दैनिक भास्कर हिंदी: आभूषण व्यापारी की चाकू से गोद कर हत्या, नगदी, मोबाइल और गहने लूटकर ले गए लुटेरे

May 2nd, 2019

डिजिटल डेस्क, सतना। नागौद नगर में बुधवार-गुरुवार की दरम्यिानी रात अज्ञात लोगों ने चाकू से गोदकर आभूषण व्यापारी की निर्मम हत्या कर दी गई। हत्यारे वरदात को अंजाम देने के बाद नगदी, मोबाइल व गहने लूटकर फरार हो गए। इस सनसनी वारदात से पूरे क्षेत्र में सनसनी का महौल है। वहीं व्यापारियों में आक्रोश है।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक नगर के मुख्य बाजार में मेडिकल स्टोर व आभूषण दुकान चलाने वाले सुधीर अग्रवाल पुत्र धन्य कुमार 47 वर्ष रोजाना की तरह बुधवार रात को राष्ट्रीय राजमार्ग-75 पर संचालित लाल बदशाह ढाबा पर गए थे। जहां खाना खाने के बाद तकरीबन 1 बजे एक्टिवा क्रमांक एमपी 19 एमपी 5302 पर सवार होकर घर की तरफ निकल गए। जैसे ही सत्य निकेतन स्कूल के पास पहुंचे, तभी अज्ञात बदमाशों ने रास्ता रोककर चाकू या गुप्ती जैसे धारदार हथियार से ताबड़तोड़ वार कर सुधीर को मौत के घाट उतार दिया और उनके गले से लगभग 8 तोला सोने की चेन, हाथ से ब्रेसलेट, अंगूठी, जेब में पड़े लगभग 50 हजार रुपए और मोबाइल फोन लेकर चम्पत हो गए।

मौके पर ही हो चुकी थी मौत-
करीब 1 बजकर 27 मिनट पर ट्रैक्टर-टैंकर चालक वहां से गुजर रहा था, जिसकी नजर जमीन पर गिरे व्यापारी पर गई तो दुर्घटना की आशंका पर गाड़ी रोककर उनके पास गया, लेकिन जब देखा कि मौत हो चुकी है तो मृतक के चाचा सुरेश अग्रवाल को खबर कर दिया, जिनके द्वारा डायल 100 पर सूचना दी गई तो टीआई अजय सिंह पवार मौके पर आ गए। रात में ही फॉरेंसिक अधिकारी डॉ. महेन्द्र सिंह, फिंगरप्रिंट विशेषज्ञ अजीत सिंह और डॉग स्क्वॉड को भी बुला लिया गया।

पुलिस अब सीसीटीवी कैमरों के फुटेज और मोबाइल के जरिए आरोपियों तक पहुंचने में जुट गई है। वहीं पुलिस ने पुराने झगड़े को देखते हुए कैलाश नामक संदेही को हिरासत में लिया है। दोपहर बाद शव का पोस्टमार्टम कर परिजन को सौंप दिया गया।

हाथ, गले और पेट पर कई घाव-
हत्यारों ने किस निर्ममता से वारदात को अंजाम दिया, इसके प्रमाण सुधीर के शरीर पर नजर आ रहे थे। उनके दोनों हाथों पर आधा दर्जन घाव थे, जो चाकू या गुप्ती के वार को बचाने की कोशिश में लगे तो गले पर एक और पेट में कई घाव थे। एक बार तो पेट को चीरते हुए पीठ तक पहुंच गया था।

पुलिस जगह-जगह कर रही थी चेकिंग-
अपराधियों के दुस्साहस का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि चुनाव के चलते हाइवे पर एसएसटी बैरियर लगाए गए हैं तो बुधवार रात को घटना से करीब एक घंटे पहले ही नागौद टीआई अजय सिंह पवार अपनी टीम के साथ कटन के पास चेकिंग के लिए निकले थे। तब उनके चालक ने उसी ढाबे से पानी लिया था, जहां मृतक खाना खा रहा था। टीआई को पुलिस कप्तान ने प्वाइंट दिया था कि पुलिस मुख्यालय भोपाल में पदस्थ डीएसपी गोरेलाल अहिरवार की हत्या करने वाला आरोपी हिमांशु सिंह बघेल निवासी रीवा गिरफ्तारी से बचने के लिए सड़क मार्ग से रीवा की तरफ आ सकता है। लिहाजा हर रास्ते पर चेकिंग की जा रही थी।

व्यापारियों और समाज में आक्रोश-
इस घटना से व्यापारियों और अग्रवाल समाज में आक्रोश फैल गया है। गुरूवार शाम को वैश्य समाज और व्यापारियों के प्रतिनिधि मंडल ने पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल से मुलाकात कर 48 घंटे के अंदर हत्यारों को गिरफ्तार करने की मांग की है। इसके बाद धरना-प्रदर्शन और सतना बंद करने का ऐलान किया है, वहीं विंध्य चेम्बर ऑफ कामर्स ने भी इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए जल्द से जल्द सच्चाई सामने लाने की मांग रखी है।

प्रतिनिधि मंडल में डॉ. दिनेश अग्रवाल, जय अग्रवाल, रविशंकर गौरी, सौरभ अग्रवाल, निशांत श्रीवास्तव, संजय अग्रवाल, दुर्गेश चौरसिया, अर्पित अग्रवाल, मोहित अग्रवाल, राकेश अग्रवाल, उमंग अग्रवाल आदि शामिल थे। वहीं नागौद में विधायक नागेन्द्र सिंह, पूर्व जिला पंचायत सदस्य यतेन्द्र सिंह पप्पू समेत अन्य मौजूद रहे।