मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना के तहत 199 बच्चों का हुआ उपचार: बच्चों की सेवा भगवान की पूजा जैसी क्योंकि ये भगवान का रूप

January 25th, 2023

डिजिटल डेस्क जबलपुर। बच्चे भगवान का रूप होते हैं और कई बार जन्म के समय से ही या जन्म के बाद यह बात पता चलती है कि बच्चे को हृदय संबधी कोई परेशानी है। माता-पिता के मन में चिंता उठती है कि बच्चे की जिंदगी का क्या होगा? ऐसे कई मामले सामने आए तो  मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना  बनाई गई। केवल माता-पिता ऐसे बच्चों का इलाज कराएँ, यह ठीक नहीं है। आज मुझे प्रसन्नता है कि अकेले जबलपुर जिले में 199 बच्चे ऐसे हैं, जिनका इस योजना में उपचार हुआ है। वे बच्चे अब पूर्णत: स्वस्थ हैं। बच्चों की सेवा भगवान की पूजा जैसी है क्योंकि ये तो भगवान रूप हैं। उक्त विचार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को  मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना  के अंतर्गत लाभान्वित बच्चों से संवाद कार्यक्रम में व्यक्त किए। दमोह नाका स्थित कुचैनी परिसर में आयोजित कार्यक्रम में सीएम चौहान ने 100 से ज्यादा लाभान्वित बच्चों के बीच जाकर उनसे बात-चीत की और उत्साहवर्धन किया। कार्यक्रम में सांसद राकेश सिंह, सांसद सुमित्रा बाल्मीक, विधायक अजय विश्नोई, लखन घनघोरिया, सुशील इंदू तिवारी, अशोक रोहाणी, नंदिनी मरावी एवं विनय सक्सेना, जन-अभियान परिषद् के उपाध्यक्ष डॉ. जितेंद्र जामदार, नगर निगम अध्यक्ष रिकुंज विज, पूर्व मंत्री शरद जैन एवं अंचल सोनकर, पूर्व विधायक प्रतिभा सिंह, पूर्व महापौर स्वाति गोडबोले, सदानंद गोडबोले एवं प्रभात साहू, नेता प्रतिपक्ष कमलेश अग्रवाल, सीएमएचओ डॉ. संजय मिश्रा, रेड क्रॉस सोसायटी के उपाध्यक्ष सौरभ बड़ेरिया, सचिव आशीष दीक्षित, व डॉ. सुनील मिश्रा मौजूद रहे।
भांजे-भांजियों को स्वस्थ देखकर खुश
हल्की बूँदा-बाँदी के बीच सीएम बच्चों के बीच पहुँचे और कई सवाल किए। सीएम ने पूछा कि अब तबियत ठीक है? कोई परेशानी तो नहीं? इलाज ठीक से हो गया? जवाब में बच्चों ने एक स्वर में थैंक्यू मामा जी कहा। इसके बाद सीएम ने कहा कि खूब पढ़ो और लिखो, खेलो भी और आगे बढ़ो। मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएँ और आशीर्वाद। चिकित्सकों, जिला प्रशासन और रेडक्रॉस समेत जनप्रतिनिधियों को धन्यवाद देता हूँ कि आप सबके सहयोग से हमारे बच्चे प्रसन्न हैं। अब मैं जाऊँ? तो बच्चों ने फिर कहा थैंक्यू मामा जी, तो सीएम ने भी थैंक्यू के बदले वेलकम कह कर बच्चों से विदा ली।
चिकित्सकों को मिला सम्मान
 मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना  के अंतर्गत मेट्रो अस्पताल में 550 बच्चों के ऑपरेशन हुए हैं। सीएम ने इस बात को मंच से साझा करते हुए अस्पताल के चिकित्सकों डॉ. केएल उमामहेश्वर, डॉ. सुदीप चौधरी और डॉ. सुनील जैन के साथ डायरेक्टर डॉ. राजीव बड़ेरिया को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया। कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन ने इंडियन रेडक्रॉस सोसायटी की ओर से सीएम को स्मृति चिह्न भेंट किया।  

 

खबरें और भी हैं...