comScore

थाना परिसर में इनामी आरोपी ने खुद की कनपटीगोली मार ली 

थाना परिसर में इनामी आरोपी ने खुद की कनपटीगोली मार ली 

डिजिटल डेस्क जबलपुर । लंबे समय से फरार तीन हजार के इनामी आरोपी शुभम बागरी ने थाना परिसर में खुद की कनपटी पर गोली मार ली। गोली लगने से गंभीर रूप से घायल आरोपी को आनन-फानन में इलाज के लिए सिटी अस्पताल पहुँचाया गया जहाँ उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है। जानकारों के अनुसार फरार इनामी आरोपी को आईजी की साइबर टीम  द्वारा पकड़ा गया था और थाने पहुुँचते ही उसने खुद को गोली मार ली। घटना की जानकारी लगने पर आईजी ने पूरी टीम को निलंबित कर दिया है। 
सूत्रों के अनुसार सिविल लाइन थाने में शाम पौने 6 बजे के करीब सीएसपी ओमती की मौजूदगी में गणना चल रही थी। उसी दौरान साइबर की टीम पुलिस वाहन में सवार होकर सिविल लाइन थाने पहुँची, वाहन में इनामी आरोपी शुभम बागरी निवासी खेरमाई भी बैठा हुआ था। जैसे ही वह वाहन से उतरा गोली चलने की आवाज से वहाँ मौजूद कर्मियों में भगदड़ मच गयी। वहीं आरोपी खून से लथपथ होकर जमीन पर पड़ा था। उसकी हालत देख तत्काल पुलिस कर्मियों द्वारा उसे सिटी अस्पताल पहुँचाया गया। जानकारों के अनुसार आरोपी की कनपटी में गोली लगी है और उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है। 
पुलिस सूत्रों के अनुसार छेडख़ानी व पास्को एक्ट के आरोपी शुभम बागरी पिता राजा राम बागरी उम्र 25 वर्ष के संबंध में साइबर टीम को सूचना लगी थी कि वह विजय नगर क्षेत्र में घूम रहा है। सूचना के बाद पूरी टीम विजय नगर पहुँची और पतासाजी करते हुए उसे पकड़कर पुलिस वाहन से हनुमानताल थाने ले जा रहे थे। इस बीच टीम को पता चला कि आरोपी शुभम के पास अवैध हथियार है। वाहन में ही पूछताछ किए जाने पर उसने हथियार सिविल लाइन क्षेत्र में एक खंडहरनुमा बँगले में छिपाकर रखना कबूला था। जिसकी तस्दीक के लिए आरोपी को हनुमानताल न ले जाकर पुलिस बल की मदद के लिए सिविल लाइन ले जाया गया था। थाना परिसर में जैसे ही वह पुलिस वाहन से उतरा उसने अपने पास छिपाकर रखे कट्टे से अपनी ही कनपटी पर गोली मार ली। वहीं विभाग में इस बात की भी चर्चा थी कि आरोपी की गिरफ्तारी व गोली चलने को लेकर टीम पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। वहीं आईजी का कहना है कि टीम के जाने की अनुमति नहीं थी और न ही उन्हें सूचना दी गई। 
न तो गिरफ्तारी के सूचित किया गया था और न ही समय उसकी तलाशी ली जाती तो यह घटना नहीं होती।  
थाने में कई प्रकरण दर्ज 
आरोपी के खिलाफ हनुमानताल थाने में अपराध क्रमांक 123 धारा 354, 354डी एवं 7,8 पास्को एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज होने के अलावा हत्या के प्रयास के 4 मामले, आम्र्स एक्ट, मारपीट आदि के मामले दर्ज होकर न्यायालय में विचाराधीन हैं। 
साइबर टीम को हटाया गया 
सूत्रों के अनुसार आईजी की साइबर टीम के एएसआई कपूर सिंह, विशाल सिंह, आरक्षक अमित पटैल, राजेश पांडे, नितिन कुशवाहा आदि शामिल थे और इन्हीं लोगों ने आरोपी को गिरफ्तार किया था। घटना की जानकारी लगने व गिरफ्तारी की प्रक्रिया में लापरवाही उजागर होने पर  आईजी भगवत सिंह चौहान ने सभी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर घटना की जाँच एएसपी संजीव उईके को सौंपी है। 
एएसपी करेंगे घटना की जाँच 
 फरार आरोपी इनामी द्वारा थाना परिसर में खुद पर गोली चलाए जाने की घटना में साइबर टीम को निलंबित करने एवं जाँच का जिम्मा एएसपी को सौंपा गया है। 
भगवत सिंह चौहान, आईजी 
 

[gallery]

कमेंट करें
kMwQZ