comScore

आईसीसी की गाइडलाइन: चार चरणों में होगी खिलाड़ियों की ट्रेनिंग, मैच से 14 दिन पहले आइसोलेशन कैम्प में रहेंगे खिलाड़ी 

आईसीसी की गाइडलाइन: चार चरणों में होगी खिलाड़ियों की ट्रेनिंग, मैच से 14 दिन पहले आइसोलेशन कैम्प में रहेंगे खिलाड़ी 

हाईलाइट

  • आईसीसी ने चार चरणों में ट्रेनिंग शुरू करने का सुझाव दिया है
  • पहले चरण में खिलाड़ियों को व्यक्तिगत ट्रेनिंग की छूट रहेगी
  • दूसरे फेज में तीन या उससे कम खिलाड़ी एक साथ ट्रेनिंग कर सकेंगे

डिजिटल डेस्क, दुबई। कोरोनावायरस के बाद दुनिया भर में दोबारा क्रिकेट की सुरक्षित वापसी को लेकर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल ने शुक्रवार को गाइडलाइन जारी की है। यह गाइडलाइन घरेलू क्रिकेटरों से लेकर इंटरनेशनल खिलाड़ियों के लिए है। जिसमें ट्रेनिंग, खेल, यात्रा और वायरस से सुरक्षा संबंधी सभी दिशा-निर्देशों को शामिल किया गया है। इसके अलावा गेंद को चमकाने के लिए लार के इस्तेमाल करने पर प्रतिबंध रहेगा। खिलाड़ियों के स्वास्थ्य का ध्यान रखने के लिए चीफ मेडिकल ऑफिसर की नियुक्ति करने को भी कहा गया है। ICC की मेडिकल सलाहकार समिति ने कई विशेषज्ञों के साथ मिलकर इसे तैयार किया है। 

ICC ने चार फेज में ट्रेनिंग शुरू करने के लिए गाइडलाइन तैयार की है। पहले फेज में खिलाड़ियों को व्यक्तिगत ट्रेनिंग की छूट दी गई है, जबकि दूसरे फेज में तीन या उससे कम खिलाड़ी एकसाथ प्रैक्टिस कर सकेंगे। तीसरे फेज में दस से कम खिलाड़ी एक साथ प्रैक्टिस कर सकेंगे। वहीं, चौथे और आखिरी फेज में पूरी टीम एक साथ प्रैक्टिस कर सकेगी। इस दौरान दस या उससे ज्यादा खिलाड़ियों को मैदान पर मौजूद रहने की इजाजत होगी। वह गेंदबाजी के साथ ही बल्लेबाजी की प्रैक्टिस भी कर सकेंगे। हालांकि, इस दौरान भी खिलाड़ियों को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा। 

इसके साथ-साथ गाइडलाइंस में सभी क्रिकेट बोर्ड्स को जरूरी तौर पर स्वास्थ्य जांच, तापमान जांच और कोविड-19 परिक्षण के साथ-साथ मैच से 14 दिन पहले टीम को आइसोलेशन में ट्रेनिंग कैम्प लगाना की भी सिफारिश की है। चिकित्सा अधिकारी और जैव सुरक्षा अधिकारी की नियुक्ति पर भी विचार करने को कहा गया है। जो संबंधित देश द्वारा जारी सरकारी नियमों को लागू करने और ट्रेनिंग व प्रतियोगिता को फिर से शुरू करने के लिए जैव सुरक्षा योजना की जिम्मेदार ले सके।

ICC की गाइडलाइन -

  • खिलाड़ियों को ट्रेनिंग से पहले और बाद में हर तरह के इक्विपमेंट को सैनिटाइज करना जरूरी होगा।
  • गेंद को चमकाने के लिए सलाइवा के इस्तेमाल पर प्रतिबंध रहेगा। 
  • अंपायरों को भी गेंद रखते वक्त ग्ल्वस पहनने को कहा गया है। 
  • गेंद के इस्तेमाल के दौरान हाथ को बार-बार सैनिटाइज करना होगा।
  • खिलाड़ियों को एक दूसरे के क्रिकेट इक्विपमेंट के इस्तेमाल से बचना होगा। 
  • प्रैक्टिस और ट्रेनिंग के वक्त खिलाड़ियों को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा। 
  • कॉमन फैसिलिटी का इस्तेमाल न हो, इसलिए खिलाड़ियों को स्टेडियम में तैयार होने की बजाए घर से तैयार होकर आना होगा। 
  • खिलाड़ियों को किसी भी प्रकार के सेलिब्रेशन के दौरान एकदूसरे के फिजिकल कांटेक्ट में आने से बचना होगा। 
  • एकदूसरे की पानी की बोतल, टॉवेल के इस्तेमाल से भी बचना होगा। 
  • मैच के दौरान खिलाड़ी अपनी कैप, सनग्लासेस या टॉवेल अंपायर या साथी को नहीं दे सकेंगे। 
  • ट्रेनिंग और मैच के दौरान भी खिलाड़ियों का स्वास्थ्य परीक्षण होगा, उनका तापमान भी चेक किया जाएगा। 
कमेंट करें
pAQm9