comScore

बर्मिघम टेस्ट: विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल से पहले न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड को हराया, 1-0 से जीती सीरीज

बर्मिघम टेस्ट: विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल से पहले न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड को हराया, 1-0 से जीती सीरीज

हाईलाइट

  • न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड को हराकर 1-0 से जीती सीरीज

डिजिटल डेस्क, बर्मिघम। न्यूजीलैंड ने विश्व टेस्ट चैंपियनशिप से पहले एजबस्टन में खेले गए सीरीज के दूसरे और अंतिम टेस्ट मुकाबले के चौथे ही दिन रविवार को इंग्लैंड को आठ विकेट से हराकर दो मैचों की यह सीरीज 1-0 से जीत ली। इंग्लैंड ने पहली पारी में 303 रन बनाए जबकि न्यूजीलैंड ने पहली पारी में 388 रन बनाए थे और 85 रनों की बढ़त हासिल की थी। इंग्लैंड की दूसरी पारी चौथे दिन के पहले सत्र में 122 रन पर ऑलआउट हुई और उसे 37 रनों की मामूली बढ़त मिली तथा उसने न्यूजीलैंड को जीत के लिए 38 रनों का लक्ष्य दिया।

न्यूजीलैंड ने 10.5 ओवर में दो विकेट पर 41 रन बनाकर लक्ष्य हासिल किया। न्यूजीलैंड की ओर से कप्तान टॉम लाथम 32 गेंदों पर तीन चौकों की मदद से 23 रन बनाकर नाबाद रहे। इंग्लैंड की तरफ से स्टुअर्ट ब्रॉड और ओली स्टोन को एक-एक विकेट मिला। लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड की शुरूआत अच्छी नहीं रही और ब्रॉड ने डेवोन कॉनवे को आउट कर कीवी टीम को पहला झटका दिया। कॉनवे ने चार गेंदों पर तीन रन बनाए। इसके बाद स्टोन ने विल यंग को आउट किया जिन्होंने 31 गेंदों पर एक चौके के सहारे आठ रन बनाए।

इससे पहले, चौथे दिन इंग्लैंड ने नौ विकेट पर 122 रन से आगे खेलना शुरू किया और स्टोन ने 15 और जेम्स एंडरसन ने खाता खोले बिना पारी आगे बढ़ाई लेकिन ट्रेंट बोल्ट ने दिन की पहली ही गेंद पर स्टोन को आउट कर इंग्लैंड की पारी ढेर कर दी। स्टोन ने 54 गेंदों पर दो चौकों की मदद से 15 रन बनाए जबकि जेम्स एंडरसन खाता खोले बिना नाबाद रहे। न्यूजीलैंड की ओर से दूसरी पारी में मैट हेनरी और नील वेगनर ने तीन-तीन विकेट जबकि ट्रेंट बोल्ट और एजाज पटेल को दो-दो विकेट मिले। इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच लंदन के लॉर्ड्स मैदान पर खेला गया पहला टेस्ट मुकाबला ड्रॉ रहा था।

England 1st innings scorecard
 

BatsmenDismissalsRunsBallsFoursSixes
Rory Burnsc Latham b Boult81187100
Dominic Sibleyc Bundell b Henry358450
Zak Crawleyc Mitchell b Wagner0000
Joe Rootc Bundell b Henry4710
Ollie Popec Bundell b Ajaz194910
Dan Lawrencenot out81124130
James Braceyc Mitchell b Boult0100
Olly Stonelbw b Ajaz Patel205220
Mark Woodb Matt Henry418070
Stuart Broadc Blundell b Boult0400
James Andersonlbw b Boult41610

Total: 303-10 in 101 Overs

BowlersOversMaidenRunsWickets
Trent Boult296854
Matt Henry267783
Neil Wagner216681
Daryl Mitchell112230
Ajaz Patel144342


New Zealand 1st innings scorecard
 

BatsmenDismissalsRunsBallsFoursSixes
Tom Lathamlbw b Broad61610
Devon Conwayc Crawley b Broad80143120
Will Youngc Pope b Lawrence82204110
Ross Taylorc Bracey b Stone80139110
Henry Nichollsc Bracey b Wood215610
Tom Blundellc Root b Broad347750
Daryl Mitchellc Crawley b Stone62200
Neil Wagnerb Anderson0300
Matt Henrylbw b Wood121430
Ajaz Patellbw b Broad203330
Trent Boultnot out12930

Total: 388-10 in 119.1 Overs

BowlersOversMaidenRunsWickets
James Anderson299681
Stuart Broad23.18484
Mark Wood253852
Olly Stone245922
Joe Root153450
Daniel Lawrence30161


England 2nd innings scorecard
 

BatsmenDismissalsRunsBallsFoursSixes
Rory Burnsc Latham b Henry0200
Dominic Sibleyc Daryl b Henry81410
Zak Crawleylbw b Henry172720
Joe Rootc Blundell b Ajaz116110
Ollie Popelbw b Wagner232030
Daniel Lawrencec Blundell b Wagner0200
James Braceyb Ajaz Patel21100
Olly Stonec Blundell b Boult155420
Mark Woodc Blundell b Wagner293851
Stuart Broadb Boult1300
James Andersonnot out0700

Total: 122-10 in 41.1 Overs

BowlersOversMaidenRunsWickets
Matt Henry122363
Trent Boult10.12342
Neil Wagner101183
Ajaz Patel94252


New Zealand 2nd innings scorecard
 

BatsmenDismissalsRunsBallsFoursSixes
Tom Lathamnot out233230
Devon Conwayc Bracey b Broad3400
Will Youngb Olly Stone83110
Ross Taylornot out0000
Total: 41-2 in 10.5 Overs
BowlersOversMaidenRunsWickets
James Anderson51110
Stuart Broad41131
Olly Stone1051
Mark Wood0.5080
कमेंट करें
tMuRF
NEXT STORY

क्या है ड्रोन ? देश की सुरक्षा के लिए कितना घातक हो सकता है, जानें सबकुछ

क्या है ड्रोन ? देश की सुरक्षा के लिए कितना घातक हो सकता है, जानें सबकुछ

डिजिटल डेस्क, श्रीनगरजम्मू कश्मीर की सीमा के आसपास ड्रोन की हलचलें लगातार तेज होती जा रही हैं। इसके बाद भारत ने भी ये मुद्दा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठाया है कि ड्रोन की इस तरह की गतिविधियां न सिर्फ भारत बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी सुरक्षा के दृष्टिकोण से घातक साबित हो सकती हैं। इस हमले के बाद से भारत में ड्रोन के इस्तेमाल को लेकर बहस छिड़ गई है। इस रिपोर्ट में जानिए आखिर ड्रोन है क्या और यह कैसे ऑपरेट होते हैं? इसके इस्तेमाल और इससे क्या नुकसान हो सकता है और देश में ड्रोन्स को उड़ाने को लेकर सरकार की क्या गाइडलाइन्स हैं।

ड्रोन क्या होता है?
ड्रोन्स को UAV यानी Unmanned aerial vehicles या RPAS यानी Remotely Piloted Aerial Systems भी कहा जाता है। आम बोल चाल वाली भाषा में इसे मिनी हैलिकॉप्टर भी कहते हैं। अक्सर शादी के दौरान फोटोग्राफी के लिए आपने ड्रोन का इस्तेमाल होते हुए देखा होगा। यह एक ऐसा यंत्र है, जिसमें एचडी कैमरे, ऑनबोर्ड सेंसर और जीपीएस लगा होता है। इसे नियंत्रित करने के लिए एक सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है। इसके चारों और 4 रोटर्स लगे होते हैं, जिनकी मदद से यह आसमान में ऊंचा उड़ने में सक्षम होता है। एक ड्रोन का वजन 250 ग्राम से लेकर 150 किलोग्राम से भी ज्यादा हो सकता है।

ड्रोन को उड़ाने के लिए सॉफ्टवेयर, जीपीएस और रिमोट की आवश्यकता होती है। रिमोट के जरिए ही ड्रोन को ऑपरेट और कंट्रोल कर सकते हैं। ड्रोन पर लगे रोटर्स की गति को रिमोट की जॉयस्टिक के जरिए कंट्रोल किया जाता है। वहीं, जीपीएस दिशाएं बताता हैं, जीपीएस दुर्घटना होने से पहले ही ऑपरेटर को चेतावनी भेज देता है। 

ड्रोन हमले किस तरह से हो सकते हैं?
ड्रोन का इस्तेमाल कई देशों की सेनाएं कर रही हैं, क्योंकि ये साइज में छोटे होते हैं इसलिए रडार की पकड़ में आसानी से नहीं आ पाते हैं, साथ ही दुर्गम इलाकों में भी गुपचुप घुसपैठ कर सकते हैं। यही कारण है कि सेना में इनका इस्तेमाल बढ़ने लगा है।ड्रोन हमले दो प्रकार से संभव हैं। एक तरीका ये है कि ड्रोन में हथियार या विस्फोटक लगा दिए जाते हैं और ड्रोन इन हथियारों या विस्फोटक को लक्ष्य पर ड्रॉप कर देता है। ड्रोन से हमले का दूसरा तरीका है ड्रोन को खुद ही एक विस्फोटक में बदल दिया जाए। 

कितने घातक हो सकते हैं ड्रोन हमले?
ये ड्रोन के प्रकार और पेलोड पर निर्भर है। पेलोड मतलब ड्रोन कितना वजन अपने साथ लेकर उड़ सकता है। ड्रोन की पेलोड क्षमता जितनी ज्यादा होगी वो अपने साथ उतनी ज्यादा मात्रा में विस्फोटक सामग्री लेकर उड़ सकता है। अमेरिका के MQ-9 रीपर ड्रोन अपने साथ 1700 किलो तक वजन ले जाने में सक्षम हैं।

ड्रोन से अबतक के बड़े हमले
2020 में अमेरिका ने ईरानी मेजर जनरल सुलेमानी को मार गिराया था। इससे पहले 2019 में यमन के हूती विद्रोहियों ने साऊदी अरब की अरामको ऑयल कंपनी पर ड्रोन हमला किया था। पाकिस्तान के वजीरिस्तान में 2009 के दौरान एक ड्रोन हमले में 60 लोग मारे गए थे।

देश में ड्रोन्स के इस्तेमाल को लेकर गाइडलाइन्स 
देश में नागरिक उड्डयन मंत्रालय(Ministry of Civil Aviation) ने ड्रोन उड़ाने पर कई तरह के प्रतिबंध लगा रखे हैं। ड्रोन के वजन और साइज के अनुसार इन प्रतिबंधों को कई वर्ग में बांटा गया है।

1.नेनो ड्रोन्स- इसको उड़ाने के लिए लाइसेंस की आवश्यकता नहीं पड़ती।

2.माइक्रो ड्रोन्स- इसको उड़ाने के लिए UAS Operator Permit-I से अनुमति लेनी पड़ती है और ड्रोन पायलट को SOP(Standard operating procedure) का पालन करना होता है। 

इनसे बड़े ड्रोन उड़ाने के लिए डीजीसीए से परमिट(लाइसेंस ) की आवश्यकता होती है। अगर आप किसी प्रतिबंधित जगह पर ड्रोन उड़ाना चाहते हैं तो इसके लिए भी आपको डीजीसीए से अनुमति लेनी पड़ेगी। बिना अनुमति के ड्रोन उड़ाना गैरकानूनी है और इसके लिए ड्रोन ऑपरेटर पर भारी जुर्माने का भी प्रावधान है।

ड्रोन उड़ाने के लिए प्रतिबंधित जगह

  • मिलिट्री एरिया के आसपास या रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इलाका।
  • इंटरनेशनल एयरपोर्ट के 5 किलोमीटर और नेशनल एयरपोर्ट के 3 किलोमीटर का दायरा।
  • इंटरनेशनल बॉर्डर के 25 किलोमीटर का दायरा ।
  • इसके अलावा ड्रोन की कैटेगरी को मद्देनजर रखते हुए इन्हें कितनी ऊंचाई तक उड़ाया जा सकता है वो भी निर्धारित है।

ड्रोन उड़ाने के लिए जरूरी हैं लाइसेंस
नैनो ड्रोन्स को छोडकर किसी भी तरह के ड्रोन्स को उड़ाने के लिए लाइसेंस या परमिट की जरूरत पड़ती है।ड्रोन उड़ाने के लिए लाइसेंस दो कैटेगरी के अंतर्गत दिए जाते हैं, जिसमें पहला है स्टूडेंट रिमोट पायलट लाइसेंस और दूसरा है रिमोट पायलट लाइसेंस।इन दोनों लाइसेंस को प्राप्त करने के लिए ड्रोन ऑपरेटर की न्यूनतम उम्र 18 साल और अधिकतम 65 साल होनी चाहिए। लाइसेंस के लिए ऑपरेटर कम से कम 10वीं पास या 10वीं क्लास के बराबर उसके पास किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से डिग्री होना अति आवश्यक हैं।आवेदन करने वाले व्यक्ति को डीजीसीए स्पेसिफाइड मेडिकल एग्जामिनेशन भी पास करना जरूरी है। लाइसेंस के लिए बैकग्राउंड भी चेक होता है।

जुर्माने का प्रावधान

  • बिना लाइसेंस उड़ाने पर 25000 रुपए का जुर्माना।
  • नो-ऑपरेशन जोन यानी प्रतिबंधित क्षेत्र में उड़ान भरने पर 50000 रुपए का जुर्माना।
  • ड्रोन का थर्ड पार्टी बीमा ना होने पर 10000 रुपए का जुर्माना लग सकता है।