• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Worker's head severed from torso after getting stuck in conveyor belt of BCL Sagmania Mines of Satna

दैनिक भास्कर हिंदी: सतना की बीसीएल सगमनिया माइंस की कनवेयर बेल्ट में फंसने से धड़ से अलग हो गया ठेका श्रमिक का सिर

June 1st, 2021

डिजिटल डेस्क सतना ।  कोलगवां थाना अंतर्गत बीसीएल (बिरला कारपोरेशन लिमिटेड) की सगमनिया माइंस में सोमवार की सुबह कनवेयर बेल्ट की चपेट में आने से एक ठेका श्रमिका का सिर धड़ से अलग हो गया। उधर, घटना की सूचना पुलिस को नहीं देने, माइंस में श्रमिक सुरक्षा के प्रबंधन नहीं होने और सिर वहीन शव को अस्पताल ले जाने से नाराज ग्रामीणों ने माइंस के सुरक्षा पोस्ट पर पथराव कर तोडफ़ोड़ की। पथराव में मौके पर मौजूद 3 वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। कोलगवां थाने के टीआई देवेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि एक जून को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा जाएगा। पुलिस मर्ग कायम कर घटना की जांच कर रही है। आरोप है कि हादसे के बाद जब एम्बुलेंस से श्रमिक रामनरेश पाल का शव एम्बुलेंस ले जाया जा रहा था उसी वक्त एम्बुलेंस के पीछे-पीछे चल रहे मृतक के भतीजे पुष्पेन्द्र पाल को सीमेंट फैक्ट्री के सुरक्षा कर्मियों के वाहन ने कट मार कर बीच रास्ते में गिरा दिया ताकि वह एम्बुलेंस का पीछा नहीं कर पाए। सुरक्षाकर्मी स्कार्पियो नंबर एमपी 19 सीए 3448 में सवार थे। स्कार्पियो का कट लगने से बाइक सवार पुष्पेन्द्र पाल के हाथों में चोंट आई। 
पथराव में क्षतिग्रस्त हो गए 3 वाहन 
 पुलिस ने बताया कि माइंस गेट पर शव को रख कर परिजनों के साथ अन्य ग्रामीणों ने आश्रितों को 25 लाख का मुआवजा, मृतक के 5 बेटों को नौकरी और अंतिम संस्कार के लिए एक लाख की सहायता राशि देने की मांग की। आरोप है कि गेट पर तैनात सुरक्षा प्रहरियों के दुव्र्यवहार पर ग्रामीणों ने पथराव शुरू कर दिया। पथराव में मौके पर मौजूद 3 वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। सगमनिया में हालात तनावपूर्ण होते देख मौके पर एसडीएम सिटी राजेश शाही, सीएसपी विजय प्रताप सिंह और कोगलवां टीआई भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। परिजनों को समझाइश के बद बाद शव जिला अस्पताल लाया गया।  
गमछा फंसने से हादसा 
पुलिस ने बताया कि बीसीएल की सगमनिया लाइम स्टोन क्रेशर में सुबह 8 बजे से 25 वर्षीय ठेका श्रमिक रामनरेश पाल पिता रामजियावन निवासी भटिया कला की ड्यूटी थी। सुबह लगभग साढ़े 10 बजे वह कनवेयर बेल्ट से प्लांट में जाने वाली डस्ट को फावड़े से साफ कर रहा था, इसी बीच उसका गमछा कनवेयर बेल्ट की चपेट में आया और पलक झपकते ही उसका सिर धड़ से अलग होकर मशीन के अंदर जा गिरा। उधर, खबर मिलने पर ठेकेदार शिवेन्द्र सिंह ने आनन फानन में एम्बुलेंस बुलाई और सिर विहीन शव अस्पताल पहुंचा दिया। अन्य श्रमिकों से जब पौने 11 बजे घटना की जानकारी मृतक के छोटे भाई लल्ला पाल को मिली तो वह अन्य परिजनों के साथ माइंस पहुंचा। आरोप है कि सुरक्षा प्रहरियों ने परिजनों को अंदर नहीं जाने दिया। परिजन बिड़ला अस्पताल पहुंचे और सिर विहीन शव को लेकर पुन: माइंस के गेट पर आ गए।