दैनिक भास्कर हिंदी: कामकाज में लापरवाही पर सख्त हुए कलेक्टर ,शुरू की कार्यवाही

August 29th, 2017

डिजिटल डेस्क, सतना।  शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन और राजस्व से संबंधित कामकाज में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों के खिलाफ सख्त रवैया अपनाते हुए कलेक्टर ने कार्यवाही की शुरुआत कर दी है। लगातार निर्देश और चेतावनी दिए जाने के बावजूद दायित्व के प्रति संजीदगी न दिखाने पर 7 तहसीलदारों के वेतन पर रोक लगा दी है जबकि एक राजस्व निरीक्षक और दो पटवारियों की वेतन कटौती के आदेश दे दिए हैं। इसके अलावा दो राजस्व निरीक्षकों को भी नोटिस जारी कर जवाब तलब किया गया है।   

खसरा ,बी वन की नहीं दी जानकारी

किसानो को खसरा बी-वन की नि:शुल्क प्रतियां प्रदाय करने के कार्य मे रूचि नहीं लेने और निर्धारित प्रपत्र में जानकारी नहीं उपलब्ध कराने पर कलेक्टर नरेश पाल ने जिले के सात तहसील के तहसीलदारों की अगस्त माह का वेतन रोकने के साथ ही स्पष्टीकरण दो दिवस के भीतर प्रस्तुत करने के निर्देश दिये है। तहसीलदारों को कारण बताओ नोटिस जारी कर कहा गया है कि किसानों को खसरा और बी-वन की नि:शुल्क प्रतियां प्रदाय करने हेतु निर्धारित प्रपत्र पर जानकारी मंगाई गई थी जो मंगलवार तक अप्राप्त है। जानकारी प्राप्त नहीं होने से आयुक्त भू-अभिलेख और बंदोबस्त ग्वालियर के पोर्टल पर दर्ज नहीं किया जा सका है। इस कार्य की उपेक्षा कर लापरवाही बरतने पर सभी सात तहसीलदारों के अगस्त माह का वेतन अग्रिम आदेश तक रोक दिया गया है। साथ ही दो दिन के भीतर स्पष्टीकरण के साथ वांछित जानकारी भी प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये है।  

इनका रुका वेतन

कलेक्टर द्वारा जिन तहसीलदारों के वेतन पर रोक लगाई गई है उनमें तहसीलदार रघुराजनगर बीके मिश्रा, तहसीलदार मझगवां जीतेन्द्र वर्मा, तहसीलदार अमरपाटन बिसन सिंह शामिल हैं। इसी तरह तहसीलदार रामपुर बघेलान आरएन खरेे, प्रभारी तहसीलदार नागौद उचेहरा लक्ष्मीकांत मिश्रा, तहसीलदार मैहर नितिन गौड, प्रभारी तहसीलदार बिरसिंहपुर जगन्नाथ वास्केल के भी अगस्त माह के वेतन पर रोक लगाई गई है। 

डायवर्सन वसूली में लापरवाही

कलेक्टर नरेश पाल ने 2000 से 2017 तक के स्वीकृत डायवर्सन प्रकरणों और वसूली की जानकारी समय पर उपलब्ध नहीं कराने और वसूली के संबंध में प्रभावी कार्यवाही नहीं करने पर संबंधितों के विरुद्ध कार्यवाही शुरू कर दी है। रघुराजनगर तहसील के राजस्व निरीक्षक चन्द्रप्रकाश त्रिवेदी और तहसील नागौद के राजस्व निरीक्षक वीरेन्द्र कुमार द्विवेदी को कारण बताओ नोटिस जारी कर 3 दिवस के भीतर जवाब देने के निर्देश दिये है। शासकीय कार्य मे लापरवाही बरतने और कार्यालय सेे अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहने के आरोप के साथ जारी नोटिस मे कहा गया है कि इस लापरवाही और शासकीय कार्यो के प्रति उदासीनता बरतने पर क्यो न एमपी सिविल सेवा वर्गीकरण नियंत्रण और अपील नियम 1966 के तहत दो वेतन वृद्धि रोकने की कार्यवाही अमल मे लाई जाये। समयावधि मे जवाब नहीं मिलने पर एक पक्षीय कार्यवाही की जायेगी। 

ट्रेनिंग में न जाने पर कटा वेतन 

ई.टी.एस. मशीन से सीमांकन प्रकरण निराकरण के प्रशिक्षण मे अनुपस्थित रहने पर जिले के तीन पटवारियों का एक दिवस का वेतन काट दिया गया है। जिला स्तर पर 16 अगस्त को प्रशिक्षण मे अनुपस्थित रहने पर रघुराजनगर के पटवारी रामदीन कोल, रामनगर के पटवारी मो जावेद और राजस्व निरीक्षक रामकथा नट के एक दिवस का वेतन काट लिया है   है।

जिले के समस्त पटवारियो की बैठक 1 को 

सतना जिले के समस्त पटवारियों  की बैठक एक सितम्बर को दोपहर 2 बजे से टाउन हाल सेमरिया चौक सतना मे आयोजित होगी। कलेक्टर नरेश पाल ने सभी पटवारियों को अभिलेख बस्ते के साथ उपस्थित होने के निर्देश दिये है।

खबरें और भी हैं...