दैनिक भास्कर हिंदी: स्लम एरिया के बच्चों को शिक्षा से जोड़कर उड़ान दे रही एकेडमी ड्राइव

September 5th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। हर बच्चे का सपना होता है कि वह पढ़-लिखकर आगे बढ़े और अपने सपनों को पूरा करे, लेकिन कई बार आर्थिक परिस्थिति सपनों में बाधा बन जाती है। कभी गलत राह की ओर बढ़ते कदम भी इन सपनों को पूरा नहीं होने देते हैं। ऐसे ही सपनों की उड़ान और मंजिल देने के लिए रॉबिन्स ने एकेडमी ड्राइव की शुरुआत की है, जोे स्लम एरिया के बच्चों को शिक्षा की ओर बढ़ा रहे हैं। रॉबिन हुड एकेडमी ने सेमिनरी हिल्स तथा प्रताप नगर के स्लम एरिया में रहने वाले बच्चों के मन में आत्मविश्वास जगाया। रॉबिन्स का कहना है कि शहर के दो एरिया में करीब 90 बच्चों को शिक्षा दी जा रही है।

2 क्षेत्रों में लगती है पाठशाला

रॉबिन हुड एकेडमी द्वारा शहर के 2 क्षेत्रों में पाठशाला आयोजित की जाती है, जिसमें 45 वॉलेंटियर्स काम करते हैं। शनिवार और रविवार को इन बच्चों को वह बेसिक एजुकेशन देते हैं। इसमें 4 से लेकर 16 वर्ष तक के बच्चे हैं। शनिवार शाम 5 से 7 बजे और रविवार सुबह 10 से 12 बजे तक वॉलेंटियर इन्हें पढ़ाते हैं। रॉबिन्स का कहना है कि शहर के कुछ स्कूलों के साथ टाई-अप हुआ है। वे इनका एजुकेशन कंटिन्यू करने में मदद करते हैं। प्रताप नगर के 25 बच्चे हैं, जो स्कूल नहीं जाते हैं। हमारे द्वारा पिछले कुछ महीनों से प्रताप नगर में पाठशाला शुरू की गई है। हमारा प्रयास है कि उन्हें नेक्स्ट सेशन में एडमिशन मिल जाए। 

इंटरव्यू पास हो जाएं

रॉबिन्स का कहना है कि हम छोटे बच्चाें को बेसिक एजुकेशन देते हैं, ताकि अगर वो किसी स्कूल में इंटरव्यू देने जाएं, तो पास हो जाएं। वॉलेंटियर्स को सब्जेक्ट बांट दिया गया है। हिन्दी, इंग्लिश, मैथ्स, जनरल नॉलेज आदि पढ़ाया जाता है। वॉलेंटियर्स में इंजीनियर, डॉक्टर, बिजनेसमैन और स्टूडेन्ट भी हैं। कई बार बच्चे बुक्स भी नहीं ले पाते हैं, तो उन्हें बुक और शालेय सामग्री हम उपलब्ध कराते हैं। 

दो बानगी... परसेंट में सुधार

8वीं कक्षा की सलोनी उके ने बताया कि मैं स्कूल तो जाती थी, लेकिन पढ़ने में बहुत अच्छी नहीं थी। शनिवार और रविवार की क्लास में मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला। मेरे हर सब्जेक्ट में नंबर बढ़िया आने लगे। 9वीं कक्षा के अभिषेक उके ने बताया कि मेरी पढ़ने में कोई खास रूचि नहीं थी, लेकिन जब से रॉबिन्स में पढ़ाना शुरू किया, तो पढ़ने में रुचि बढ़ गई है, जब भैया लोगों को अच्छी पोस्ट पर देखता हंू तो मुझे भी लगता है कि, मैं भी पढ़-लिखकर  बड़ा इंसान बनूं और दूसरे बच्चों को पढ़ाऊं।