comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

पत्नी ने प्रेमी और दोस्त के साथ मिलकर की थी पति की हत्या - पुलिस के हत्थे चढ़े तीनों आरोपी

पत्नी ने प्रेमी और दोस्त के साथ मिलकर की थी पति की हत्या - पुलिस के हत्थे चढ़े तीनों आरोपी

डिजिटल डेस्क सतना। प्रेमी और उसके दोस्त के साथ मिल कर पटवारी संदीप सिंह की हत्या के मामले में कोलगवां पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए मृतक की पत्नी प्रियंका सिंह, पत्नी के प्रेमी अनूप सिंह और प्रेमी के दोस्त सनी सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने बताया कि हत्या के इस मामले में सबसे पहले पुलिस के हत्थे चढ़ी पत्नी को जहां सेंट्रल जेल भेज दिया गया है,वहीं हत्या के 2 अन्य आरोपी मंगलवार को सगमनिया से गिरफ्तार किए गए। इन्हें 10 जून को अदालत में पेश किया गया। तीनों आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा- 302, 201, 34 और 120 बी तहत  अपराध दर्ज किए गए हैं।
ऐसे आए गिरफ्त में :-----
एसपी ने बताया कि 31 मई और 1 जून की दरमियानी रात कोलगवां थाना अंतर्गत संतोषी माता मंदिर के पीछे सगौनी में पदस्थ पटवारी संदीप सिंह पिता छोटे लाल सिंह(32) की किराए के मकान की दो मंजिला छत से गिर कर संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु की जानकारी मिलने पर कोलगवां के थाना प्रभारी मोहित सक्सेना के नेतृत्व में पुलिस ने फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वॉड के साथ मौके पर जाकर पड़ताल शुरु की थी।  जांच में ये तथ्य सामने आया कि तकरीबन 30 फिट के ऊंचाई से किसी युवक के नीचे गिरने से उसमें फ्रैक्चर आ सकते हैं,मगर मल्टीपल एन्जुरी शक के दायरे में आ गई। घटना स्थल से उपलब्ध कुछ साक्ष्यों के चलते भी अब ये तय करना कठिन नहीं था कि मौत महज हादसा नहीं है। यहीं से हत्या की आशंका गहराई। पुलिस अधीक्षक के मुताबिक मामले की गंभीरता के मद्देनजर एडीशनल एसपी गौतम सोलंकी और सीएसपी विजय प्रताप के मार्गदर्शन में मुखबिर तंत्र फैलाकर विवेचना आगे बढ़ाई गई तो वारदात के चिन्हित संदेहियों की कड़ी मृतक की पत्नी प्रियंका  से जुड़ गई। मोबाइल नंबरों को सर्विलॉस पर लिया गया तो प्रियंका की संदिग्ध गतिविधियों की भी पुष्टि हो गई। उसे हिरासत में लेकर बारीकी से पूछताछ की गई तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया।
 ऐसे हुआ था खून :----
पूछताछ में मृतक की पत्नी ने पुलिस को बताया कि उसका पति आए दिन उससे मारपीट और झगड़ा करता रहता था। वह बहुत परेशान थी। अपनी दो बेटियों को स्कूल लाने-ले जाने के दौरान वह तकरीबन 3 साल पहले सगमनिया निवासी अनूप सिंह पिता जयबहादुर सिंह (21) के संपर्क में आई थी। दोनों के बीच इश्क हो गया। अनूप भी पति की प्रताडऩाओं से परिचित था। आरोपी पत्नी के हवाले से पुलिस ने बताया कि एक दिन अनूप घर पर ही था कि पति भी आ गया। दोनों के बीच मारपीट और गाली गलौच हुई। दोनों के बीच ये झगड़ा नया नहीं था। उसने बताया कि पटवारी की हत्या की साजिश तीनों ने मिलकर 15 दिन पहले रची थी।
वारदात के 2-3 दिन पहले से अनूप और सगमनिया निवासी सनी सिंह पिता गुलाब सिंह (20) घर के नीचे आकर मौके की तलाश में रहते थे। वारदात की रात 11 बजे पति संदीप सिंह खाना खाकर रोज की तरह मोबाइल लेकर छत पर चला गया। उधर, साजिश के तहत उसकी पत्नी ने मेन गेट का ताला खोलकर अनूप सिंह को घर के अंदर कर लिया। दोनों जब चुपके से छत पर पहुंचे तो संदीप छत की बाउंड्री पर बैठ कर मोबाइल में व्यस्त था। उसने पत्नी और उसके प्रेमी को एक साथ देखा तो भागने की कोशिश की लेकिन इससे पहले की वह संभल पाता अनूप ने उसे धक्का देकर नीचे गिरा दिया। उसका साथी सनी घर के बाहर कहीं छिपा था। उधर, अनूप भागकर नीचे पहुंचा और दर्द से तड़प रहे पटवारी के सिर पर पत्थर से कई प्रहार कर दिए। उसकी वहीं पर मौत हो गई। पति की मौत पर पत्नी ने सनी को भी भाग जाने के लिए मोबाइल पर एसएमएस भेज दिया और 2 घंटे बाद पति की लाश के पास आकर विलाप करने लगी।
 लव मैरिज के बाद कोर्ट में था तलाक का केस :--------
पति की हत्या के आरोप में गिरफ्तार प्रियंका सिंह के हवाले से एसपी रियाज इकबाल ने बताया कि पटवारी संदीप सिंह से उसकी लव मैरिज तकरीबन 5 साल पहले हुई थी। दो बेटियां भी हैं। प्रियंका ने पुलिस को बताया कि उसका पति रीवा की एक महिला पटवारी के संपर्क में था और दोनों ने शादी करने की तैयारी कर ली थी। विरेाध करने पर आए दिन मारपीट करता था। बात इस हद तक बिगड़ चुकी थी कि प्रियंका ने पति से तलाक के लिए कोर्ट में  15 हजार के मासिक गुजारा भत्ता और 25 लाख का क्लेम कर रखा था। प्रकरण अंतिम चरण में था। प्रियंका का आरोप है कि उसने अपनी प्रेमिका के साथ मिलकर उसकी हत्या की साजिश रच रखी थी। उसको आशंका थी कि अगर वो अपने पति को रास्ते से नहीं हटाती है तो वह उसकी हत्या करा देगा।  
 

कमेंट करें
8AoNV
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।