comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

प्रधानमंत्री ने मणिपुर में जल आपूर्ति परियोजना की आधारशिला रखी इस परियोजना से लाखों लोगों को घर पर स्वच्छ पेयजल उपलब्ध होगा

July 24th, 2020 16:48 IST
प्रधानमंत्री ने मणिपुर में जल आपूर्ति परियोजना की आधारशिला रखी इस परियोजना से लाखों लोगों को घर पर स्वच्छ पेयजल उपलब्ध होगा

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। प्रधानमंत्री कार्यालय प्रधानमंत्री ने मणिपुर में जल आपूर्ति परियोजना की आधारशिला रखी इस परियोजना से लाखों लोगों को घर पर स्वच्छ पेयजल उपलब्ध होगा सुगमता बेहतर जीवन की एक आवश्यक शर्त है, गरीबों सहित सभी को ऐसा जीवन जीने का अधिकार है: प्रधानमंत्री Posted On: 23 JUL 2020 1:47PM by PIB Delhi प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मणिपुर में जल आपूर्ति परियोजना की आधारशिला रखी। इस अवसर पर उन्‍होंने कहा कि ऐसे समय में जब कि देश कोविड-19 के खिलाफ अथक संघर्ष कर रहा है, पूर्वी और पूर्वोत्‍तर भारत को भारी बारिश और बाढ़ की दोहरी चुनौतियों से जूझना पड़ रहा है जिसके कारण कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है और कई बेघर हो गए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि मणिपुर सरकार ने लॉकडाउन के दौरान सभी आवश्यक व्यवस्थाएं कीं और प्रवासियों की वापसी के भी पूरे इंतजाम किए। उन्होंने कहा कि मणिपुर में लगभग 25 लाख गरीबों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मुफ्त अनाज मिला है। इसी तरहसे1.5 लाख से अधिक महिलाओं को उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त गैस सिलेंडर की सुविधा दी गई है। 3000 करोड़ रुपये की लागत से कार्यान्वित की जा रही जल आपूर्ति परियोजना का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि यह राज्य में पेयलज की समस्याओं को कम करेगा जिससे विशेष रूप से राज्य की महिलाओं को बड़ी राहत मिलेगी। श्री मोदी ने कहा कि इस परियोजना से ग्रेटर इंफाल के अलावा राज्य के 25 छोटे शहरों और 1700 गांवों को भी लाभ होगा। यह परियोजना अगले दो दशकों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई है। श्री मोदी ने कहा कि इस परियोजना से लाखों लोगों के घर में पीने के साफ पानी की सुविधा उपलब्‍ध होगी और हजारों लोगों को रोजगार भी मिलेगा। प्रधानमंत्री ने पिछले साल 15 करोड़ से अधिक घरों में पाइप लाइन के जरिए पानी की आपूर्ति कराने के लक्ष्‍य के साथ शुरू किए गए जलजीवन मिशन को याद करते हुए कहा कि आज देश में प्रति दिन लगभग एक लाख पानी के कनेक्शन लगाए जा रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि सुगमता जीवन बेहतर जीवन की एक आवश्‍यक शर्त है। गरीबों सहित सभी को ऐसा जीवन जीने का अधिकार है। श्री मोदी ने कहा कि पिछले 6 वर्षों में, हर स्तर पर, हर क्षेत्र में, विशेषकर गरीबों का जीवन स्तर सुधारने के लिए कदम उठाए गए हैं। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की आज के समय मणिपुर सहित पूरा भारत खुले में शौच से मुक्त हो चुका है। उन्होंने कहा कि एलपीजी गैस गरीब से लेकर सबसे गरीब लोगों तक पहुंच गई है, हर गांव अच्छी सड़कों से जुड़ा है और बेघरों को पक्के मकान दिए जा रहे हैं।उन्‍होंने कहा कि प्रत्‍येक परिवार तक पीने का साफ पानी पहुंचाने का काम मिशन मोड पर किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि बेहतर जीवन का संबंध सीधे तौर पर बेहतर संपर्क सेवाओं से है। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में बेहतर संपर्क सेवाएं एक सुरक्षित और सुनिश्चित आत्म-निर्भर भारत के लिए आवश्यक है। उन्होंने कहा कि इससे भारत की एक्ट ईस्ट पॉलिसी को बढ़ावा मिलेगा और यह देश में यात्रा और पर्यटन क्षेत्र के लिए प्रवेश द्वार साबित होगा। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में सड़कें, राजमार्ग, वायुमार्ग, जलमार्ग और आई-वे के साथ-साथ आधुनिक पाइपलाइन के जरिए आधुनिक बुनियादी ढांचे का विकास किया जा रहा है। पिछले 6 वर्षों में, पूरे पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में बुनियादी ढांचे के विकास पर हजारों करोड़ रुपये का निवेश किया गया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्वोत्‍तर के चार राज्यों की राजधानियों, जिला मुख्यालयों को दो लेन की सड़कों और गाँवों को सभी मौसम में इस्‍तेमाल की जा सकने वाली सड़कों से जोड़ने का प्रयास किया गया है। इस काम के लिए लगभग 3000 किलोमीटर सड़कें बिछाई गई हैं और अतिरिक्‍त 60000 किलोमीटर सड़कें बनाने की परियोजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि नए रेलवे स्टेशनों के निर्माण और मौजूदा रेल नेटवर्क को दोहरी लाइन में बदलने की परियोजनाओं के साथ पूर्वोत्तर में रेल संपर्क सेवा के क्षेत्र में बहुत सुधार हुआ है। इसी तरह पूर्वोत्‍तर के हर राज्‍य की राजधानियों को रेल नेटवर्क से जोड़ने का काम पिछले 2 वर्षों से तीव्र गति से चल रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सड़कों और रेल संपर्क के अलावा पूर्वोत्‍तर के लिए हवाई संपर्क सेवा भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। आज पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में लगभग 13 ऐसे हवई अड्डे हैं जो पूरी तरह से काम कर रहे हैं।

कमेंट करें
FCsr3
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।