दैनिक भास्कर हिंदी: कत्ल का पर्दाफाश : अवैध संबंध बनाना चाहता था मृतक, प्रेमी के साथ मिलकर उतार दिया मौत के घाट

February 21st, 2019

डिजिटल डेस्क, सतना। पिछले दिनों हुई युवकी हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। हत्या के आरोप में पुलिस ने मुनिया कुशवाहा और उसके प्रेमी अरविंद सिंह को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि मृतक मुनिया के साथ अवैध संबंध बनाना चाहता था, जिसके कारण वह उसे आए दिन परेशान और ब्लैकमेल करता था। मुनिया और उसके प्रेमी ने योजना बनाकर युवक की हत्या कर लाश को जगतदेव तालाब की मेड़ में पर फेंक दिया था।

ऐसे हुआ खुलासा
पुलिस ने बताया कि 19 फरवरी को 28 वर्षीय मृतक मोहर सिंह उर्फ कल्लू पिता सत्यनारायण कुशवाहा निवासी पुष्पराज कालोनी के भाई प्रेम कुमार ने पुलिस को इस आशय की इत्तला दी थी कि उसके छोटे भाई की लाश जगतदेव तालाब के पास मेड़ पर पड़ी हुई है। पुलिस ने प्रथमदृष्टया जांच में पाया कि मोहर सिंह की हत्या गला घोंट कर की गई है। जांच जब आगे बढ़ाई गई तो ये तथ्य सामने आया कि मृतक 18 फरवरी की रात पुष्पराज कालोनी में ही रहने वाली 19 वर्षीया मुनिया कुशवाहा पुत्री अरविंद कुशवाहा के घर के आसपास देखा गया था। मुनिया के इर्द-गिर्द संदिग्ध साक्ष्य मिलने की स्थिति में सिटी कोतवाली की सब इंस्पेक्टर प्रीति पालेवर, सत्यकीर्ति ने संदेही मुनिया को हिरासत में लेकर पूछताछ की, जिसके बाद हत्या का खुलासा हुआ।

प्रेम संबंध उजागर करने की देता था धमकी
पुलिस को आरोपी मुनिया ने बताया कि वो मूलत: उत्तर प्रदेश के जालौन जिला निवासी माधवगढ़ थाना क्षेत्र के जमरेही की रहने वाली है और यहां किराए के मकान में रह कर पढ़ाई करती है। पेशे से चाट-फुल्की विक्रेता मृतक मोहर उर्फ कल्लू भी उसी के गांव का रहने वाला है। मुनिया ने पुलिस को बताया कि उसी के गांव जमरेही में रहने वाला 32 वर्षीय अरविंद जाटव पिता रामदास जाटव भी यहां चाट-फुल्की बेंचने का काम करता है और पुष्पराज कालोनी में ही रहता है। मुनिया का इसी अरविंद जाटव से प्रेम संबंध था। इसी संबंध का परिजनों के बीच पर्दाफाश कर देने की धमकियों के साथ मृतक उसे अवैध संबंध बनाने के लिए ब्लैकमेल किया करता था।

चाय में मिली दी थीं नींद की 10 गोलियां
रोज-रोज की ऐसी ही हरकतों से तंग मुनिया ने अरविंद के साथ मिलकर जानलेवा साजिश रची। साजिश के तहत 18 फरवरी को रात 10 बजे मुनिया ने मोहर कुशवाहा उर्फ कल्लू को अपने मोबाइल से कॉल कर घर बुलाया। उसने चाय में नींद की 10 गोलियां मिला कर मोहर को पिला दीं। मोहर जब बेहोश हो गया तो अरविंद जाटव और मुनिया ने मिल कर रात 12 बजे से 2 बजे के बीच लेडीज दुपट्टे से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद साक्ष्य मिटाने के इरादे से दोनों शव को अरविंद की बाइक में लेकर सुबह 3 बजे जगतदेव तालाब पहुंचे। शव को पानी में फेंकने की कोशिश नाकाम होने पर उसे मेड़ पर ही छोड़ कर चले गए। पूछताछ में मुनिया की तरह अरविंद जाटव ने भी अपना अपराध स्वीकार कर लिया है।

ये रहे खुलासे में शामिल
रीवा डीआईजी अविनाश शर्मा और एसपी संतोष गौर ने 2दिन के अंदर हत्या की अंधी गुत्थी सुलझा लेने की कामयाबी में शामिल पुलिस पार्टी को 10 हजार के नकद इनाम की घोषणा की है। पुलिस पार्टी में सिटी कोतवाली की सब इंस्पेक्टर प्रीति पालेवर, सत्यकीर्ति, हेड कांस्टेबल राजेश सिंह, आरक्षक राहुल सिंह, ब्रजेश ङ्क्षसह, वाजिद खान, अरविंद सिंह, रमाकांत तिवारी, जगदीश मीणा और लाखन पंडा शामिल थे।