comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Ind vs SL 2nd T20I : भारत ने श्रीलंका को 7 विकेट से हराया, राहुल ने खेली 45 रन की पारी, शार्दुल ने 3 विकेट झटके


हाईलाइट

  • भारत ने श्रीलंका को टी-20 सीरीज के दूसरे मैच में 7 विकेट से हरा दिया
  • पहले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका ने 20 ओवर में 9 विकेट के नुकसान पर 142 रन बनाए
  • जवाब में भारत ने इस लक्ष्य को 17.3 ओवर में 7 विकेट रहते आसानी से हासिल कर लिया

डिजिटल डेस्क, इंदौर। भारत और श्रीलंका के बीच तीन मैचों की टी-20 सीरीज के दूसरे मैच में भारत ने श्रीलंका को 7 विकेट से हरा दिया है। मंगलवार को इंदौर के होल्कर क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए इस मैच में भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया था। पहले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका ने 20 ओवर में 9 विकेट के नुकसान पर 142 रन बनाए। इसके जवाब में भारत ने इस लक्ष्य को 17.3 ओवर में 7 विकेट रहते आसानी से हासिल कर लिया। भारत की ओर से सबसे ज्यादा 45 रन लोकेश राहुल ने बनाए। शार्दुल ठाकुर ने तीन विकेट झटके। इस जीत के साथ भारत ने सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है।

भारत की पारी
143 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने शानदार शुरुआत की। दोनों सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल और शिखर धवन ने मिलकर पहले विकेट के लिए 9 ओवर में 71 रन जोड़े। वानिंदु हासारांगा ने राहुल (45) को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा। राहुल ने 32 गेंद की पारी में छह चौके लगाए। इसके बाद धवन भी 32 रन बनाकर हसरंगा की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हो गए। अंपायर ने धवन को पहले नॉटआउट करार दिया था, लेकिन मलिंगा ने डीआरएस लिया। डीआरएस में तीसरे अंपायर ने पाया की गेंद सीधी स्टंप्स पर लग रही थी और उन्हें आउट करार दिया। श्रेयस अय्यर ने 26 गेंद में 34 रन की पारी खेली। अपनी इस पारी में अय्यर ने 3 चोके और एक छक्का लगाया। अय्यर को लाहिरू कुमारा ने आउट किया। इसके बाद विराट कोहली (31*) और ऋषभ पंत ने 17.3 ओवर में 7 विकेट रहते भारत को आसानी से जीत दिला दी।

श्रीलंका की तरफ से वानिंदु हासारांगा को 2 और लाहिरू कुमारा को एक विकेट मिला।

श्रीलंका की पारी
इससे पहले टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी श्रीलंका की टीम ने सधी हुई शुरुआत की। दोनों सलामी बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 4.5 ओवर में 38 रन जोड़े। वॉशिंगटन सुंदर ने  अविष्का फर्नाडो (22) को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा। इसके बाद कुशल परेरा मैदान पर आए और दनुष्का गुनाथिलाका के साथ मिलकर स्कोर को 7.4 ओवर में 54 रनों तक पहुंचाया। नवदीप सैनी की एक शानदार गेंद ने गुनाथिलाका (20) की गिल्लियां बिखेरते हुए भारत को दूसरी सफलता दिलाई। तीसरा विकेट ओशादा फर्नांडो का गिरा। फर्नांडो को कुलदीप यादव ने पवेलियन भेजा। वे 9 गेंद पर 10 रन बनाकर ऋषभ पंत के हाथों स्टंप आउट हो गए।

एक छोर से कुसल परेरा शानदार बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन तेज गति से रन बनाने के चक्कर में वे भी अपना विकेट गवां बैठे। परेरा ने 28 गेंद पर 34 रन बनाए। उन्होंने अपनी पारी में तीन छक्के लगाए। कुलदीप की गेंद पर शिखर धवन ने उनका कैच लिया। इसके बाजद दसुन शनाका (9) को नवदीप सैनी ने पंत के हाथों कैच कराया। पारी के 19वें ओवर में भारतीय कप्तान विराट कोहली ने शार्दुल ठाकर को गेंद थमाई। इस ओवर में शार्दुल ने तीन विकेट झटके। उन्होंने धनंजय डी सिल्वा (17), इसुरु उदाना (01) और लसिथ मलिंगा (0) को आउट किया। बुमराह के आखिरी ओवर में वानिंदु हासारांगा (16*) ने तीन चौके जड़े और श्रीलंका को 142 रन के फाइटिंग टोटल तक पहुंचाया। 

भारत की तरफ से शार्दुल ठाकुर को तीन, नवदीप सैनी और कुलदीप यादव को 2-2, जसप्रीत बुमराह और वॉशिंगटन सुंदर को 1-1 विकेट मिला।

मैच फैक्ट
टीम इंडिया ने घरेलू मैदान पर श्रीलंकाई टीम को लगातार छठे मैच में हराया। उसे पिछली बार 2016 में पुणे में 5 विकेट से हार मिली थी। कोहली ने अपनी पारी के दौरान कप्तान के तौर पर टी-20 में 1000 रन पूरे किए।

बिना बदलाव के उतरी दोनों टीमें:
इस सीरीज का पहला मैच रविवार को गुवाहाटी में बारिश और फिर बारसापरा स्टेडियम की बदइंतजामी के चलते रद्द कर दिया गया था। गुवाहाटी में सभी को इंतजार था कि जसप्रीत बुमराह और शिखर धवन की वापसी देखने को मिलेगी, लेकिन बारिश और गीली पिच ने इस इंतजार को इंदौर तक पहुंचा दिया। इस मैच के लिए दोनों टीमों ने अपने अंतिम-11 में बदलाव नहीं किया था।

टीमें:
भारत : शिखर धवन, लोकेश राहुल, विराट कोहली (कप्तान), श्रेयस अय्यर, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), शिवम दुबे, वॉशिंगटन सुंदर, कुलदीप यादव, नवदीप सैनी, शार्दूल ठाकुर, जसप्रीत बुमराह।

श्रीलंका : दनुष्का गुनाथिलाका, अविष्का फर्नाडो, कुशल परेरा, ओसादा फर्नाडो, भानुका राजपक्षा, धनंजय डी सिल्वा, दासुन शनाका, इसुरु उदाना, वानिंदु हासारांगा, लाहिरू कुमारा और लसिथ मलिंगा (कप्तान)।

कमेंट करें
zRe9t
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।