धर्म: ज्येष्ठ पूर्णिमा पर करें चंद्र दर्शन, दूर होगा चंद्रदोष, संतान सुख के लिए ये उपाय करने से घर में गूंजेगी किलकारी

June 9th, 2022

डिजिटल डेस्क,भोपाल। हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार की पूर्णिमा 14 जून दिन मंगलवार को पड़ रही है। पूर्णिमा के दिन चंद्र देव की पूजा- अर्चना की जाती है। इस दिन व्रत पूजन करने से चंद्र दोष दूर होता है। पूर्णिमा के दिन व्रत करने से पितृदोष से भी मुक्ति मिलती है। संतान सुख भी प्राप्त होता है। चंद्र भगवान को शीतलता का देवता माना जाता है। इसलिए विधि-विधान से चंद्रमा की पूजा करने से आप के ग्रह दोष शांत हो जाते हैं। आप के जीवन में सुख-शांति, धन, वैभव और यश की प्राप्ति होती है। पूर्णिमा को चंद्रमा की पूजा से व्यक्ति को विशेष लाभ की प्राप्ति होती है।

पूर्णिमा की तिथि और शुभ मुहूर्त

पूर्णिमा की तिथि 14 जून दिन मंगलवार को मनाई जाएगी। पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त दोपहर 11 से 1 बजे तक का होगा। पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय का समय शाम 7 बजकर 30 मिनट है। इस वक्त चंद्रदेव की पूजा का विशिष्ट लाभ प्राप्त होगा। 

पूर्णिमा व्रत पूजा विधि 
इस दिन आप सुबह-सुबह स्नान करके व्रत रखें। शाम के वक्त चंद्र दर्शन करके ही व्रत का पारण किया जाना चाहिए। इस दिन अगर आप सत्यनारायण की व्रत कथा सुनते हैं या बांचते हैं तो आप को और लाभ प्रात होता है। इस दिन अगर आप माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं, तो मां लक्ष्मी की पूजा अर्चना करनी चाहिए। कहा जाता है कि चंद्रमा का दर्शन करने से चंद्र दोष दूर हो जाता है। 

ये करें उपाय
पूर्णिमा के दिन आप को एक लोटे में पानी लेकर उसमें दूध, शक्कर, अक्षत और फूल डालकर चंद्र भगवान को अर्घ्य देना चाहिए। ऐसा करने से महिलाओं को संतान सुख मिलता है। इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए बरगद के पेड़ की पूजा करती हैं।


डिसक्लेमर- ये जानकारी अलग अलग किताबों और अध्ययन के आधार पर दी गई है। भास्कर हिंदी इसकी पुष्टि नहीं करता है।

खबरें और भी हैं...