सहवाग और शतक का अजब किस्सा: गाने गाते-गाते बॉल को बाउंड्री पार पहुंचाने में माहिर, सेंचुरी के साथ चलता था फरमाइशी गीतों का प्रोग्राम

October 20th, 2021

हाईलाइट

  • आज 43वां जन्मदिन मना रहे हैं वीरेंदर सहवाग
  • 2011 में लगातार पांच मैच और कुल 6 मैचों में पहली ही गेंद पर जड़ा था चौका
  • 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ किया था डेब्यू

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पहली गेंद पर बिना डरे चौका या छक्का लगाकर टीम को शुरुआत देना, सिर्फ एक ही खिलाड़ी ऐसा कर सकता था और उसका नाम हैं वीरेंदर सहवाग। किशोर कुमार के गाने गाते हुए गेंदबाजों की बैंड बजाना कोई सहवाग से पूछे। विश्व क्रिकेट में विनाशकारी बल्लेबाजों में से एक सहवाग आज अपना 43वां जन्मदिन मना रहे हैं। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सहवाग ने 1999 में डेब्यू किया। उन्हें 2008 में अपने प्रदर्शन के लिए विजडन लीडिंग क्रिकेटर इन द वर्ल्ड के रूप में सम्मानित होने वाले पहले भारतीय बने। इसके अलावा वह भारत, दिल्ली डेयरडेविल्स और दिल्ली रणजी टीम कप्तानी भी कर चुके हैं।  

कैसे 'नजफगढ़ का नवाब' बना 'मुल्तान का सुल्तान'

वैसे तो सहवाग ने कई यादगार पारियां खेली है लेकिन उनकी सबसे यादगार पारी खेली पाकिस्तान के खिलाफ मुल्तान में। 

2004 में पाकिस्तान दौरे पर गई भारत के लिए सहवाग ने तीन मैचों की सीरीज के पहले ही मैच में इतिहास रच दिया। सहवाग 309 रन बनाकर टेस्ट क्रिकेट में तिहरा शतक लगाने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर हैं। इस पारी के दौरान उन्होंने 531 मिनट मैदान पर बिताए जहां उन्होंने 375 गेंदों का सामना करते हुए 39 चौके और 6 छक्के लगाए थे। इस धुआंधर पारी के बाद उन्हें 'मुल्तान का सुल्तान' नाम दिया गया। 

इस पारी के दौरान जब सचिन ने दी उन्हें जान से मारने की धमकी 

मुल्तान की पारी के दौरान एक अजीब किस्सा हुआ, जब सहवाग बल्लेबाजी कर रहे तो उन्होंने 100 रन के अंदर ही 5 छक्के जड़ दिए थे। इसपर सचिन सहवाग के पास आए और उनसे कहा की, "अगर अब तूने छक्का मारा तो, मैं तुझे जान से मार दूंगा।" जिसके बाद सहवाग ने 6वे छक्के के साथ तिहरा शतक पूरा किया। 

सबसे तेज तिहरा शतक पूरा करने का रिकॉर्ड 

सहवाग के नाम टेस्ट क्रिकेट में एक भारतीय खिलाड़ी द्वारा बनाए गए सर्वोच्च स्कोर बनाने का रिकॉर्ड दर्ज हैं। यह कारनामा उन्होंने चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ किया था, जहां उन्होंने  319 रन की नायाब पारी खेली। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इतिहास में सबसे तेज तिहरा शतक यहीं था जहां उन्होंने मात्र  278 गेंदों पर 300 रन का माइलस्टोन पर किया था।