दैनिक भास्कर हिंदी: किसानों की आय बढ़ाने के लिए विशेष प्रारूप तैयार : बावनकुले

March 3rd, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी ने विद्यापीठ प्रशासन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि  संशोधन करना विद्यापीठ का कर्तव्य है। समयानुसार नए संशोधन हो, यह अपेक्षा विद्यापीठ से की जाती है। लेकिन, विद्यापीठ संशोधन छोड़कर राजनीति में अधिक दिलचस्पी ले रहा है। नागपुर विद्यापीठ से अधिक मेरा व्यक्तिगत संशोधन ज्यादा है। राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विद्यापीठ के स्नातकोत्तर हिंदी विभाग व शिक्षण मंच की ओर से आयोजित राष्ट्रीय चर्चासत्र के उद्घाटन अवसर पर केंद्रीय मंत्री गडकरी बोल रहे थे। इस अवसर पर कैनाडा के पर्यावरणविद् पाम कलसी उपस्थित थे। विद्यापीठ के संशोधन और अंतर्गत राजनीति पर हमेशा टिप्पणी पर करने वाले केंद्रीय मंत्री गडकरी ने फिर विद्यापीठ को कटघरे में खड़ा किया। गडकरी ने कहा कि इस विद्यापीठ की अपेक्षा मेरी खुद की प्रयोगशाला बड़ी है। विद्यापीठ में अनेक विशेषज्ञ है। लेकिन संशोधन में वह पिछड़ा है। अपने आसपास की समस्या का अभ्यास कर उसे हल करने पर संशोधन करना आवश्यक है। इसके लिए विद्यापीठ को पहल करनी चाहिए। दुनिया में ‘वेस्ट’ कुछ भी नहीं। इस ‘वेस्ट’ से वेल्थ तैयार हो सकता है। सबकुछ संभव है। सिर्फ विद्यापीठ नये संशोधन के लिए पहल करें। उन्होंने कहा कि शहर के स्मार्ट परिवहन पर्यावरण रक्षणार्थ आवश्यक है। इसके लिए सरकार कार्य कर रही है। इस अवसर पर शिक्षण मंच की डॉ. कल्पना पांडे ने प्रास्ताविक में कहा कि  विद्यार्थियों को पर्यावरण रक्षा और स्मार्ट सिटी के नियोजन की जानकारी देने के उद्देश्य से इस चर्चासत्र का आयोजन किया गया है। मंच पर शिक्षण मंच के डॉ. संजय दुधे, हिंदी विभाग प्रमुख डॉ. प्रमोद शर्मा, डॉ. सतीश चाफले प्रमुखता से उपस्थित थे। चर्चासत्र शिक्षण मंच द्वारा आयोजित करने को लेकर यह भाजपा का प्रचार कार्यक्रम होने का आरोप कुछ संगठनों ने लगाया है। इसके लिए आंदोलन भी किया गया था। जिस कारण कार्यक्रम की निमंत्रण पत्रिका में नाम होने के बावजूद कुलगुरु डॉ. काणे, प्र-कुलगुरु डॉ. येवले अनुपस्थित होने की चर्चा रही। 

किसानों की आय बढ़ाने के लिए विशेष प्रारूप तैयार : बावनकुले

उधर किसानों के अलावा ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की आय बढ़ाने के लिए मत्स्य व्यवसाय, दुग्धविकास व पशुधन विकास का विशेष प्रारुप तैयार किया गया है। इसके तहत मत्स्य व्यवसाय के लिए 2 करोड़ व पशुधन विकास प्रारूप के तहत महिला बचत समूहों को  बकरी पालन व दुग्धव्यवसाय के लिए ढाई करोड़ की निधि उपलब्ध कराने की जानकारी पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने गई। हैद्राबाद हाऊस में हुई बैठक में पालकमंत्री बावनकुले ने विविध विषयाें व मुद्दों की समीक्षा की। बैठक में खनिकर्म विकास महामंडल के अध्यक्ष एड. आशीष जायस्वाल, विधायक सुधाकर कोहले,  नागपुर महानगर विकास प्राधिकरण की अध्यक्ष शीतल उगले, मुख्यमंत्री कार्यालय की विशेष कार्य अधिकारी आशा पठान, निवासी उप-जिलाधिकारी रवींद्र खजांजी, उप-जिलाधिकारी रवींद्र कुंभारे, म्हाड़ा के मुख्याधिकारी भिमनवार, जिला नियोजन अधिकारी मिलिंद नारिंगे व विविध विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की  प्रतिदिन आय बढ़ाने के लिए जिला स्तर पर विशेष प्रारूप तैयार कर उसके तहत आने वाले विशेष प्रकल्पाें के लिए जिला नियोजन मंडल, जिला खनिज निधि अंतर्गंत निधि उपलब्ध कराई जाएगी।  पशुसंवर्धन विभागांतर्गंत तहसील स्तर पर महिला बचत समूह व दिव्यांग व्यक्तियों के लिए पशुपालन व बकरी पालन शुरू करने के लिए  हर तहसील को 25 लाख की निधि उपलब्ध करायी जाएगी। नाविण्य उपक्रम के तहत यह योजना चलाई जाएगी।  मानव विकास  योजना के तहत  कृषि यांत्रिकीकरण के लिए एक करोड़ 79 लाख की निधि उपलब्ध हुई है। विशेष अभियानांतर्गंत नियोजन करने की सूचना पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने बैठक में दी। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ‘सर्वांसाठी घरे’ नागपुर मनपा के अलावा जिले की सभी नगर पालिका आैर नगर पंचायतों में सरकारी जगह पर बसे झोपड़पट्टीधारकों को मालकी हक के पट्टे वितरण का काम  15 जून तक पूर्ण करने के निर्देश पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने दिए। साथ ही तय समय में घरों का निर्माण करने को कहा।

खबरें और भी हैं...