कूदी रस्सी, साधा गुलेल से निशाना, उठाया पारंपरिक खेलों का आनंद: खेल मंत्री ने थामा बल्ला तो सांसद ने की गेंदबाजी....

January 23rd, 2023

डिजिटल डेस्क जबलपुर। स्वामी विवेकानंद की जयंती से प्रारम्भ हुए 12 दिवसीय सांसद खेल महोत्सव का समापन नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती पर केंद्रीय खेल युवा कार्यक्रम एवं सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर के मुख्य आतिथ्य में रानीताल स्टेडियम में हुआ। कार्यक्रम के दौरान सांसद राकेश सिंह के आग्रह पर केंद्रीय खेल मंत्री श्री ठाकुर ने जबलपुर में 6 करोड़ की लागत से आधुनिक इंडोर स्टेडियम बनाये जाने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि इस सर्व सुविधायुक्त स्टेडियम में 18 तरह के खेलों का आयोजन हो सकेगा।
इस दौरान खेल मंत्री ने क्रिकेट का आनंद भी उठाया। जब खेल मंत्री श्री ठाकुर ने बैटिंग की तो सांसद श्री सिंह ने बॉलिंग की, वहीं खेल मंत्री ने जब गेंदबाजी की तो सांसद ने बल्लेबाजी की। साथ ही मंत्री श्री ठाकुर ने परंपरागत खेलों का आनंद भी उठाया। उन्होंने रस्सी कूदने के साथ ही गुलेल, कंचा, चींटी धप्प, भौंरा, गिल्ली डंडा को भी खेला और उपस्थितजनों का उत्साहवर्धन किया।
समापन कार्यक्रम ट्विटर पर दो घण्टे तक पूरे देश में टॉप थ्री में ट्रेंड करता रहा। इस पर केंद्रीय मंत्री ने बधाई भी दी।
 खेलो इंडिया अभियान में मप्र की अहम भूमिका- खेल मंत्री श्री ठाकुर ने कहा कि देश में अब खेल के क्षेत्र में मध्यप्रदेश की भी अहम भूमिका है, क्योंकि खेलो इंडिया अभियान के अंतर्गत दो तरह के गेम होते हैं खेलो इंडिया यूथ गेम्स और खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स और जिसमें मप्र को खेलो इंडिया यूथ गेम्स की जिम्मेदारी मिली है जिसमें देश भर के खिलाड़ी आयेंगे। उन्होंने कहा कि खेलों में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए हमने खेलो इंडिया वूमेन लीग की शुरुआत की है जिसमें 23 हजार महिलाओं और लड़कियों ने भागीदारी की है। श्री ठाकुर ने कहा देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फिट इंडिया अभियान में नारा दिया है कि \"फिटनेस का डोज - आधा घंटा रोज\" मतलब आप अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आधा घंटा अपने आपको दें।
मलखंब राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर का खेल बने- खेल मंत्री श्री ठाकुर ने कहा खेलो इंडिया यूथ गेम्स में पाँच ट्रेडिशनल गेम्स को शामिल किया गया है जिनमें योगासन, करारे पट्टू, टमटा, गटका और मलखंब प्रमुख हैं और हमारी कोशिश है कि मलखंब जैसा पुरातन खेल केवल किसी क्षेत्र तक सीमित न होकर राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर का खेल बने।

खबरें और भी हैं...