comScore

World Cup 2019: श्रीलंका ने अफगानिस्तान को 34 रनों से हराया, सीजन की पहली जीत

World Cup 2019: श्रीलंका ने अफगानिस्तान को 34 रनों से हराया, सीजन की पहली जीत

हाईलाइट

  • ICC वनडे वर्ल्ड कप के 7वें मैच में श्रीलंका ने अफगानिस्तान को 34 रनों से हरा दिया
  • हले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका की पूरी टीम 36.5 ओवर में 201 रन पर ऑलआउट हो गई
  • डकवर्थ लुईस नियम के हिसाब से अफगानिस्तान को 187 रनों का लक्ष्य मिला था
  • अफगानिस्तान की टीम सभी विकेट खोकर 32.4 ओवर में 152 रन ही बना सकी

डिजिटल डेस्क, लंदन। ICC वनडे वर्ल्ड कप के 7वें मैच में  श्रीलंका ने अफगानिस्तान को 34 रनों से हरा दिया। कार्डिफ के सोफिया गार्डन्स मैदान पर खेले गए इस मैच में अफगानिस्तान के कप्तान गुलबदीन नइब ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया था। बारिश प्रभावित इस मैच को 41-41 ओवर का कर दिया गया था। पहले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका की पूरी टीम 36.5 ओवर में 201 रन पर ऑलआउट हो गई। हलांकि अफगानिस्तान को जीत के लिए डकवर्थ लुईस नियम के हिसाब से 187 रनों का लक्ष्य मिला था। लक्ष्य का पीछा करने उतरी अफगानिस्तान की टीम सभी विकेट खोकर 32.4 ओवर में 152 रन ही बना सकी। श्रीलंका के नुआन प्रदीप को उनकी शानदार गेंदबाजी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। उन्होंने 9 ओवर में 31 रन देकर चार विकेट चटकाए।

स्कोरकार्ड (श्रीलंका)

बल्लेबाजरनगेंद4s6s
दिमुथ करुणारत्ने कै. नजीबुल्ला बो. मोहम्मद नबी304530
कुसल परेरा कै. मोहम्मद शहजाद बो. राशिद खान788180
लाहिरू थिरिमाने बो. मोहम्मद नबी253410
कुसल मेंडिस कै. रहमत शाह बो. मोहम्मद नबी2200
एंंजेलो मैथ्यूज कै. रहमत शाह बो. मोहम्मद नबी0200
धनंजय डिसिल्वा कै. शहजाद बो. हामिद हसन0400
थिसारा परेरा रन आउट (हसमतउल्ला/शहजाद)2400
इसरू उडाना बो. दौलत जादरान102101
सुुरंगा लकमल नॉटआउट151320
लसिथ मलिंगा बो. दौलत जादरान41410
नुआन प्रदीप बो. राशिद खान0400

रन : 201/10, ओवर : 36.5, एक्स्ट्रा : 35
विकेट पतन : 1-92, 2-144, 3-146, 4-146, 5-149, 6-159, 7-178, 8-180, 9-199, 10-201

गेंदबाजी : दौलत जादरान 6-0-34-2, हामिद हसन 7-0-53-1, मुजीब उर रहमान 3-0-19-0, मोहम्मद नबी 9-0-30-4, गुलबदीन नईब 4-0-38-0, राशिद खान 7.5-1-17-2

स्कोरकार्ड (अफगानिस्तान)

बल्लेबाजरनगेंद4s6s
मोहम्मद शहजाद कै. करुणारत्ने बो. मलिंगा71210
हजरतउल्ला जजाई कै. थिसारा बो. प्रदीप302531
रहमत शाह कै. मैथ्यूज बो. उडाना21100
हसमतउल्ला शाहिदी कै. कुसल परेरा बो. प्रदीप41700
मोहम्मद नबी बो. थिसारा परेरा111610
गुलबदीन नईम एलबीडब्ल्यू बो. नुआन प्रदीप233220
नजीबुल्ला जादरान रन आउट (करुणारत्ने)435660
राशिद खान बो. नुआन प्रदीप2400
दौलत जादरान बो. लसिथ मलिंगा61810
हामिद हसन बो. लसिथ मलिंगा6501
मुजीब उर-रहमान नॉटआउट1100

रन : 152/10, ओवर : 32.4, एक्स्ट्रा : 17
विकेट पतन : 1-34, 2-42, 3-44, 4-57, 5-57, 6-121, 7-123, 8-136, 9-145, 10-152

गेंदबाजी : लसिथ मलिंगा 6.4-0-39-3, सुरंगा लकमल 6-0-27-0, इसुरू उडाना 6-0-28-1, नुआन प्रदीप 9-1-31-4, थिसारा परेरा 4-0-19-1, धनंजय डिसिल्वा 1-0-7-0

टीमें :
श्रीलंका : दिमुथ करुणारत्ने (कप्तान), लाहिरू थिरिमाने, कुसल परेरा (विकेटकीपर), कुसल मेंडिस, एंजेलो मैथ्यूज, धनंजय डिसिल्वा, नुआन प्रदीप, थिसारा परेरा, इसुरू उडाना, सुरंगा लकमल, लसिथ मलिंगा।

अफगानिस्तान : गुलबदीन नइब (कप्तान), हजरतउल्ला जजाई, रहमत शाह, हसमतउल्ला शाहिदी, मोहम्मद नबी, नजीबुल्ला जादरान, राशिद खान, दौलत जादरान, मुजीब उर रहमान, हामिद हसन।
 

कमेंट करें
4qU61
NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।