comScore

टूरिज्म है विदर्भ का ग्रोथ इंजन, राऊत ने विकास कार्यों को गति देने के लिए पर्यटन विकास को महत्वपूर्ण माना

टूरिज्म है विदर्भ का ग्रोथ इंजन, राऊत ने विकास कार्यों को गति देने के लिए पर्यटन विकास को महत्वपूर्ण माना

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राज्य के ऊर्जा व जिले के पालकमंत्री डॉ. नितीन राऊत ने विदर्भ व नागपुर में विकास कार्यों को गति देने के लिए पर्यटन विकास को सबसे महत्वपूर्ण माना है। उन्होंने कहा है कि टूरिज्म ही विदर्भ का ग्रोथ इंजन है। विकास के विजन को सही तरीके से अमल में लाने के लिए काम के तरीके में बदलाव भी आवश्यक है। शनिवार को दैनिक भास्कर कार्यालय में पालकमंत्री ने सदिच्छा भेंट दी। उन्होंने विविध विकास कार्यों के लिए निजी सोच भी साझा की। योजनाओं के नियोजन व अमल को लेकर पिछली सरकार के कार्य व नीति पर भी उन्होंने कटाक्ष किए। प्रस्तुत है चर्चा की खास बातें

मेरा विजन

नागपुर व विदर्भ के ग्रोथ इंजन को समझना होगा। टूरिज्म ही यहां का ग्रोथ इंजन है। बड़े उद्योगों के लिए सागर क्षेत्र अनुकूल रहता है। परिवहन की बेहतर सुविधा रहती है। विदर्भ में इस्पात कारखाना लाने का विचार है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने घोषणा की है कि यहां भिलाई स्टील प्लांट जैसी औद्योगिक इकाई लाई जाएगी। नागपुर व आसपास के क्षेत्र में छोटे उद्योगों के निवेश पर बढ़ावा देने की ओर सरकार का लक्ष्य है। उमरेड क्षेत्र में प्रस्तावित निम्ज जैसी परियोजनाओं के माध्यम से स्थानीय  रोजगार को बढ़ावा मिलेगा।

सीमेंटीकरण की हाेगी समीक्षा

शहर में विकास कार्याें के साथ सीमेंटीकरण की समीक्षा की जाएगी। प्रदूषण नियंत्रण के लिए समय समय पर निर्देश तो जारी होते रहे, लेकिन सीमेंटीकरण से प्रदूषण का किसी ने विरोध नहीं किया। प्रशासन भी चुप रहा। कस्तूरचंद पार्क का स्वरूप बदला जा रहा है। पुरातत्व विभाग वालों ने भी कुछ नहीं कहा। मनपा टैक्स बढ़ाए जा रही है। निजी संस्थाओं को सीधा लाभ पहुंचाया जा रहा है। सारी अनियमितताओं को समझना होगा। मेट्रो रेल का प्रस्ताव कांग्रेस के नेतृत्व की केंद्र सरकार ने रखा था। भूमिगत मेट्रोरेल अधिक उपयुक्त होती। नए निर्माण लिए पुराने निर्माण कार्य को ध्वस्त करके करोड़ों का आर्थिक नुकसान उठाया गया। 

प्राथमिकता

महानगरपालिका व महामेट्रो नागपुर ने लांगेस्ट स्ट्रीट का प्रस्ताव लाया था। पटवर्धन मैदान से यशवंत स्टेडियम तक प्रस्तावित इस योजना को साकार करना है। डॉ.बाबासाहब आंबेडकर स्मारक निर्माण की योजना पर भी चर्चा की गई है। पर्यटन विकास से संबंधित योजनाओं को पहली प्राथमिकता के साथ पूरा करने का  प्रयास करेंगे। 

बिजली परियोजना

पिछली सरकार ने कोराड़ी में  एक और बिजली परियोजना को मंजूरी दी। उसे पूरा करने में कोई विरोध नहीं होना चाहिए। प्रदूषण नियंत्रण का ध्यान रखना ही होगा। ऊर्जा मामले के उच्च स्तरीय अधिकारी  ने जानकारी दी है कि यह परियोजना प्रदूषण मुक्त होगी। कोराड़ी के एक बिजली प्रकल्प में 1 हजार लोगों को प्रत्यक्ष व 3000 लोगों को अप्रत्यक्ष राेजगार मिला है। नए प्रकल्प से भी ऐसे ही रोजगार उपलब्ध होंगे।  विकास योजनाआें के मामले में वास्तविकता के आधार पर सोचने की आवश्यकता है। एसएनडीएल की फ्रेंचाइजी वापस लेने का बिजली सेवा पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। महावितरण इस मामले में सक्षम है। 

विश्वास

मंत्री के तौर पर बेस्ट काम करके बताऊंगा। पहले मंत्री रहते हुए रोजगार गारंटी योजना का आयुक्तालय नागपुर में लाया है। तब मैंने किसी से वादा नहीं किया था। वादा नहीं काम पर विश्वास रखता हूं। सरकारी योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ दिलाने का प्रयास करूंगा। थोड़ा समय अवश्य लगेगा। 

राहत

राेजगार के अभाव में अपराध बढ़ते हैं। आर्थिक धोखाधड़ी बढ़ती है। रुपयों, नौकरी, लोन आदि का लालच देकर ऑनलाइन ठगी होने लगी है। साइबर अपराध पर नियंत्रण के लिए प्रभावी काम करेंगे। शहर में फुटपाथ दुकानदार, चायनीज ठेलाधारकों का आर्थिक शोषण होता है। इन दुकानदारों के कारण दुर्घटना की शिकायतें सुनने को नहीं मिली है। शहर में पार्किग व पार्किंग जोन की व्यवस्था होने तक इन दुकानदारों को कुछ समय के लिए व्यवसाय करने देने से नहीं रोका जाना चाहिए। उन्हें राहत देने के मामले में अधिकारियों से चर्चा की गई है।

कमेंट करें
dXIp7