दैनिक भास्कर हिंदी: निगेटिव कोरोना रिपोर्ट को पॉजिटिव बताने वाले निजी लैब पर रोक 

April 2nd, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य सरकार ने कोरोना वायरस की जांच के लिए जिन आठ प्राइवेट लैब को अनुमति दी थी उनमें से एक की अनुमति बुधवार को रद्द कर दी। बुधवार को प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने यह जानकारी दी। टोपे ने कहा कि कुछ निजी लैब कोरोना वायरस के मरीजों की रिपोर्ट समय पर देने में असमर्थ साबित हैं। मरीजों के कोरोना वायरस जांच की निजी लैब से मिली रिपोर्ट को सरकार की ओर से चलाए जाने वाले लैब में दोबारा जांचा जा रहा है। निजी लैब में कुछ मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी लेकिन सरकारी लैब में दोबारा जांच करने पर संबंधित मरीज की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

इसके अलावा निजी लैब से जांच रिपोर्ट आने में एक से दो दिन लग जाते हैं। संभवतः निजी लैब के पास कीट उपलब्ध नहीं होने के कारण जांच में देरी होती है। इसलिए गलत रिपोर्ट देने वाले निजी लैब को कोरोना वायरस की जांच से मना किया गया है। 

खबरें और भी हैं...