दैनिक भास्कर हिंदी: मूलांक 5 वाले व्यक्ति  किसी से भी काम निकलवाने में माहिर होते हैं

May 31st, 2018

डिजिटल डेस्क । जिन व्यक्तियों का जन्म किसी भी महीने की 5, 14, 23 तारीख को हुआ हो उसका मूलांक 5 होता है। मूलांक 5 का स्वामी बुध ग्रह है जो ज्ञान और बुद्धि का प्रतीक है। मूलांक 5 के लोग वाकपटुता वाले होते हैं। अपनी इसी कला के बल पर ये किसी भी व्यक्ति से पलभर में दोस्ती कर लेते हैं। ये अपने शत्रु को भी मित्र बनाने की क्षमता रखते हैं और किसी से भी अपना काम निकलवा सकते हैं। मूलांक 5 वाले व्यक्ति किसी भी परिस्थिति में खुद को ढालने की क्षमता रखते हैं। परिस्थितियां चाहें इनके कितना भी विपरीत हों ये घबराते नहीं हैं, बल्कि इसके विपरीत उसके अनुसार आगे की योजना तैयार करते हैं।

मूलांक 5 वाले जातकों पर बुध ग्रह का प्रभाव रहता है, इसीलिए ये बहुत बुद्धिमान होते हैं। ये सदा नई-नई योजनाओं के बारे में सोंचते हैं, साथ ही इसे उपयोग में लाने के लिए प्रयास करते हैं। ऐसे व्यक्ति बहुत साहसी होते हैं। ये किसी भी चुनौती का डटकर मुकाबला करते हैं। विषम परिस्थिति में उसका हल निकालने के लिए वे प्रयासरत रहते हैं। वे अधिकतर समस्याओं का हल अपनी बुद्धि से निकालते हैं।

बुध ग्रह के चलते ऐसे जातक दिमागी तौर पर बहुत मजबूत होते हैं। ये चीजों को ज्यादा बेहतर ढंग से समझते हैं। इसी कारण वे किसी के भी बारे में सोचकर न ज्यादा खुश होते हैं, न ही दुखी। तभी वे चिंता जैसी गंभीर समस्या से भी बचे रहते हैं। मूलांक 5 वाले लोग जीवन में खतरा उठाने से नहीं डरते। उनकी यही निडरता व्यापार में बहुत काम आती है। ये समय के अनुसार व्यवसाय में नए-नए परिवर्तन करते हैं। जिसका उन्हें खूब लाभ मिलता है। ये व्यापार में काफी सफल होते हैं।

मूलांक अंक 5 वाले जातक पढ़ने में बहुत अच्छे होते हैं। बुध ग्रह के प्रभाव के कारण ये व्यक्ति उच्च शिक्षा प्राप्त करते हैं। इनकी रुचि नये-नये काम  सीखने में होती है। और ये जल्दी ही कई भाषाएं सीख जाते हैं। इसके अलावा ये धार्मिक ग्रंथों और गुप्त विद्याओं का भी ज्ञान रखते हैं। ऐसे लोग जीवन में बहुत आगे बढ़ते हैं। वे अपनी रचनात्मकता और निडरता के कारण अपने कार्य में अपार सफलता प्राप्त करते हैं। ये सुख-शांति और विलासिता से जीवन जीते हैं। उन्हे धन-धान्य की कोई कमी नहीं होती है।

वेसे तो ऐसे जातक किसी को भी अपना मित्र जल्दी बना लेते हैं, लेकिन ये मित्रता अस्थायी होती है। भाई-बहनों व रिश्तेदारों से इनका रिश्ता सामान्य रहता है। वहीं मूलांक 1,3,4,5,7 और 8 वाले लोगों से इनकी मित्रता अच्छी रहती है। 5 अंक वाले जातक हर काम मस्तिष्क से करते हैं। वे प्रेम को भी फायदे, नुकसान के नजरिए से देखते हैं। वे धन देखकर उस शख्स से प्रेम करते हैं। ये जल्दी ही दूसरों की तरफ आकर्षित हो जाते है। इनकी अरेंज मैरिज ठीक रहती है, लेकिन संतान से इन्हें कष्ट मिलता है। ऐसे लोग कई रोगों से ग्रस्त होते हैं। उन्हें नींद न आने, बदन दर्द, बदहजमी, सिर दर्द, नाक-आंख में दिक्कत जैसी परेशानियां रहती है। इसी के कारण ये ज्यादा सोचते है। दिमाग को अधिक व्यस्त रखने से उन्हें   दिमाग से  संबंधित बीमारियां भी हो जाती हैं।