• Dainik Bhaskar Hindi
  • Cricket
  • VVS Laxman recalls incident when Sachin Tendulkar locked himself in physio's room in match against Australia

दैनिक भास्कर हिंदी: क्रिकेट: जब मैच में जल्दी आउट होने पर सचिन ने खुद को फिजियो रूम में कर लिया था बंद ...

April 29th, 2020

हाईलाइट

  • पूर्व दिग्गज बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने बुधवार को सचिन तेंदुलकर से जुड़ा एक किस्सा शेयर किया है
  • लक्ष्मण ने बताया- एक बार सचिन ने खुद को फिजियो रूम में बंद कर लिया था और करीब एक घंटे बाद वह बाहर आए थे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने बुधवार को सचिन तेंदुलकर से जुड़े एक किस्से को साझा किया है। लक्ष्मण ने बताया के एक मैच में खराब प्रदर्शन के कारण एक बार सचिन ने खुद को फिजियो रूम में बंद कर लिया था और करीब एक घंटे बाद वह बाहर आए थे। क्योंकि जिस तरह से वह इस मैच में आउट हुए, उससे वह काफी नाखुश थे। 

दरअसल, लक्ष्मण ने 2 महान खिलाड़ियों सचिन तेंदुलकर और शेन वॉर्न के बीच एक सर्वश्रेष्ठ मुकाबले को याद किया। लक्ष्मण ने 1998 में चेन्नई के एम.ए चिदंबरम स्टेडियम में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए टेस्ट मैच से जुड़ी कुछ बातें शेयर की हैं। उस मैच में भारतीय टीम पहली पारी में केवल 257 रन पर ही ऑल आउट हो गई थी और सचिन ने पहली पारी में केवल 4 रन का ही योगदान दिया था।

सचिन ने खुद को फिजियो रूम में कर लिया था बंद
लक्ष्मण ने क्रिकेट कनेक्टेड कार्यक्रम में कहा, चेन्नई टेस्ट मैच के लिए सचिन ने बहुत अच्छी तैयारी की थी। पहली पारी में वह केवल 4 रन बनाकर ही आउट हो गए थे। उन्होंने एक चौका लगाया था और फिर अगली गेंद पर मार्क टेलर के हाथों लपके गए थे। उन्होंने कहा, मुझे याद है जब सचिन ने खुद को फिजियो रूम में बंद कर लिया था और करीब एक घंटे बाद वह बाहर आए थे। जब वह बाहर आए थे तो उनकी आंखें लाल थी। मुझे ऐसा महसूस हुआ कि, वह बहुत भावुक हैं क्योंकि जिस तरह से वह आउट हुए, उससे वह काफी नाखुश थे।

सचिन ने दूसरी पारी में जड़ा था शतक 
मैच में भारत की पहली पारी के जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी में 328 रन बनाकर 71 रन की बढ़त ले ली थी। लेकिन भारत ने दूसरी पारी में वापसी की और 4 विकेट पर 418 रन बनाकर पारी घोषित कर दी। सचिन ने दूसरी पारी में नाबाद 155 रनों की शतकीय पारी खेली थी।

भारत ने 179 रन से जीता था मैच
लक्ष्मण ने कहा, फिर दूसरी पारी में, सचिन ने जिस तरह से धमाकेदार पारी खेली और शेन वॉर्न का सामना किया, जो लेग स्टंप के बाहर गेंदबाजी कर रहे थे। वॉर्न क्रीज की गहराई का इस्तेमाल कर रहे थे, लेकिन सचिन ने मिड ऑफ और मिड-ऑन पर गेंद को हिट किया और उन्होंने फिर शतक भी लगाया। वॉर्न के साथ यह उनका मुकाबला सर्वश्रेष्ठ रहा है। भारत ने बाद में ऑस्ट्रेलिया को 168 रन पर ऑल आउट कर दिया था और 179 रन से मैच जीत लिया था। सचिन को मैन ऑफ द मैच चुना गया था।

खबरें और भी हैं...