• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Preparations were made to sell the girl as a bride - UP police rescued from the clutches of human trafficker gang

दैनिक भास्कर हिंदी: दुल्हन बना कर थी युवती को बेचने की तैयारी - मानव तस्कर गिरोह के चंगुल से यूपी पुलिस ने छुड़ाया

September 30th, 2019

डिजिटल डेस्क सतना। जिले के अमरपाटन थाना क्षेत्र के एक गांव से बहन के देवर के साथ हाल ही में घर से भागी एक किशोरी प्रयागराज में अंतरराज्यीय मानव तस्कर गिरोह के चंगुल में फंस गई। किशोरी को दुल्हन बना कर 2 लाख में बेचने की तैयारी चल ही रही थी कि रविवार को यूपी की प्रयागराज पुलिस ने न केवल इस किशोरी के साथ बनारस की एक और नाबालिग लड़की को बरामद कर लिया बल्कि गैंग का फंडाफोड़ करते हुए 11 आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया। प्रयागराज के एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि  हत्थे चढ़े गिरोह के सदस्यों में से 3 महिलाएं और 8 युवक हैं। गिरोह के पास से शादी के फर्जी कागजात भी जब्त किए गए हैं। 
अमरपाटन थाने में दर्ज था अपराध 
प्रयागराज (इलाहाबाद) से रविवार को मानव तस्कर गिरोह के चंगुल से मुक्त कराई गई अमरपाटन थाना क्षेत्र के एक गांव की किशोरी 25 सितंबर को त्रैमासिक परीक्षा देेने के बहाने घर से स्कूल के लिए निकली थी। शाम तक जब किशोरी घर नहीं पहुंची तो तमाम तलाश से हताश परिजनों ने मामले की सूचना अमरपाटन थाने को दी। थाने में नाबालिग के अपहरण के तहत आईपीसी के सेक्सन 363 के तहत कायमी की गई थी।  
  ऐसे हुआ खुलासा 
प्रयागराज के एसपी सिटी ने बताया कि शनिवार को खुल्दाबाद थाने पहुंचे एक युवक ने  पुलिस को बताया कि वो अपनी बहन के साथ घूमने के लिए प्रयागराज आया हुआ था। रेलवे स्टेशन में स्वयं को पुलिस आफीसर बताने वाला एक व्यक्ति उसकी बहन को पकड़ कर अपने साथ ले गया। उसने किशोरी को छोडऩे के एवज में पैसे भी मांगे।  पुलिस को युवक की बातों पर शक हुआ तो पूछताछ में जरा सी सख्ती दिखाई गई। अंतत: युवक ने माना कि वो अपनी भाभी की बहन के साथ भागकर प्रयागराज पहुंचा था। इसी युवक की निशानदेही पर पुलिस की एक टीम ने बेनीगंज स्थित एक घर में दबिश दी। यहां किशोरी के साथ बंधक बना कर रखी गई बनारस की भी एक नाबालिग लड़की बरामद की गई। पकड़ में आए गिरोह के सदस्यों में सिमरन, सोनी उर्फ स्नेहा पांडेय, नीतू साहू, प्रदीप कुमार, जानू सोनकर, डब्बू साहू, अमित कुमार,दिलबर हबीब, लकी श्रीवास्तव, विकास सिंह और संतोष साहू शामिल हैं। 
 100 से भी ज्यादा लड़कियां हो चुकी हैं शिकार 
प्रयागराज के एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि गैंग का सगरना डब्बू साहू बाल विवाह अधिकारी बनकर अपने साथियों के साथ रेलवे स्टेशन में घर से भागी नाबालिग लड़कियों पर नजर रखता था। शक पुख्ता होने पर लड़कियों को पूछताछ के बहाने बेनीगंज स्थित अड्डे पर ले जाया जाता था और प्रेमी को धमका कर भगा दिया जाता था। इसके बाद इन लड़कियों को दुल्हन बना कर 2 से 4 लाख रुपए में दिल्ली, राजस्थान, झारखंड, गुजरात और पश्चिम बंगाल में बेंच दिया जाता था।  पुलिस ने बताया कि गिरोह के दलाल मुंबई तक फैले हुए हैं। पूछताछ में गिरोह ने अब तक 100 से भी ज्यादा लड़कियों का सौदा करने का अपराध स्वीकारा है। प्रयागराज के एसपी सिटी के दावे के मुताबिक बरामद डाटा के आधार पर अब तक शिकार हुई लड़कियों के संबंध में भी पता लगाया जा रहा है। ज्यादातर लड़कियां गरीब घरों से हैं जो मां बाप की डांट फटकार के कारण घर छोड़कर भागी थीं।