में कितने सीमांकन हो पाएँगे और कितना वक्त लगेेगा यह अाने वाले समय में ही पता चलेगा। 

खबरें और भी हैं...