दैनिक भास्कर हिंदी: उजाला योजना : अब तक महाराष्ट्र में बंट चुके हैं दो करोड़ 19 लाख एलईडी बल्ब  

December 27th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। उजाला (उन्नत ज्योति बाई एफोर्डेबल एलईडी बल्ब फॉर ऑल) कार्यक्रम के तहत अब तक देश में 32 करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किए गए हैं। इन एलईडी बल्बों के वितरण से देश में सालाना 3,902 करोड़ केडब्ल्यूएच ऊर्जा की बचत हुई है। इस योजना के तहत महाराष्ट्र में अब तक दो करोड़ 19 लाख एलईडी बल्ब वितरित किए जा चुके हैं। यह जानकारी केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने गुरूवार को लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में दी। सिंह ने बताया कि सार्वजनिक क्षेत्र की एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) ने उजाला कार्यक्रम के तहत अब तक 32 करोड़ एलईडी बल्ब बांटे हैं। यह दुनिया का सबसे बड़ा एलईडी वितरण कार्यक्रम है। इससे लगभग 16 हजार करोड़ रूपये मूल्य की ऊर्जा की बचत हुई है। उन्होने बताया कि अब तक सबसे ज्यादा दो करोड़ 54 लाख से ज्यादा एलईडी बल्ब उत्तरप्रदेश में बांटे गए हैं। दो करोड़ 20 लाख एलईडी बल्ब के साथ आन्ध्रप्रदेश दूसरे नंबर पर है। एलईडी बल्ब वितरण के लिहाज से महाराष्ट्र तीसरे नंबर पर है जहां दो करोड़ 19 लाख एलईडी बल्ब बांटे जा चुके हैं तो मध्यप्रदेश में ऐसे बल्बों की संख्या एक करोड़ 73 लाख 42 हजार है।

मार्च 2019 तक बांटे जाने हैं 77 करोड़ एलईडी 
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 5 जनवरी 2015 को राष्ट्रीय एलईडी कार्यक्रम की शुरूआत की थी। इसका लक्ष्य 31 मार्च 2019 तक 77 करोड़ तापदीप्त बल्बों को एलईडी बल्बों से प्रतिस्थापित करना है। इससे घरेलू उपभोक्ताओं को एलईडी बल्ब उपलब्ध कराने के लिए सभी के लिए सस्ती एलईडी द्वारा उन्नत ज्योति (उजाला) तथा 1.34 करोड़ परंपरागत स्ट्रीट लाइटों तथा ऊर्जा दक्ष स्ट्रीट लाइटों से बदलने के लिए स्ट्रीट लाइटिंग नेशनल प्रोग्राम शामिल है। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि उजाला कार्यक्रम स्वैच्छिक स्वरूप का है और केन्द्र सरकार से किसी बजटीय आबंटन के बिना चलाया जा रहा है।