comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Bhaskar Special: 6 साल पहले इस क्रिकेटर ने रचा था इतिहास, 19 मिनिट में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी से मचाया था धमाल 

Bhaskar Special: 6 साल पहले इस क्रिकेटर ने रचा था इतिहास, 19 मिनिट में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी से मचाया था धमाल 

हाईलाइट

  • 18 जनवरी 2015 को विलियर्स ने रचा था इतिहास
  • जोहानसबर्ग के मैदान पर रचा इतिहास
  • 31 गेंदों में शतक जड़ दिया था।

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)।  आज (18 जनवरी) से 6 साल पहले 18 जनवरी 2015 को दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज ऐबी डी विलियर्स ने धमाकेदार बल्लेबाजी से क्रिकेट की दुनिया में धमाल मचा दिया था, एक ऐसा रिकार्ड जिसे आज तक कोई नहीं तोड़ पाया है।  उन्होंने यह कारनामा महज 19 मिनिट बल्लेबाजी कर किया था। दरअसल, डी विलियर्स ने एक साल पहले ही 2014 में बनाए गए न्यूजीलैंड के बल्लेबाज कोरी एंडरसन के रिकार्ड को तोड़ दिया था। डी विलियर्स ने वन-डे इंटरनेशनल मैच में जो किया वह आज तक कोई खिलाड़ी नहीं कर पाया है। आइए, एक नजर डालते हैं इस रिकार्ड पर... 


 18 जनवरी 2015 को दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज के बीच जोहानसबर्ग के मैदान पर वन-डे मैच खेला गया था। इस मैच में डी विलियर्स ने सिर्फ 31 गेंदों में शतक जड़ दिया था। इसके पहले यह रिकार्ड न्यूजीलैंड के बल्लेबाज कोरी एंडरसन के नाम था, जिन्होंने 2014 में वेस्टइंडीज के ही खिलाफ 36 गेंदों में 100 रन बनाए थे। 

डी विलियर्स ने 19 मिनिट में 50 रन बनाए और 40 मिनिट में अपना शतक पूरा कर लिया। सेंचुरी मारने के लिए डी विलियर्स ने महज 31 गेंदों का सामना किया। डी विलियर्स ने कुल 44 गेंदें खेली और उन्होंने 149 रन बनाए। इस पारी में उन्होंने 16 छक्के और 9 चौके लगाए। इतना ही नहीं, उन्होंने 16 बाल में सबसे तेज फिफ्टी बनाने का रिकार्ड भी बनाया। इसके पहले श्रीलंका के बल्लेबाज सनत जयसूर्या के नाम यह रिकार्ड था, जिन्होंने 1996 में 17 गेंदों में 50 रन बनाए थे। 

डी विलियर्स ने 16 छक्के लगाए जो किसी भी पारी में सबसे अधिक हैं। वहीं, इस मैच में दक्षिण अफ्रीका के दो अन्य बल्लेबाजों हाशिम अमला और रिले रोसौव ने शतक जड़ा था। यह भी एक रिकार्ड है कि जब एक ही पारी में तीन बल्लेबाजों ने शतक लगाया हो। इसके साथ ही दक्षिण अफ्रीका ने सबसे बड़ा लक्ष्य 439 रनों का खड़ा किया था। जबिक, वेस्टइंडीज की टीम महज 291 रन ही बना सकी थी। 

कमेंट करें
gjQ4C
कमेंट पढ़े
Rohit Dubey January 18th, 2021 15:10 IST

ओ भास्कर वाले चचा... ई "तबाड़तोड़" बल्लेबाजी का होते है बे... आइसी "तबाड़तोड़" तोड़ खबरें न बनाया करो यार... शर्म करलो भास्कर जैसा न्यूज़ पोर्टल इतनी बड़ी-बड़ी गलतियां कर रहा है।

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।