दैनिक भास्कर हिंदी: गौतम गंभीर, कादर खान और तीजन बाई समेत 112 को पद्म पुरस्कार, यहां पढ़ें पूरी सूची

January 26th, 2019

हाईलाइट

  • गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक पद्म पुरस्कारों का ऐलान कर दिया है।
  • पद्म पुरस्कारों को तीन श्रेणियों पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री में दिया जाता है।
  • इस बार चार हस्तियों को पद्म विभूषण, 14 को पद्म भूषण और 94 को पद्म श्री से अलंकृत करने की घोषणा की गई है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक पद्म पुरस्कारों का ऐलान कर दिया गया है। इस बार कुल 112 हस्तियों को पद्म पुरस्कार के लिए चुना गया, जिनमें 21 महिलाएं, एक ट्रांसजेंडर और 11 विदेशी/एनआरआई/पीआईओ/ओसीआई शामिल हैं। 4 को पद्म विभूषण, 14 को पद्म भूषण और 94 को पद्म श्री से अलंकृत करने की घोषणा की गई है। तीन हस्तियों को मरणोपरांत पद्म पुरस्कार के लिए चुना गया है। पद्म पुरस्कारों में क्रिकेटर गौतम गंभीर और फुटबॉलर सुनील क्षेत्री समेत 8 खिलाड़ियों के नाम है जबकि फिल्म जगत से अभिनेता मनोज वाजपेयी, प्रभुदेवा और कादर खान जैसी हस्तियों को चुना गया है।

पद्म विभूषण पुरस्कार विजेता
फोक आर्टिस्ट तीजन बाई, जिबूती के राष्ट्रपति इस्माइल उमर गुलेह, लार्सन एंड टुर्बो (L&T) के चेयरमैन अनिल कुमार मणिभाई नाइक और लेखक बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे को पद्म विभूषण के लिए चुना गया है। छत्तीसगढ़ की तीजन बाई को कला-लोकगायन, जिबूती के इस्माइल उमर गुलेह को लोक प्रशासक, महाराष्ट्र के अनिल कुमार मणिभाई नाइक को व्यापार और औद्योगिक ढांचा और महाराष्ट्र के ही बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे को कला-अभिनय (थिएटर) के क्षेत्र में उतकृष्ट कार्य के चलते इस पुरस्कार के लिए चुना गया है।

पद्म भूषण पुरस्कार विजेता
1- जॉन चेंबर्स -                            व्यापार और उद्योग- तकनीक              अमेरिका

2- सुखदेव सिंह ढींढसा -               पब्लिक अफेयर्स                                पंजाब

3- प्रवीण गोरधन -                       पब्लिक अफेयर्स                                दक्षिण अफ्रीका

4- महाशय धरमपाल गुलाटी -       व्यापार और उद्योग- खाद्य प्रसंस्करण      दिल्ली

5- अशोक लक्ष्मणराव कुकाडे -     मेडिसिन-अफोर्डेबल हेल्थकेयर             महाराष्ट्र

6- करिया मुंडा -                         पब्लिक अफेयर्स                                झारखंड

7- बुधादित्य मुखर्जी -                   कला- संगीत (सितार)                         पश्चिम बंगाल

8- मोहनलाल विश्वनाथन नायर -     कला- अभिनय (फिल्म)                       केरल

9- नंबी नारायण -                        साइंस-इंजीनियरिंग (अंतरिक्ष)               केरल

10- कुलदीप नैयर (मरणोपरांत) -   साहित्य और शिक्षा (पत्रकारिता)           दिल्ली

11- बछेंद्री पाल -                         खेल (पर्वतारोहण)                             उत्तराखंड

12- वीके शुंगलू -                         सिविल सेवा                                      दिल्ली

13- हुकमदेव नारायण यादव -       पब्लिक अफेयर्स                                बिहार

14- दर्शन लाल जैन -                   सामाजिक कार्य                                 हरियाणा

...................

पद्म श्री पुरस्कार विजेता
1- राजेश्वर आचार्य, उत्तर प्रदेश 
2- बंगारू अदिगलार, तमिलनाडु 
3- इलियास अली, असम 
4- मनोज वाजपेयी, महाराष्ट्र 
5- उद्दव कुमार भराली, असम 
6- ओमेश कुमार भारती, हिमाचल प्रदेश 
7- प्रतीम भर्तवान, उत्तराखंड 
8- ज्योति भट्ट, गुजरात 
9- दिलीप चक्रवर्ती, दिल्ली 
10- मामेन चांडी, पश्चिम बंगाल 
11- स्वप्न चौधरी, पश्चिम बंगाल 
12- कमल सिंह चौहान, हरियाणा 
13- सुनील छेत्री, तेलंगाना 
14- दिनयार कांट्रैक्टर, महाराष्ट्र 
15- मुक्ताबेन पंकजकुमार डागली, गुजरात 
16- बाबूलाल दहिया, मध्य प्रदेश 
17- थांगा डारलोंग, त्रिपुरा 
18- प्रभु देवा, कर्नाटक 
19- राजकुमारी देवी, बिहार 
20- भागीरथी देवी, बिहार 
21- बलदेव सिंह ढिल्लों, पंजाब 
22- हरिका द्रोनावल्ली, आंध्र प्रदेश 
23- गोदावरी दत्ता, बिहार 
24- गौतम गंभीर, दिल्ली 
25- द्रौपदी घिमिरे, सिक्किम 
26- रोहिणी गोडबोले, कर्नाटक 
27- संदीप गुलेरिया, दिल्ली 
28- प्रताप सिंह हार्दिया, मध्य प्रदेश 
29- बुलु इमाम, झारखंड 
30- फ्राइडेरिका इरीना (विदेशी), जर्मनी 
31- जोरावरसिंह जादव, गुजरात 
32- एस जयशंकर, दिल्ली 
33- नरसिंह देव जामवाल, जम्मू-कश्मीर 
34- फयाज अहमद जान, जम्मू-कश्मीर 
35- केजी ,जायन, केरल 
36- सुभाष काक, अमेरिका 
37- शरत कमल, तमिल नाडू 
38- रजनी कांत, यूपी 
39- सुदामा काटे, महाराष्ट्र 
40- वामन केंद्र, महाराष्ट्र 
41- कादर खान, कनाडा 
42- अब्दुल गफुर खत्री, गुजरात 
    
43- रविंद्र कोल्हे, महाराष्ट्र 
43- समिता कोल्हे, महाराष्ट्र 
(रविंद्र और समिता को संयुक्त रूप से) 
    
44- बॉम्बायाला देवी लाइश्राम, मणिपुर 
45- कैलाश मदबैया, एमपी 
46- रमेश बाबाजी महाराज, यूपी 
47- वल्लभभाई वसरामभाई मारवानिया, गुजरात 
48- गीता मेहता, अमेरिका 
49- शादाबा मोहम्मद, यूपी 
50- केके मोहम्मद, केरल 
51- श्यामा प्रसाद मुखर्जी मेडिसिन, झारखंड 
52- दैत्री नाइक, ओडिशा 
53- शंकर महादेवन नारायण, महाराष्ट्र 
54- शांतनु नारायण, अमेरिका 
55- नारटकी नटराज, तमिलनाडु 
56- शेरिंग नोरबू, जम्मू-कश्मीर 
57- अनुप रंजन पांडे, छत्तीसगढ़ 
58- जगदीश प्रसाद पारिख, राजस्थान 
59- गणपतभाई पटेल, अमेरिका 
60- बिमल पटेल, गुजरात 
61- हुकुमचंद पाटीदार, राजस्थान 
62- हरविंदर सिंह फूलका, पंजाब 
63- मदुरई चिन्ना पिल्लाई, तमिलनाडू 
64- टीपीलिंच, अमेरिका 
65- कमल पुझारी, ओडिशा 
66- बजरंग पूनिया, हरियाणा 
67- जगत राम, चंडीगढ़ 
68- आरवीरमानी, तमिलनाडू, 
69- देवारापल्ली प्रकाश राव, ओडिशा 
70- अनुप साह, उत्तराखंड 
71- मिलेना सालविनी, फ्रांस 
72- नागिनदास संघवी, महाराष्ट्र 
73- सिरिवेन्नेला सीतारमण शास्त्री, तेलंगाना 
74- शब्बीर शैयद, महाराष्ट्र 
75- महेश शर्मा, मध्य प्रदेश 
76- मोहम्मद हनीफ खान शास्त्री, दिल्ली 
77- ब्रिजेश कुमार शुक्ला, यूपी 
78- नरेंद्र सिंह, हरियाणा 
79- प्रशांति सिंह, यूपी 
80- सुल्तान सिंह, हरियाणा 
81- ज्योति कुमार सिन्हा, बिहार 
82- आनंद शिवमिण, तमिलनाडू, 
83- शारदा श्रीनिवासन, कर्नाटक 
84- देवेंद्र स्वरूप, यूपी 
85- अजय ठाकुर, हिमचाल प्रदेश 
86- राजीव तारानाथ, कर्नाटक 
87- एसतिम्माक्का, कर्नाटक 
88- जमुना टुडु, झारखंड 
89- भारत भूषण त्यागी, यूपी 
90- रामास्वामी वेंकटस्वामी, तमिलनाडू 
91- राम सरन वर्मा, यूपी 
92- स्वामि विशुधानंदा, केरल 
93- हीरा लाला यादव, यूपी 
94- वेंकटस्वरा राव याडलापल्ली, आंध्र प्रदेश

बता दें कि पद्म पुरस्कारों को तीन श्रेणियों पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री में दिया जाता है। यह अवॉर्ड कला, समाज सेवा, लोक मामलों, विज्ञान व इंजीनियरिंग, व्यापार व उद्योग, मेडिसिन, साहित्य व शिक्षा, खेल, सिविल सेवा आदि के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए दिया जाता है। एक साल में अधिकतम 120 लोगों को यह सम्मान दिया जा सकता है। यह सम्मान देने की परंपरा 1954 में शुरू हुई थी। बीच में 1977-1978 और 1993 से 97 के बीच यह पुरस्कार नहीं दिया गया था। साल 2019 के पद्म पुरस्कारों के लिए सरकार को 49,992 नामांकन मिले थे।